लेखक परिचय

जीतेन्द्र कुमार नामदेव

जीतेन्द्र कुमार नामदेव

Contact: 9935280497

Posted On by &filed under पर्यावरण.


दुनिया भर में 5 जून का दिन विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाता है। 1973 में सबसे पहले अमेरिका में विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया गया था। इस वर्ष भी हर वर्ष की तरह पर्यावरण दिवस पर दो-चार पेड़ लगाकर हम अपने दायित्व को पूरा कर लेंगे। लेकिन प्रकृति को समझने की कोशिश नहीं करेंगे। देखा जाए तो सृष्टि के निर्माण में प्रकृति की अहम भूमिका रही है। यहां हमने इतिहास के वो पन्ने पलटने की कोशिश की है जिनके बारे में सुनने, पढ़ने या फिर सोचने के बाद शायद हमें समझ आ जाए। हम आप का ध्यान उस दौर की और आकर्षित करना चाहते हैं जहां पर विशाल से विशाल जीवों ने प्रकृति के खिलाफ जाने की कोशिश की और अपना अश्तित्व ही खो दिया। देखा जाए तो सृष्टि का निर्माण प्रकृति के साथ ही हुआ है। इस दुनिया में सबसे पहले वनस्पितयां आई। जो कि जीवन का प्राथमिक भोजन बना। उसके बाद अन्य जीवों ने अपनी जीवन प्रक्रिया शुरू की। माना जाता है कि मनुष्य की उत्पत्ति अन्य जानवरों के काफी समय बाद हुयी है। अगर कहा जाए तो मनुष्य की उत्पत्ति के बाद से ही इस सृष्टि में आये दिन कोई न कोई बदलाव होते आ रहें हैं। मनुष्य ने अपने बुद्धी व विवेक के बल पर खुद को इतना विकसित कर लिया की और कोई भी जीव उससे ज्यादा विवेकशील नहीं है। यही कारण है कि दिन प्रतिदिन मनुष्य अपनी बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रकृति की कुछ अनमोल धरोहरों को भेंट चढ़ाता जा रहा है।

प्रकृति का वह आवरण जिससे हम घिरे हुए है पर्यावरण कहलाता है। आज वही पर्यावरण प्रदुषण की चरम सीमा पर पहुंच चुका है। हर कोई किसी न किसी प्रकार से पर्यावरण को प्रदुषित करने का काम कर रहा है। जहां कलकारखानें लोगों को रोजगार दे रहें हैं। वहीं जल-वायु प्रदुषण में अहम भूमिका भी निभा रहें हैं। कारखानों से निकलने वाला धूंआ हवा में कार्बन डाई आक्साइड की मात्र को बढ़ा देता है जो कि एक प्राण घातक गैस है। इस गैस की वातावरण में अधिक मात्रा होने के कारण सांस लेने में घुटन महसूस होने लगती है। चीन और अमेरिका जैसे कई विकसित देशों के वातावरण में गैसिए संतुलन विगड़ने से लोगों को गैस मासक लगाकर घुमना पड़ता है। अभी अपने देश में यह नौवत नहीं आयी है। लेकिन इस बात से भी मुंह नहीं फेरा जा सकता कि आने वाले भविष्य में हम भी उन्हीं देशों की तरह शुद्ध हवा के लिए गैस मासक लगा कर घुमते नजर आएंगे।

इस बात में कोई दो राय नहीं कि हमारा देश तरकी कर रहा है। आज हम किसी भी देश से कम नहीं है। लेकिन क्या यह सही है कि हम अन्य विकसित देशों की विकास की दौड़ में तो दौड़ते जा रहें हैं परंतु अपनी धरोहर को नष्ट करते जा रहें हैं। जो देश आज प्रदुषण को कम करने में लगा है। एक ओर हम है कि अपने देश में हरे-भरे जंगलों को तहस-नहस करते जा रहें हैं।

भारतवर्ष पुरातत्व काल से ही वनों को अत्याधिक महत्व दिया गया है। हम अगर अपने वेद-पुराण उठा ले तो उनमें भी वनों व वृक्षों को पुजनीय बताया गया है। हमारे धर्मों व कागज की जरूरत पूरा करने के लिए काटे जा रहा है और उन स्थान पर पूनः वृक्षारोपण कारने की बजय रियासी काॅलोनियां व नगर बसाये जा रहें हैं जिससे प्रकृति का संतुलन बिगड़ता जा रहा है।

एक दिन ऐसा आने वाला है जब हम अपनी आने वाली पीढ़ी को वन, उपवन की बातें अपने धार्मिक ग्रंथ रामायण व महाभारत में पढ़कर सुनाएंगे। वन होते क्या है, यह आने वाली पीढ़ी नहीं समझ पाएगी? अब अगर बात की जाए प्रदुषण की तो वृक्षोें का कटना प्रकृतिक संतुलन को बिगाड़ रहा है जिसके कारण वायु प्रदुषण बढ़ता जा रहा है। वायु में बढ़ती कार्बन डाई आक्साइड की मात्रा को पेड़ ही कम कर पाते हैं। पेड़ कार्बन डाई आक्साइड को ग्रहण कर शुद्ध आक्साीजन छोड़ते हैं जिससे प्रकृति में गैसों का संतुलन बना रहता है। लेकिन अब कार्बन उत्साहित करने वाले श्रोत बढ़ते जा रहें हैं। जबकि आक्सीजन बनाने वाले पेड़ों की संख्या दिन-प्रतिदिन कम होती जा रही है।

जल ही जीवन है लेकिन उस जीवन में भी प्रदुषण नाम का जहर घुलता जा रहा है। पानी इंसान की अमूलभूत आवश्यकताओं में से एक है। बिना जल के जीवन की कल्पना करना भी बेकार है। आज के दौर में जल भी प्रदुषण की चरम सीमा पर है। जलवायु के नाम से पर्यावरण को जाना जाता है। लेकिन अब न तो जल प्रदुषण मुक्त है न ही वायु। देश की गंगा, यमुना, गंगोत्री व वेतबा जैसी बड़ी-बड़ी नदियां प्रदुषित हो चुकी है। सभ्यता की शुरूआत नदियों के किनारे हुई थी। लेकिन आज की विकसित होती दुनिया ने उस सभ्यता को दर किनार कर उन जन्मदयत्री नदियों को भी नहीं बक्शा।

भारत देश हमेशा से ही धर्म और आस्था का देश माना जाता रहा है। पुराणों में यहां की नदियों का विशेष महत्व वर्णन किया गया है। हिन्दु धर्म आस्था की मुख्य धरोहर गंगा आज आपनी बदनसीबी के चार-चार आंसू रो रही है। धर्म ग्रंथों के अनुसार राजा भागीरथ ने गंगा को स्वर्ग लोक से मृत्युलोक (पृथ्वी) पर बुलाने के लिए तपस्या की। तपस्या से खुश होकर गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई जिसने भागीरथ के बताए रास्ते पर चलकर उनके पूर्वजों को तार दिया। तभी से गंगा में स्नान कर लोग अपने पापों से मुक्ति पाने आते हैं। धर्म आस्था के चलते गंगा के किनारे कुंभ मेलों का आयोजन किया जाता है। देश भर में चार स्थान हरिद्वार, नासिक, प्रयाग व उन्नाव में कुम्भ के मेले का आयोजन होता है जिसमें देश के कोने-कोने से लाखों की तादात में श्रद्धालू अपने पापों से मुक्ति पाने व अपने बंश को तारने के लिए आते हैं।

जिस गंगा ने भागीरथ के बंश को तारा आज वो दुनिया भर के श्रद्धालुओं के पापों तार रही है। लेकिन उस भगीरथ ने कभी नहीं सोचा होगा जो गंगा उनकी तपस्या से पृथ्वी लोक पर मानव उद्धार के लिए आयी थी एक दिन वो खुद अपने उद्धार के लिए किसी भागीरथ की वाट हेरेंगी। आज गंगा नदी इतनी प्रदुषित हो गयी है कि खुद अपने आप को तारने के लिए किसी भागीरथ का इंतजार करेंगी। जो आए और उसकी व्यथा को समझे।

हम यह क्यों भूल जाते है कि प्रकृति जीवन का आधार है जिसे हम लगातार दुषित करते जा रहे है। इतिहास गवाह है कि प्रकृति के अनुकूल चलने वाला ही विकास करता है। जबकि विपरीत चलने वाले जीवन का तो नमोनिशान नहीं मिला। अब वक्त है कि हम इन बातों पर विचार करना होगा। आखिर कब तक आने वाले संुदर भविष्य के सपने बुनने के लिए अपने पर्यावरण के साथ खिलवाड़ करते रहेंगे। एक दिन तो अति का भी अंत हो जाता है। तो हम क्या है? अभी ज्यादा वक्त नहीं गुजरा आज भी समय है चेतने का इस अपने पर्यावरण को शुद्ध रखने और प्रकृति को बचाने का। इसका एक ही उपाय है वो है प्रकृति को बचाना है प्रदुषण को कम करना है तो हमें ज्यादा से ज्यादा वृक्ष लगाने होंगे। वृक्ष हमें लगाने होंगे लेकिन सरकारों की तरह कागजों पर नहीं बल्कि हमें आज से तय करना होगा कि आने वाली पीढ़ी को अगर हसता-खेलता देखना है तो प्रत्येक को कम से कम एक वृक्ष लगाना होगा।

One Response to “पर्यावरण का करो ख्याल……..”

  1. आर. सिंह

    आर.सिंह

    पहले तोइस सामयिक आलेख के लिए धन्यवाद स्वीकार कीजिए.इस मारधाड़ में किसी को तो पर्यावरण की याद आयी.ऐसे अमेरिका की कुछ जगहों को तो मैंने खुद देखा है.उन जगहों पर तो हालात अभी भी अपने देश की तुलना में बहुत ही अच्छा है.ऐसे भी अमेरिका के किसी हिस्से में मास्क लगा कर चलने की जानकारी मुझे तो नहीं हैं.चीन के बारे में मैं नहीं कह सकता.मेक्सिको के कुछ भागों में लोग मास्क लगा कर चलते हैं.मेरी जानकारी के अनुसार हमारे कम से कम दस पन्द्रह बड़े और छोटे शहर प्रदूषण के मामले में बिश्व के किसी भी शहर से अधिक खराब हैं.जंगलों की अन्धाधुन कटाई तो इसका एक कारण है ही ,पर अन्य कारण जैसे नदियों को प्रदूषित करना वाहनों द्वारा प्रदूषण फैलाना इत्यादि का भी वातावरण को प्रदूषित करने में कम भागेदारी नहीं है.अगर आप इन सब पर गौर करें तो पता चलेगा कि इन सब कारणों के पीछे हमारी पर्यावरण के प्रति उदासीनता और निजी स्वार्थ है.हमलोग न तो अपने निजी जीवन में और न सार्वजनिक जीवन में पर्यावरण की और तनिक भी ध्यान देने की आवश्यकता महसूस करते हैं.नदियों का प्रदूष्ण तो हमारी नीचता की पराकाष्ठा है.एक तरफ तो गंगा,यमुना आदि नदियों को अपना आराध्य मानते हैं और दूसरी अपने थोड़े तत्कालिक लाभ के लिए उनको प्रादूषित करने का कोई अवसर नहीं छोड़ते.जंगलों की अन्धाधुन कटाई हो या वाहनों द्वारा प्रदूष्ण फैलने की बात हो,वहाँ भी हमारी यही मनोवृति काम करती है.इस मामले में विभिन्न उद्योग और उद्योगपति भी कम दोषी नहीं हैं.सारांश यह की इस प्रदूष्ण में उसी तरह क्मोवेशी सबका साझा है जिस तरह अन्य बुराईयों के मामले में.इन सबका इलाज एक ही है और वह है व्यक्तिगत और सामूहिक इमानदारी.हमारे धर्म इन सब मामलों में हमारे सबसे बड़े पथ प्रदर्शक हैं,पर आज तो उनका उपयोग केवल एक दूसरे को नीचा दिखाने के लिए होता है.काश! हम अब भी सचेत हो जाएँ तो शायद बहुत कुछ बचा सकें.मेरे विचारानुसार सरकार से ज्यादा इसमें आम जनता की जिम्मेवारी है.दिल्ली सरकार ने न केवल यमुना बल्कि नालों के पूलों पर भी लोहे की जालियां लगवाई हुई है,पर हम लोग उसके उपर से भी कूड़ा कचडा फेक ही देते हैं.,अब इसमें सरकार बेचारी क्या करें?दिल्ली में यमुना गंदा नाला बन गयी है.इसके लिए जिम्मेवार सरकार नहीं हम यानी आम जनता है.कहने का सारांश यही है कि पर्यावरण दिवस हो या अन्य कोई दिवस पर्यावरण के प्रति अहर्निश जगरूकता और उसकी रक्षा न केवल हमारे स्वास्थ्य के लिए बल्कि हमारे अस्तित्व के लिए भी आवश्यक है.अगर हम अब भी नहीं चेते और परछिद्रन्वेष्ण वाली हमारी मनोवृति कायम रही तो वह दिन दूर नही जब मास्क भी हमारी रक्षा में असमर्थ हो जाएगा

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *