लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


logoआदरणीय लेखक एवं पाठकगण,

नमस्‍कार !

आपको पता ही है कि 16 अक्‍टूबर 2008 को प्रवक्‍ता डॉट की स्‍थापना हुई थी, यानी अगले माह 16 अक्‍टूबर को ‘प्रवक्‍ता’ के 6 साल पूरे हो जाएंगे। उस दिन पिछले साल की भांति ‘प्रवक्‍ता संवाद एवं सम्‍मान कार्यक्रम’ का आयोजन करना तय हुआ है। इस बार यह कार्यक्रम कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्‍वविद्यालय, रायपुर (छत्तीसगढ़) द्वारा संचालित कबीर संचार अध्‍ययन शोध पीठ के सौजन्‍य से आयोजित की जा रही है।

इंटरनेट पर राष्ट्रभाषा समृद्ध हो, हिंदी में विभिन्‍न विषयों पर विचार-विमर्श हो और भारतीयता प्रतिष्ठित हो; इस उद्देश्‍य के साथ शुरू हुई ‘प्रवक्‍ता’ गत 6 वर्षों से निरंतर सक्रिय है। ‘प्रवक्‍ता’ पर अब तक 11,565 लेख प्रकाशित हो चुके हैं और इससे लगभग 600 लेखक जुड़े हुए हैं।

आगामी कार्यक्रम के विवरण निम्‍नलिखित हैं :

‘प्रवक्‍ता संवाद एवं सम्‍मान’ कार्यक्रम
विषय : वेब मीडिया की बढ़ती स्‍वीकार्यता
दिनांक : 16 अक्‍टूबर, 2014
दिन : गुरूवार
समय : सायं 4.30 बजे से 7.30 बजे 
स्‍थान : स्‍पीकर हॉल, कांस्टिट्यूशन क्‍लब, नई दिल्‍ली

कार्यक्रम के अतिथियों और वक्‍ताओं की सूची तैयार की जा रही है। शीघ्र ही औपचारिक रूप से आमंत्रण पत्र तैयार कर आपको सूचित किया जाएगा।

इस अवसर पर –

1. ‘वेब मीडिया की बढ़ती स्‍वीकार्यता’ पर संगोष्‍ठी आयोजित की जाएगी।
2. ‘प्रवक्‍ता’ पर लिखने वाले 10 लेखकों का सम्‍मान किया जाएगा।
2. ‘वेब मीडिया की बढ़ती स्‍वीकार्यता’ पर लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा।
3. लेखकों एवं पाठकों के ‘प्रवक्‍ता’ के संबंध में संस्‍मरणों पर केंद्रित स्‍मारिका प्रकाशित की जाएगी।

‘प्रवक्‍ता’ के आदरणीय लेखकों व पाठकों से निवेदन हैं कि 16 अक्‍टूबर को कार्यक्रम में उपस्थित रहने की योजना बनाएं।
आभासीय दर्शन तो आप सबके नित होते ही रहते हैं लेकिन प्रत्‍यक्ष दर्शन का आनंद ही कुछ और है! इससे हमारा मनोबल भी बढ़ता है।

2 Responses to “प्रवक्‍ता संवाद एवं सम्‍मान कार्यक्रम 16 अक्‍टूबर को”

  1. lakshmi

    क्या इस कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए किसी पास की भी जरूरत होगी और क्या कोई भी इसमें शामिल हो सकता है?

    Reply
    • शादाब जाफर 'शादाब'

      SHADAB ZAFAR SHADAB

      NAHI KOI PASS NAHI HOTA .LAKSHMI JI AAP IS PROGRAM ME SHAMIL HO SAKTII YE AAP KA APNA AAYOJAN HE

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *