कल रात की ताजा खबर

3
376

कल रात की मै सच्ची घटना सुनाता हूँ
तेज लाईटो में भी मै मोमबत्ती जलाता हूँ

वैसे तो मै कांग्रेस दफ्तर अकबर रोड पर रहता हूँ
पर मै मानसिंह रोड से इंडिया गेट तक घूमने जाता हूँ सुबह मेरी बहुत देर से बड़ी मुश्किल से आँखे खुलती है
इसलिए मै रात के बारह बजे के बाद घूमने जाता हूँ

 

पिछली बार छोले भटूरे खाकर उपवास किया था
अबकी बार इंडिया गेट पर कैंडिललाइट में डिनर करूँगा
कांग्रेस कार्यकर्ताओ व दिल्ली निवासियो को invite किया है
उन्नाव व कठुवा रेप काण्ड पर अपनी सहानुभूति दिखाऊंगा

क्या तुम जानतो हो ये सब क्यों कर रहा ?
मै तो सन उन्नीस के चुनाव की तैयारी कर रहा
मेरे पास देश के विकास का कोई मुद्दा नहीं है
बस रेप काण्ड को जता कर,वोट इकठ्ठे कर रहा

आर के रस्तोगी

Previous articleवेद और सत्यार्थप्रकाश के स्वाध्याय को जीवन का अंग बनायें
Next article ” राष्ट्रवाद मेरी नजर में “
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

3 COMMENTS

  1. करता हूँ वयक्त मन की पीड़ा
    इस लेखनी के माध्यम से
    ये लेखनी लिखती रहेगी
    मैंने उठाया यह एक बीड़ा |

  2. सत्ता हीनता की पीड़ा
    उठा रही चुनावी बीड़ा।
    हाथ रिक्तता दर्शाता है
    कमल खिल-खिल जाता है।
    युवराज कहें थमने को
    पर सेवक चलता जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here