जैविक में है दम, सिक्किम बना प्रथम

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

अरुण तिवारी यदि हमारी खेती प्रमाणिक तौर पर 100 फीसदी जैविक हो जाये, तो क्या हो ? यह सोचते ही मेरे मन में सबसे पहले जो कोलाज उभरता है, उसमें स्वाद भी है, गंध भी, सुगंघ भी तथा इंसान, जानवर और खुद खेती की बेहतर होती सेहत भी। इस चित्र के लिए एक टेगलाइन भी… Read more »

दान का अन्न और जैविक खेती

Posted On by & filed under कहानी, साहित्‍य

हरिद्वार जाने पर मैं सदा कनखल के ‘सेवाधाम आश्रम’ में ही ठहरता हूं। आश्रम के प्रमुख स्वामी सुरेशानंद जी हैं। लगभग 25 साल पूर्व रेलगाड़ी में यात्रा के दौरान उनसे परिचय हुआ था। उस समय हम दोनों दिल्ली से हरिद्वार जा रहे थे। यात्रा में कई विषयों पर वार्ता हुई। हमारे विचार काफी मिलते थे।… Read more »

जैविक खेती, प्राकृतिक ऊर्जा और लघु उद्योगों से खुशहाल होंगे गांव

Posted On by & filed under खेत-खलिहान

– श्री कुप्.सी.सुदर्शन, निवर्तमान सरसंघचालक, रा.स्व.संघ खेती में रासायनिक खाद का प्रयोग बंद करना समय की मांग है, क्योंकि वह भूमि एवं मनुष्य दोनों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। रासायनिक खाद से उपजी चीजें खाने से साल भर में हम 100 मिलीग्राम तक रासायनिक जहर भोजन के साथ पचा जाते हैं। यही 100 मिलीग्राम जहर… Read more »

वैज्ञानिकों की चेतावनी जैविक खेती ही धरती को बचा सकती है – मुलख राज विरमानी

Posted On by & filed under खेत-खलिहान

विश्व की पृथ्वी की ऊपरी परत खराब हो रही है क्योंकि किसान अधिक से अधिक रासायनिक खादों का प्रयोग कर रहे हैं। समय-समय पर हमारे विशेषज्ञ ऐसी चेतावनी देते रहे हैं कि वास्तव में धरती को पौष्टिक जैविक इत्यादि खाद चाहिए जिससे उसकी गुणवत्ता बनी रहे। इस चेतावनी का व्यापक असर तो नहीं हुआ परंतु… Read more »