छात्रों का जोर पर्यावरण बने चुनावी मुद्दा (ब्यूरो)

देश भर के करीब 10,000 छात्रों ने राजनीतिक पार्टियों से अनुरोध किया है कि वे आगामी 15वीं लोकसभा चुनाव में हरित ऊर्जा के स्रोतों के उपयोग से जुड़े मुद्दे को चुनाव प्रचार…

green-powerदेश भर के करीब 10,000 छात्रों ने राजनीतिक पार्टियों से अनुरोध किया है कि वे आगामी 15वीं लोकसभा चुनाव में हरित ऊर्जा के स्रोतों के उपयोग से जुड़े मुद्दे को चुनाव प्रचार का अभिन्न हिस्सा बनाएं। साथ ही जलवायु परिवर्तन जैसे पर्यावरण से जुड़े मुद्दों उठाएं।

हाल ही में इन छात्रों ने विभिन्न दलों के शीर्ष नेताओं के नाम एक पत्र लिखा है। पत्र में छात्रों ने कहा है कि वे इस बात से परिचित हैं कि जलवायु परिवर्तन का भावी पीढ़ी पर गंभीर असर पड़ने वाला है। इसी के मद्देनजर यह जरूरी है कि हरित ऊर्जा यानी सौर और पवन ऊर्जा का उपयोग शुरू किया जाए। इसके साथ ही पानी और बिजली के बेजा इस्तेमाल को रोका जाए।

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को भेजे इस पत्र में छात्रों ने कहा है कि वे उम्मीद करते हैं कि प्रर्यावरण को चुनावी घोषणा पत्र में शामिल किया जाए।
पत्र भेजने की पहल इंडिपेंडेंट जर्नलिस्ट सोसायटी फाउंडेशन और ‘अरकानीर’ नाम के संस्थान की ओर से की गई है। इस पत्र में हरियाणा, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, असम आदि राज्यों के छात्र शामिल हैं।

1 thought on “छात्रों का जोर पर्यावरण बने चुनावी मुद्दा (ब्यूरो)

  1. छात्रों का प्रयास सराहनीय है … वास्‍तव में अब पर्यावरण एक बडा मुद्दा बनना चाहिए .. हमें आज की समस्‍याओं से अधिक महत्‍व कल की समस्‍याओं को देना चाहिए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: