जिस दिन होना थी लड्डू की बर्फीजी से शादी,

बर्फी बहुत कुरूप किसी ने झूठी बात उड़ा दी|

गुस्से के मारे लड्डूजी जोरों से चिल्लाये|

बिना किसी से पूँछतांछ वापस बारात ले आये|

लड्डू के दादा रसगुल्ला बर्फी के घर आये|

बर्फीजी को देख सामने मन ही मन मुस्काये|

बर्फी तो इतनी सुंदर थी जैसे कोई परी हो|

पंख लगाकर आसमान से अभी अभी उतरी हो|

रसगुल्लाजी फिदा हो गये उस सुंदर बर्फी पर|

ब्याह कराकर उसको लाये वे चटपट अपने घर|

लड्डू क्वांरा बेचारा अब लड़ता रसगुल्ला से|

रसगुल्ला मुस्कराता रहता बिना किसी हल्ला के|

सुनी सुनाई बातों पर तुम कभी ध्यान मत देना|

क्या सच है क्या झूठ सुनिश्चित खुद जाकर‌ कर लेना|

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: