एक पाती प्रधान मन्त्री के नाम

modiप्रिय मोदी बाबू,

भगवान तोके हमेशा स्वस्थ और प्रसन्न रखें!

आगे समाचार ई हौ कि आजकल लोग भगवान को कम और तोके जियादा याद कर रहे हैं। पान की दूकान से लेकर स्टेट बैंक तक लोग केवल तुम्हरे नाम की माला जप रहे हैं। अइसा स्ट्राइक काहे किए कि गरीब से अमीर तक की जुबान पर न राम हैं, न कृष्ण हैं, न मोहम्मद हैं, न ईसा हैं। धनतरिणी को पार करने के लिए सब तुम्हारा ही नाम जप रहे हैं। बचपन में सुनते रहे कि भगवान एक घड़ी में राई को पहाड़ और पहाड़ को राई बना सकते हैं। बस सुना ही था, कभी देखा नहीं था। तुमने दिखा भी दिया। एक ही रात में मायावती का मोटा-तगड़ा हाथी करिया बकरी बन गया , अखिलेश की सयकिल पंक्चर हो गई. राहुल का हाथ अपने ही गाल पर तमाचा लगाने लगा, केजरीवाल का फ़ोर्ड फ़ाउन्डेशन डालर रखकर भी कंगाल हो गया, अतंकवादी दिवालिया हो गए और नक्सलवादी फेनु Have not हो गए। नेपाल और बांगला देश से आनेवाले पाकिस्तानी नोटों के सहारे सत्ता हासिल करनेवाली ममता की तो भगई ही ढीली हो गई। गनीमत है कि जयललिता अभी पूरी तरह स्वस्थ नहीं है, वरना वह तो डेलीगेशन लेकर डोनाल्ड ट्रम्प के पास जाती। बड़ा गड़बड़ काम किया मोदी बाबू तुमने। शिवसेना की हफ़्ता वसूली बंद करा दी और दाउद के नोटों को कागज का टुकड़ा बना दिया। कोई नोट गंगा में बहा रहा है, तो कोई जला रहा है, तो कोई कूड़े में फेंक रहा है। वाह भाई तूने तो कमाल कर दिया। २-जी, ३-जी, कोयला घोटाला, हेलिकोप्टर घोटाला के नायक-नायिका के हृदय के टुकड़े युवराज पप्पू को महज ४००० रुपए के लिए लाईन में लगवा दिया। दो करोड़ की गाड़ी लाईन में खड़ी तो हो नहीं सकती, इसलिए बेचारे को पसीना बहाना ही पड़ा। अब तो लालू चारा काटने वाली मशीन में 500 और हजार के नोटों को काटकर अपनी गायों को खिलायेंगे। भैया मोदी! तुमने तो अमर सिंह को सिंगापुर में इलाज कराने के लायक भी नहीं छोड़ा। शिवपाल और मुलायम कैसे चुनाव लड़ेंगे? एक ठे बात समझ में नहीं आ रही है। ई नितिशवा तोहरे समर्थन में कैसे आ गया। लालू की उंगली पकड़ कर चलने वाला खुलकर नोटबन्दी का समर्थन कर रहा है। पर्दे के पीछे कोई डिलिंग हो गई है क्या? वैसे उहो लालू के अत्याचार से छटपटाइये रहा है। पाला बदलने का  वह पुराना खिलाड़ी है। कबहूं कुछ हो सकता है।

सुप्रीम कोर्ट के टी.एस. ठाकुर से जरा होशिया रहना बचवा। ई मत समझना कि व्यापरियों, उद्योगपतियों, दाउदों, आतंकवादियों, नेताओं और नौकरशाहों के पास ही १०००-५०० का जखीरा है। जज भी कुछ कम नहीं हैं। एक सिरफिरे ने सुप्रीम कोर्ट में तोहरे निर्णय के खिलाफ जनहित याचिका दायर कर रखी है। हालांकि बंबई और चेन्नई हाई कोर्ट ने ऐसी याचिका खारिज कर दी है, लेकिन ठाकुर का कोई भरोसा नहीं है। उसका बाप कांग्रेस के कोटे से कश्मीर में मन्त्री रह चुका है। उसकी काट सोचकर रखना बचवा। वैसे हमको भी एक दिन बैंक से पैसा निकालने मे तीन घंटे तक लाईन में खड़ा रहना पड़ा, लेकिन हमको कोई शिकायत नहीं है। देश के लिए सेना के जवान जान कुर्बान कर रहे हैं, तुम जान कुर्बान करने पर आमादा हो। ऐसे में हमारे २-३ घंटे अगर कुर्बान हो जाते हैं तो कैसा गिला और कैसी शिकायत। बचवा, इसी तरह छप्पन इन्च के सीने के साथ काम करते रहो। हाथी चलता है, तो कुकुर सारे भूंकते ही है।

थोड़ा लिखना, ज्यादा समझना। हम इहाँ राजी-खुशी हैं। तुम बुलन्द रहना।

इति। तुम्हारा — चाचा बनारसी

3 thoughts on “एक पाती प्रधान मन्त्री के नाम

  1. Abhi raah dekhiyo.
    Kejarava ki aap-parti vaali Tippani aavat hai.
    par kamal kiyaa banarasi chacha Aapne, kya Shal Jodi kaa jutaa maaraa hai?
    hamare roman akchharon ko kshama kar dena.
    bahaar se likhyo hai.
    Par mazaa aa gaya.
    Aur mai lain men Khade rahane ko taras rahaa hun.
    Aisa Bhag kahan?
    paranam sweekaranaa. Dhanyavad.

    Dr. Madhusudan

  2. बिलकुल सत्य बचन – आज कल पप्पू बहुत नाराज़ है – हो भी क्यों न

Leave a Reply

%d bloggers like this: