लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under कविता.


श्यामल सुमन

मेरी यही इबादत है

सच कहने की आदत है

 

मुश्किल होता सच सहना तो

कहते इसे बगावत है

 

बिना बुलाये घर आ जाते

कितनी बड़ी इनायत है

 

कभी जरूरत पर ना आते

इसकी मुझे शिकायत है

 

मीठी बातों में भरमाना

इनकी यही शराफत है

 

दर्पण दिखलाया तो कहते

देखो किया शरारत है

 

दर्पण झूठा कभी न होता

बहुत बड़ी ये आफत है

 

ऐसा सच स्वीकार किया तो

मेरे दिल में राहत है।

 

रोज विचारों से टकराकर

झुका है जो भी आहत है

 

सत्य बने आभूषण जग का

यही सुमन की चाहत है

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *