लेखक परिचय

ममता त्रिपाठी

ममता त्रिपाठी

शोध छात्रा। विशिष्ट संस्कृत अध्ययन केन्द्र। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली- ११००६७

Posted On by &filed under कविता.


 

धन्य है तिमिर का अस्तित्व

दीपशिखा अमर कर गया ।

धन्य है करुणाकलित मन

हर हृदय में घर कर गया ।

ज्योति ज्तोतिर्मय तभी तक

जब तक तिमिर तिरोहित नहीं ।

जगति का लावण्य तब तक

जब तक नियन्ता मोहित नहीं ।

पंच कंचुक विस्तीर्ण जब तक

तब तक सृष्टि प्रपञ्च साकार ।

बालुकाभित्ति सी ढह जायेगी

जैसे होगा उसका विस्तार ।

सृष्टि संकुचन उस महाशक्ति का

प्रलय है विस्तार उसका ।

बुलबुले सी मिटेगी लीला

होगा जैसे प्रसार उसका ।

अपनी इच्छा से ही उसने

उकेरा यह सुन्दर चित्र ।

समेटेगा अपनी ही इच्छा से,

यही शाश्वत सत्य विचित्र ॥

4 Responses to “ममता त्रिपाठी की कविता : सृष्टि”

  1. अनिल

    माँ सरस्वती आप को देश प्रेम एवं राष्ट्रभाक्ति लिखने का वर दें

    Reply
  2. Vikas Singh

    निराला के बाद इस तरह की दार्शनिक शैली की कविता मैंने आज पहली बार पढी है। अच्छी कविता है मैम आपकी……

    Reply
  3. क्षेत्रपाल शर्मा

    क्षेत्रपाल शर्मा

    बहुत सुन्दर कविता है .सम्पूर्ण है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *