लेखक परिचय

बीनू भटनागर

बीनू भटनागर

मनोविज्ञान में एमए की डिग्री हासिल करनेवाली व हिन्दी में रुचि रखने वाली बीनू जी ने रचनात्मक लेखन जीवन में बहुत देर से आरंभ किया, 52 वर्ष की उम्र के बाद कुछ पत्रिकाओं मे जैसे सरिता, गृहलक्ष्मी, जान्हवी और माधुरी सहित कुछ ग़ैर व्यवसायी पत्रिकाओं मे कई कवितायें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं। लेखों के विषय सामाजिक, सांसकृतिक, मनोवैज्ञानिक, सामयिक, साहित्यिक धार्मिक, अंधविश्वास और आध्यात्मिकता से जुडे हैं।

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


मै नहीं राधा बनूंगी,

मेरी प्रेम कहानी में,

किसी और का पति हो,

रुक्मिनी की आँख की

किरकिरी मैं क्यों बनूंगी

मै नहीं राधा बनूँगी।
मै सीता नहीं बनूँगी,

मै अपनी पवित्रता का,

प्रमाणपत्र नहीं दूँगी

आग पे नहीं चलूंगी

वो क्या मुझे छोड़ देगा

मै ही उसे छोड़ दूँगी,

मै सीता नहीं बनूँगी।
मै न मीरा ही बनूंगी,

किसी मूरत के मोह मे,

घर संसार त्याग कर,

साधुओं के संग फिरूं

एक तारा हाथ लेकर,

छोड़ ज़िम्मेदारियाँ

मैं नहीं मीरा बनूंगी।
यशोधरा मैं नहीं बनूंगी

छोड़कर जो चला गया

कर्तव्य सारे त्यागकर

ख़ुद भगवान बन गया,

ज्ञान कितना ही पा गया,

ऐसे पति के लिये

मै पतिव्रता नहीं बनूंगी

यशोधरा मैं नहीं बनूंगी।
उर्मिला भी नहीं बनूँगी

पत्नी के साथ का

जिसे न अहसास हो

पत्नी की पीड़ा का ज़रा भी

जिसे ना आभास हो

छोड़ वर्षों के लिये

भाई संग जो हो लिया

मैं उसे नहीं वरूंगी

उर्मिला मैं नहीं बनूँगी।
मैं गाँधारी नहीं बनूंगी

नेत्रहीन पति की आँखे बनूंगी

अपनी आँखे मूंदलू

अंधेरों को चूमलू

ऐसा अर्थहीन त्याग

मै नहीं करूंगी

मेरी आँखो से वो देखे

ऐसे प्रयत्न करती रहूँगी

मैं गाँधारी नहीं बनूँगी।
मै उसीके संग जियूंगी,

जिसको मन से वरूँगी,

पर उसकी ज़्यादती

मैं नहीं कभी संहूंगी

कर्तव्य सब निर्वाहुंगी

बलिदान के नाम पर

मैं यातना नहीं संहूँगी

मैं मैं हूँ मै ही रहूँगी।

4 Responses to “मैं मैं हूँ मैं ही रहूँगी”

  1. करुणा कोठारी

    नमस्कार
    आपकी पंक्तिया लाजवाब है।क्या इस पर में एक वीडियो बना सकती हूं अपनी आवाज में

    Reply
    • बीनू भटनागर

      Binu Bhatnagar

      ज़रूर बनायें, पहले भी बन चुके हैं। क्रैडिट में मेरा नाम अवश्य डालें और लिंक मुझे मेल पर भेज दे
      Binu.bhatnagar@gmail.com

      Reply
  2. krishnavi

    👎👎👎👎👎👎👎👎 u r right ajkl ki aurat na to meera hai na radha or na sita . isilye to ise kalyug kehte hai .sbse niche darje ka yug kalyug

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *