कैसे जाने किसी जातक के होंठ से उसका स्वभाव,स्वास्थ एवम भविष्य

समुद्रशास्त्र में बताया गया है कि किसी भी स्त्री और पुरुष को उनके होंठ देखकर यह बताया जा सकता है कि उनका स्वास्थ्य कैसा है और उनके अंदर कामेच्छा कितनी है। 

सामुद्रिक शास्‍त्र में अंगों की बनावट के आधार पर स्‍वभाव और भविष्‍य के बारे में बताया जाता है। इनमें होंठों की बनावट के अनुसार स्त्री-पुरुषों के स्वभाव, गुण और वैवाहिक जीवन का भी जिक्र किया गया है। 

होंठों को देखकर यह भी जाना जा सकता है कि व्यक्ति के जीवन में धन और सुख की स्थिति कैसी रहेगी। तो आइये देखें होंठ और जानें किसके अंदर कैसी कामेच्छा है और कौन कितना धनी और सुखी होगा।

मैं ऐसा केवल ज्योतिष के आधार पर नहीं कह रहा हूं बल्कि मनौवैज्ञानिकों का दावा है कि किसी मनुष्य के चेहरे के विन्यास से उसके व्यक्तिगत लक्षणों, मसलन अपराध में किसी के शामिल होने के प्रति झुकाव या किसी नौकरी विशेष के प्रति रवैया आदि का पता चल जाता है। अत: यदि आप ज्योतिष, सामुद्रिक या फिर अंग लक्षण शास्त्र में रुचि रखते हैं तो भी आपके लिए यह लेख उपयोगी हो सकता है।

हिन्दुओं में कई प्रकार के प्राचीन ग्रंथ,शास्त्र आदि की रचना हजारों वर्ष पूर्व की गई, जिसकी मदद से ​जीवन जीने के तरीके से लेकर व्यक्ति के व्यवहार तक का पता लगाया जा सकता है।

इन्हीं शास्त्रों में से एक सामुद्रिक शास्त्र भी है। कहा जाता है इसका नामकरण समुद्र ऋषि द्वारा इस ग्रन्थ को प्रचारित करने के कारण किया गया है।

पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार ऐसा माना जाता है की समुद्र ऋषि का भविष्य कथन इतना सटीक निकलता था की उनके उपरान्त विद्वानों में समुद्र के वचन की साक्षी दी जाने लगी। अतः ज्योतिष आदि के ग्रंथों में श्लोकों के अंत में अपनी बात पर जोर देने के लिए ‘समुद्रस्य वचनं यथा’ जैसे वाक्य मिलते हैं। 

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री जी बताते हैं को भले ही आज समुद्र ऋषि प्रणीत यह ग्रन्थ अपने वास्तविक रूप में प्राप्त नहीं है। लेकिन वराह मिहिर आदि आचार्यों ने समुद्र के नाम का उल्लेख कई जगह किया है। वर्तमान समय में ‘सामुद्रिक तिलक’, भविष्य पुराण का स्त्री पुरुष लक्षण वर्णन, इत्यादि सामुद्रिक शास्त्र से सम्बंधित ग्रन्थ उपलब्ध हैं।

दरअसल समुद्र शास्त्र के अनुसार किसी भी व्यक्ति का चेहरा एक खुली किताब की तरह होता है, जिसके माध्यम से उसके व्यक्तित्व व स्वभाव के बारे में काफी कुछ आसानी से जाना जा सकता है।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि जब आप पहली बार किसी व्यक्ति से मिलते हैं तो उसके बारे में कोई भी जानकारी न होने के कारण आपको उनके साथ घुलने-मिलने में परेशानी या असहजता होती है लेकिन यदि उसके विषय में खास बातें मालूम हो जाएं तो आपको उसके साथ घुलने मिलने में आसानी रहेगी। ज्योतिष की सामुद्रिक विद्या के अनुसार कुछ ऐसे संकेत बताए गए हैं, जिनसे व्यक्ति का स्वभाव और खास बातें मालूम हो जाती हैं।

किसी भी व्यक्ति से मिलते समय सबसे पहले हमारी नजर उसके चेहरे पर पड़ती है उस व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कुराहट देखकर हमें प्रसन्नता होती है। इस मुस्कुराहट में अहं भूमिका निभाते हैं होंठ, इन्हीं होंठों को ध्यान से देखकर किसी भी स्त्री या पुरुष के स्वभाव को समझा जा सकता है। किसी भी व्यक्ति के होंठों को देखकर ये आसानी से बताया जा सकता है कि वह व्यवहार, आचार-विचार और कार्यक्षेत्र में कैसा होगा। 

यदि होंठों को ध्यान से देखा जाए तो कुछ बातें आसानी से समझ में आ जाती हैं। जैसा कि आप जानते ही होंगे कि सभी लोगों के होंठ अलग-अलग प्रकार के होते हैं। अलग-अलग प्रकार के होंठों से ही उस व्यक्ति के व्यक्तित्त्व के बारे में जाना जा सकता है।

यदि आप इस पूरे लेख को अगर आप ध्यान पूर्वक पढेंगे तो आसानी से किसी स्त्री के मात्र अंगों की बनावट देख कर ही उनके बारे में बहुत कुछ जान सकते हैं।

जैसे उनका स्वभाव, उनका चरित्र, भाग्य और भी बहुत कुछ । पर ये जरूरी नहीं कि इस लेख की हर बात हर स्त्री जातक पर सत्य या प्रामाणिक हो ।यह लेख मनोविज्ञान एवम सामुद्रिक शास्त्र का समन्वय हैं।

शुभ होंठों के लक्षण–

होंठों पर तिल वाले जातक किसी को भी अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं।

जिन जातकों के होंठ एक दूसरे पर अच्छी तरह बैठे हों। ऐसे जातक बहुत सुंदर तथा भाग्यशाली होते हैं।

लंबे होंठों वाले जातक ऐशो-आराम से भरपूर जीवन व्यतीत करते हैं।

जिन जातकों के होंठों के बिल्कुल नीचे तिल होता है वह परिश्रमी होते हैं।

होंठ फड़कें तो समझें आने वाले समय में आपको कोई मन भावन वस्तु मिलेगी अथवा प्रिय व्यक्ति से मिलन होगा।

जानिए अशुभ होठों के लक्षण—

खुलें होठों वाले जातकों का स्वभाव और भाग्य रहस्यमय हो सकते हैं।

बाहर को उभरे हुए मोटे होठों पर यदि काले धब्बे हों तो ऐसे जातक भाग्य के कमजोर होते हैं।

होंठों पर विद्यमान खड़ी रेखा भी भाग्य अवरोधक मानी गई है।

छोटे होंठों वाले जातकों का जीवन दुर्भाग्यपूर्ण होता है।

काले और खुरदुरे होंठों वाले जातक भाग्यहीन होते हैं।

सूखे काली रंगत धब्बेदार, कटे-फटे तथा मोटे होंठ वाला व्यक्ति धन के अभाव से ग्रस्त रहता है।

संकुचित होंठ – ऐसे होंठ छोटे व पतले होते हैं, इनमें कोई रंग नहीं होता। जिन लोगों के होंठ ऐसे होते हैं, वे आमतौर पर दिखावा करने वाले होते हैं। ये सोचते हैं जो ये कर रहे हैं, वही ठीक है। ये थोड़ा कम बोलते हैं। इसलिए कई बार इन्हें घमंडी भी समझ लिया जाता है।

मोटे होंठ – अधिक थुलथुले, मांस से भरपूर होंठ जो देखने में बदसूरत लगते हैं। जिन लोगों के होंठ ऐसे होते हैं वे क्रोधी स्वभाव के होते हैं। कभी-कभी ये बहुत भावुक भी हो जाते हैं। इनका स्वभाव थोड़ा जिद्दी होता है।

रसिक होंठ – ऐसे होंठ लाल रंग के, चिकने व दिखने में कलात्मक होते हैं। जिन लोगों के होंठ ऐसे होते हैं, वे दिखने में सुंदर व आकर्षक होते हैं। इनके स्वभाव में अपनापन होता है। ये अपने जीवन में हर सुख प्राप्त करते हैं। इन्हें अपने जीवन में कई उपधब्धियां भी मिलती हैं।

जंगली होंठ–

जिनके होंठ जंगली यानी लंबे व बड़े मुंह वाले हों, वो जरूरत से ज्‍यादा ख्‍याति प्राप्‍त करती हैं। बिना कोई ज्‍यादा प्रयास किये ही आकर्षण का केंद्र बन जाती हैं। बिजनेस में सफलता मिलती है और खास तौर से मनोरंजन जगत में ये ख्‍याति प्राप्‍त करती हैं। हालांकि अपनी सफलता के लिये अपने अंदर के जंगली व्‍यवहार को दबाना पड़ता है।

चेरी के समान होंठ–

यदि किसी के होंठ सुर्ख लाल व ऊपर की ओर उठे हुए, व हलके गोलाकार हों, बिलकुल चेरी के समान, तो ऐसी महिलाओं की इच्‍छाएं कभी खत्‍म नहीं होतीं। हर चीज पाने की प्रबल इच्‍छा रखने वाली ये महिलाएं बेहद परफेक्‍ट होती हैा और बुद्धिमान भी। साथ ही दूसरों को समझने की क्षमता अधिक होती है। मित्रों व जीवनसाथी के प्रति बेहद वफादार होती हैं। ये दूसरों की काउंसिलिंग बहुत ही अच्‍छे ढंग से करती हैं। ये प्रभावशाली होती हैं।

ज्वलंतशील होंठ–

बड़े व हलके चौड़े होंठ, जो सामने वाले को एकदम से आकर्षित करें, या यूं कहिये कि प्रेम की आग पैदा करें ऐसी महिलाएं बहुत रिजर्व रहती हैं। लेकिन हां प्रेम के मामले में ये अपने लाइफपार्टनर को कभी किसी भी मामले में निराश नहीं करतीं।

आग की टिप जैसे होंठ–

पतले होंठ जो आगे की ओर झुके हों, मुंह बंद करने पर दोनों होंठों के बीच हलका सा गैप दिखाई दे, ऐसी महिलाएं स्‍वतंत्र रहना पसंद करती हैं। ये किसी के दबाव में आकर कोई काम नहीं करतीं। ये स्त्रियां बेहद ईमानदार होती हैं।

लाल होंठ – इस प्रकार के होंठ कर्मठता के प्रतीक होते हैं। जिन लोगों के होंठ ऐसे होते हैं, वे जल्दी गुस्सा होने वाले व साहसी होते हैं। ये लोग वो काम भी आसानी से कर लेते हैं, जो दूसरों के लिए मुश्किल होता है। ये अपने काम के प्रति ईमानदार होते हैं।

दोनों होंठ समान और सुंदर- ऐसा व्यक्ति सत्यप्रिय, सुशील एवं सज्जन वृत्ति का होता है। वह कोमल शब्दों से युक्त मीठी वाणी का प्रयोग करता है। परहितकारी तथा भाग्यशाली जीवन व्यतीत करने वाला होता है।

दोनों होंठ मोटे- ऐसा व्यक्ति मुंहफट होता है। अंतरमन में कोई रहस्य छिपाकर नहीं रखता। खानपान में विशेष रुचि रखता है। पेटु जैसा होता है।

दोनों होंठ पतले- ऐसा व्यक्ति सरल चित्त होता है। संघर्ष से उन्नति करता है। ढलती आयु में हर प्रकार का सुख भोगता है।

ऊपर का होंठ भारी- ऐसा व्यक्ति प्रभावशाली होता है, स्वादिष्ट भोजन की लालसा रखता है तथा गंभीर प्रवृत्ति का होता है।

निचला होंठ भारी- अहंकारी वृत्ति का प्रतीक है। ऐसा व्यक्ति अपनी बात मनवाने के लिए कुछ भी कर सकता है। दूसरों का दुख सुनकर या देखकर आंतरिक प्रसन्नता अनुभव करता है। सहनशील नहीं होता।

रक्तिम ओंठ- शौर्य, वीर्य और उत्साह के द्योतक हैं। ऐसे नर-नारी काम लालसा का भरपूर लाभ प्राप्त करते हैं। ऐश्वर्यशाली एवं धनवान होते हैं।

काले ओंठ- कपट तथा संघर्ष का प्रतीक है। ऐसे व्यक्ति मिथ्यावादी होते हैं तथा सदा दुख भोगते हैं।

गुलाबी होंठ – गुलाबी होंठो वाले लोग व्यवहार कुशल, अच्छी सोच वाले व तीव्र बुद्धि वाले होते हैं। ऐसे लोग किसी को भी एक ही मुलाकात में अच्छा दोस्त बना लेते हैं। ये दोस्ती निभाने में विश्वास रखते हैं। इनके जीवन में कभी किसी चीज की कमी नहीं होती। ऐसे होंठ अक्सर महिलाओं के होते हैं।

उभरे हुए होंठ – जिनके होंठ उभरे हुए होते हैं, ऐसे लोग आमतौर पर मांसाहारी व छोटी बुद्धि वाले होते हैं। ये स्वयं को बहादुर दिखाते हैं, लेकिन अंदर से डरपोक होते हैं।

समझें दाम्पत्य जीवन के संदर्भ में होठों के संकेत को–

लाल, पतले चिकने और अच्छी आकृति वाले होंठ सुखद दाम्पत्य के द्योतक होते हैं।

अगर निचला होठ लाल, गोल व एक पतली रेखा वाला है तो यह भाग्यशाली तथा धनवान होने का संकेतक है।

मोटे, भारी तथा चौड़े होंठ चरित्र को संदिग्ध बनाते है, विशेषकर स्त्री जातक के लिए।

यदि निचला होठ मोटा तथा रंग मे काला है तो यह स्वभाव व चरित्र में संदिग्धता व जीवनसाथी से विछोह दे सकता है।

यदि निचला होठ सूखा लंबा व पतला हो तो यह बीमारी का संकेत है।

होंठ के नीचे हलके महीन बाल

जिस स्त्री के नीचे वाले होंठों पे महीन बाल हों वह स्त्री अपने सास, श्वसुर की सेवा करने वाली तथा अपने पति प्रसन्न करने वाली होती है। ये कलात्मक कार्यो में काफी निपुण मानी जाती है।

पहाड़ो की यात्रा करना इनका विशेष शौक होता है।

नोट/ध्यान/सावधानी रखें —

सभी अंगों का अलग महत्व होता है। यहां होंठों के अनुसार स्वभाव की जो बातें बताई गई हैं, उन फलों में अन्य अंगों के प्रभाव के अनुसार बदलाव भी हो सकता है अत: किसी एक बिन्दु के आधार पर व्यक्ति को अच्छे या बुरे का प्रमाण पत्र देने से बचें।  यह लेख मनोविज्ञान और ज्योतिष शास्त्र पर आधारित है ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: