लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under विविधा.


जैसे-जैसे नर्मदा कुम्भ की तारीख नजदीक आ रही है, मध्यप्रदेश के ईसाई नेताओ की घबराहट ब़ढ रही है। नर्मदा के किनारे आयोजित किए जा रहे इस मॉं नर्मदा सामाजिक कुंभ की व्यापक पैमाने पर तैयारियां चल रही हैं। यह आयोजन धर्म के प्रति आस्था व श्रद्धा पक्की करने, राष्ट्रीय एकात्मता और एकता का भाव जगाने तथा सामाजिक समरसता का अलख जगाने हेतु किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ की सीमाओं को छूने वाले मण्डला में नर्मदा सामाजिक कुंभ 10, 11 और 12 फरवरी को होना है और इसकी तैयारी एक साल से चल रही है। तीन दिन के इस कुंभ में 20 लाख वन वासियों के जुटने की उम्मीद की जा रही है।

जॉन दयाल की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में यह कहा गया है कि कुंभ मेले में ईसाइयों को हिंदू बनाने की तैयारी चल रही है। जॉन दयाल ऑल इंडिया कैथोलिक यूनियन” के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने कुंभ के आयोजको पर बेबुनियाद आरोप लगाया है कि कई ईसाई परिवारों में जाकर वनवासियों पर वापस हिंदू बनने के लिए दबाव डाल रहे है। ईसाई समाज की प्रार्थना सभाओं में बाधा डालने की कोशिश की जा रही है।

वास्तव में हकीकत यह है कि मण्डला में बीते वर्षो में ईसाई मिशनरियों ने धर्मातरण का जाल तेजी से फैलाया है। माँ नर्मदा सामाजिक कुंभ का उद्देश्य आदिवासियों की संस्कृति, उनकी पहचान और जीवन शैली ही नहीं बल्कि उनके आराध्य बड़ा देव या बूढ़ा देव के प्रति उनकी आस्था पर होने वाले आघात से उन्हें सुरक्षित करना है।

एक ओर जहाँ मंडला मध्य प्रदेश के इसाई और मुस्लिम परिवारों ने भी इस कुंभ का स्वागत किया है वहीँ जॉन दयाल का इस तरह का बयान देश कि एकता और अखंडता के लिए खतरा है। जॉन दयाल जैसे लोगो के खिलाफ शासन को कठोर कार्यवाही करनी चाहिए।

One Response to “धार्मिक उन्माद फैला रहा है जॉन दयाल”

  1. himwant

    उन्मादी (मिशीनरी) चर्च ने प्रकृति पुजक आदिवासीयो की परम्परागत आस्था को परिवर्तित करके उन्हे अपनी जडो से दुर कर दिया था. उन्मादी चर्च के षडयंत्र को अब सब समझ चुके है. उन्मादी चर्च के क्रियाकलाप भारतीय धार्मिक सदभाव एवम सहास्तित्व के भाव को हानि पहुंचा रहा है.

    सोनिया गांधी विदेशी उन्मादी (मिशीनरी) चर्च की एजेंट है. कांग्रेसजन उन्हे प्रसन्न करने के लिए चर्च के हितो मे काम करते है. चर्च के हितो मे काम करने वालो को कांग्रेस मे उंचा स्थान दिया जाता है.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *