मेरी भैंस को अंडा क्यों मारा ??

0
265

egg

आजकल चुनावो का मौसम है | हरियाणा झारखण्ड से लेकर जम्मू होते हुए चुनाव दिल्ली आ धमका है | वैसे हम भारतीय अपने आलस को लेकर विश्व प्रसिद्ध हैं | हमें कभी पता भी नहीं चलता कि कब चुनाव आये और कब हमारे प्रदेश में मुखिया चुन लिया गया | पर दिल्ली विधानसभा चुनाव में कुछ विशेष अपनापन है | क्युकि नित होने वाली नौटंकी कब कहाँ क्या मोड़ ले लेगी कोई नहीं जानता | जैसे हाल ही में केजरीवाल जी की सभा में अंडे फेंके गए | इस मामले पर हमने देश के प्रमख राजनीतिज्ञों से उनकी राय पूछी | आप भी पढ़िए किसने क्या क्या कहा ??

 

सर्वप्रथम हमने मिसेज केजरीवाल से उनकी राय पूछी | देश में दिन-प्रतिदिन गिरते शिक्षा के स्तर पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि  “लोगो को इतना भी नहीं पता कि ऑमलेट बनाने के लिए सिर्फ अंडे ही नहीं चाहिए होते | इसके लिए कांधा ब्रेड इत्यादि की भी जरूरत होती है | उन्होंने कहा है कि अब समय आ गया है जब हमें IIT’s की संख्या बढ़ा देनी चाहिए | ”

 

श्री केजरीवाल ने मिसेज केजरीवाल से सहमती जताते हुए कहा कि “उनकी चिंता जायज है | सरकार को शिक्षा पर ध्यान देना ही चाहिए | उन्होंने कहा कि वो जल्द ही आईआईएम् की टक्कर के प्रबंधन संसथान खोलेगे | जिसमे “500 रुपये में ग्रहस्थी कैसे चलाये ?” नामक कोर्स प्रमुखता से करवाया जायेगा | ”

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने इसे विकास से जोड़ते हुए कहा कि “पहले लोग सस्ती सब्जियां टमाटर आदि फेंकते थे | जबकि अब लोग अंडा फेंक रहे हैं | इससे पता चलता है कि लोगो की प्रति व्यक्ति आय बढ़ रही है | ”

 

वित्त मंत्री श्री जेटली ने कहा “देश में महगाई निरंतर घट रही है | हर वस्तु पर दाम गिर रहे हैं | और लोग इतने सक्षम हो रहे हैं कि अंडे फेंक सकें |” भविष्य की संभावनाओ की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि “जल्द ही पेट्रोल व् डीजल और सस्ता होगा | ”

 

कांग्रेस महासचिव श्री दिग्विजय सिंह ने अपनी अप्रितम बुद्धि का परिचय देते हुए कहा कि “केजरीवाल के ऊपर देशी अंडे फेंके गए थे | जो की हल्के लाल भूरे रंग के होते हैं | ये रंग भगवा से मिलता जुलता है इसीलिए इस घटना के पीछे आरएसएस का हाथ है | ”

 

उप्र में मुख्यमंत्री पद की प्रमुख दावेदार सुश्री मायावती ने इसे मनुवादियों की चाल बताते हुए कहा कि “अंडा फेंकने वाला लौंडा दलित विरोधी है | उसने कभी भी हमारी सभाओ में अंडे नहीं फेंके |” इसके साथ साथ उन्होंने कहा कि “लोगो में जनजागृति लायी जाये और अबकी बार उनके दल के नेताओ पर भी अंडे  फेंके जाए | अन्यथा उन्हें मजबूरन इस क्षेत्र में भी आरक्षण की मांग करनी पड़ेगी | ”

 

        उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह ने कहा “हुतुतुतु ल्लुलूल अब्ब्बा स्दफ्स्द्जफ्फ़ ज्स्दफ्नक्स्द्फ़ क्ल्नले लब्फ्क्द क्ज्क्जस्ब्द्फ़ ब्कस्ब्दक्फ्स्द सएन्लेंफ़ बबबबबक्क्क्कक ब्कब्क्ब्कब्क्ब्क | ” माफ़ कीजिये इसका हिंदी अनुवाद अभी तक प्राप्त नहीं हो सका है | देश के प्रमुख भाषाविद इसका अर्थ जानने की कोशिश कर रहे हैं | जैसे ही इसका मतलब समझ आ जायेगा हम आपको सूचित कर देंगे |

 

बिहार के मुख्यमंत्री श्री जीतनराम मांझी ने अंडे फेकने का घोर विरोध करते हुए कहा कि “ये लोकतंत्र विरोधी कदम है | उस आदमी को अंडे नहीं फेंकने चाहिए थे बल्कि चूहे फेंकने चाहिए थे | क्युकि चूहकरी ऑमलेट से ज्यादा स्वादिष्ट होती है | ”

 

अंत में अनुज अग्रवाल ने एक भी अंडा लक्ष्य तक न पहुँचने पर चिंता जताते हुए कहा कि अगर अंडे फेंकने वाले ने बचपन में वीडियो गेम की जगह कंचे खेले होते तो कम से कम एक अंडा तो जरूर सर श्री केजरी तक पहुँचता | हमारी सरकार को चाहिए कि कंचे के खेल को राष्ट्रीय खेल घोषित किया जाए | ताकि आगे से कोई निशानेबाज़ अपने लक्ष्य से न चूंके | ” 

अनुज अग्रवाल

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here