लेखक परिचय

मयंक चतुर्वेदी

मयंक चतुर्वेदी

मयंक चतुर्वेदी मूलत: ग्वालियर, म.प्र. में जन्में ओर वहीं से इन्होंने पत्रकारिता की विधिवत शुरूआत दैनिक जागरण से की। 11 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय मयंक चतुर्वेदी ने जीवाजी विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के साथ हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर, एम.फिल तथा पी-एच.डी. तक अध्ययन किया है। कुछ समय शासकीय महाविद्यालय में हिन्दी विषय के सहायक प्राध्यापक भी रहे, साथ ही सिविल सेवा की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को भी मार्गदर्शन प्रदान किया। राष्ट्रवादी सोच रखने वाले मयंक चतुर्वेदी पांचजन्य जैसे राष्ट्रीय साप्ताहिक, दैनिक स्वदेश से भी जुड़े हुए हैं। राष्ट्रीय मुद्दों पर लिखना ही इनकी फितरत है। सम्प्रति : मयंक चतुर्वेदी हिन्दुस्थान समाचार, बहुभाषी न्यूज एजेंसी के मध्यप्रदेश ब्यूरो प्रमुख हैं।

Posted On by &filed under विश्ववार्ता.


अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के मानवाधिकारवादी हों या ऐसी ऐजेंसियाँ और स्वयंसेवी संस्थाएं जो भारत में अल्पसंख्यकों को लेकर जब-तब यह आरोप लगाती रही हैं कि वह हिन्दुस्तान में सुरक्षित नहीं। बहुसंख्यक समाज से उन्हें खतरा है, क्योंकि उनके द्वारा अल्पसंख्यकों के अधिकारों का हनन होता है। इसके ठीक विपरीत भारत के पडोसी देश पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय की क्या स्थिति है, न तो इस विषय पर किसी अंतर्राष्ट्रीय नेता या एजेंसी का कोई सख्त बयान सुनने में आता है न ही कोई मानवाधिकारवादी-स्वयंसेवी संस्था उनकी स्थिति सुधारने तथा पाक सरकार को कठधरे में खडा करने के लिए कोई ठोस प्रयत्न करते हुए दिखाई दे रही है।

शायद ही विश्व का कोई देश होगा, जहाँ अल्पसंख्यक समुदाय को भारत के समान भाषा, भूषा, धर्म, मान्यता और आर्थिक सहयोग की सुविधा केंद्र व राज्य सरकारों से मिली हो। उसके बाद भी सदैव हिन्दुस्तान को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर बदनाम करने की कोशिश ही की जाती रही है।

पाकिस्तान या बांग्लादेश को लेकर तथाकथित धर्मनिरपेक्षवादी अथवा मानवाधिकारवादी कोई बोलने को तैयार नहीं! आखिर क्या कारण हैं इसके पीछे ?जब कि पाकिस्तान और बांग्लादेश में अल्पसंख्यक कितने असुरक्षित हैं यह आज किसी से छिपा नहीं है। इन देशों में स्थिति इतनी गंभीर हो गई है कि भारत-पाक विभाजन सन् 1947 में जितनी हिन्दू-सिख आबादी पाकिस्तान में बची थी उसकी तुलना में आज केवल तीन प्रतिशत ही अल्पसंख्यक पाकिस्तान में बचे हैं जो कि भयक्रांत हो जीवन जीने को विवश हैं।

इससे बेहतर स्थिति बांग्लादेश की हो ऐसा नहीं है। वहाँ भी लगातार अल्पसंख्यक हिन्दू लाखों की संख्या में पलायन कर रहे हैं। हजारों की संख्या में बांग्लादेशी हिन्दू भारत व अन्य निकटवर्ती देशों के सीमावर्ती क्षेत्रों में अपनी जमीन और संपत्ति छोडकर शरणार्थी का जीवन व्यतीत करने को मजबूर हैं। इसके अलावा लगभग चार करोड बांग्लादेशी घुसपैठिए आज हिन्दुस्तान के सीमांत इलाकों में किसी मजबूरी या परेशानी में आकर नहीं बसे, बल्कि उनकी मंशा भारत की सीमाओं के जनसंख्यात्मक संतुलन को बिगाडकर आगे जनसंख्या के दबाव और आपसी सहमति के आधार पर बांग्लादेश में मिलाने का रास्ता प्रशस्त करना है। यह बात अलग है कि भारत में चल रहे इतने बढे षड्यंत्र के बावजूद बोट बैंक की खातिर केन्द्र सरकार कुछ बोलना नहीं चाहती।

पाकिस्तान में तालिबानी दहशतगर्दों से खौफजदा सिंध प्रांत के 9 हजार से ज्यादा परिवार आज यहाँ से भागना चाहते हैं।यह वह संख्या है जो पलायन के लिए बीजा का इंतजार कर रही है। सिर्फ सिंध प्रान्त के 30 लाख हिन्दू-सिख परिवार पाकिस्तान छोडने की आशा में जी रहे हैं। यहाँ सिख और हिन्दू परिवारों से जबरन जजिया वसूलने, बच्चियों और महिलाओं का अपहरण और लूटपाट आम बात है। अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाएँ तो इतनी असुरक्षित हैं कि उनका घर से निकलने के बाद कब दिनदहाडे अपहरण हो जाएगा यह वे सपने में भी नहीं सोच सकतीं। केवल घर से निकलने की ही बात नहीं है मनचले, रंगदार एवं ताकतवर जब चाहे तब अपनी हवश पूरी करने के लिए अल्पसंख्यक महिलाओं को उठाकर ले जाते हैं। जबरन हिन्दू-सिख लडकियों से लव-जिहाद या भय का सहारा लेकर विवाह किये जा रहे हैं, जिसका परिणाम यह हुआ है कि अल्पसंख्यकों के बीच बिगडते जनसंख्यात्मक असंतुलन के कारण कई हिन्दू युवक बिना शादी के अपना पूरा जीवन बिताने को मजबूर हैं।

साक्ष्य मौजूद हैं कि हालात से मजबूर होकर सिर्फ प्रतिमाह सैकडों की संख्या में लोग भारत आ रहे हैं इसके अलावा अन्य देशों में जाने वालों की संख्या अलग है। तालिबानी आतंक इन हिन्दू-सिख परिवारों पर इस तरह छाया हुआ है, कि भयभीत स्थिति में आज यह अपने घर छोडकर स्वातघाटी से दूर-दराज के क्षेत्रों चांगली, जहांगी, गोगा, गहूर, गोस्टी, सांबरी, कोहाट आदि में टेंट लगाकर जीवनयापन करने को मजबूर हैं। गुरू द्वारा पंजा साहिब में सैकडों हिन्दू-सिख शरण लिए हुए हैं। आज पाकिस्तान में इसे लेकर न कोई मानवाधिकारवादी आवाज उठा रहा है न सरकार का इस ओर कोई ध्यान है कि अल्पसंख्यक भी पाकिस्तान के उतने ही अहम नागरिक हैं जितने कि वहाँ के बहुसंख्यक समाज के लोग।

हां! इसे लेकर अमेरिका में सिख समुदाय की संस्था काउंसिल ऑफ रिलीजियस एण्ड एजूकेशन तथा समय-समय पर विश्व हिन्दू परिषद् जरूर अपना विरोध जताती रही हैं। लेकिन इस बार काउंसिल ऑफ रिलीजियस एण्ड एजूकेशन ने अपनी आपत्ति साक्ष्यों के साथ सार्वजनिक करते हुए हिन्दू-सिखों की जानमाल की रक्षा हेतु पाकिस्तान पर अंतर्राष्ट्रीय दबाव बनाने की मांग की है।

लगातार पाकिस्तानी राष्टन्पति आसिफ अली जरदारी से यह मांग की जा रही है कि वह अपने अल्पसंख्यकों को सुरक्षा और भयमुक्त माहौल प्रदान करने की व्यवस्था करें। किन्तु पाकिस्तान की वर्तमान परिस्थितियाँ यही बता रहीं हैं कि स्वयं जरदारी की इस कार्य में कोई रूचि नहीं कि वे अपने देश के अल्पसंख्‍यकों की ओर ध्यान दें। वस्तु: इस विकट परिस्थिति में सिर्फ अमेरिका से किसी संस्था के आवाज उठाने से काम नहीं चलने वाला। हिन्दू-सिख बहुसंख्यक समाज के अनेक संगठन और स्वयंसेवी संस्थाएँ भारत सहित अनेक देशों में फैली हुई हैं। आखिर इतने बडे मुद्दे पर वह क्यों चुप बैठी हैं? धर्म और जाति के नाम पर उनके सहोदरों को अनेक कठिनाईयाँ उठानी पड रहीं हैं तब यह संस्थाएँ खुलकर उनके समर्थन में स्वतंत्र भारत तथा अन्य देशों में अपनी आवाज बुलंद क्यों नहीं करतीं?

जब डेनमार्क में किसी पत्रकार द्वारा मोहम्मद साहब के चित्र के साथ छेडछाड की गई, तब विश्वभर के देशों में एक समुदाय विशेष ने इसके विरोध में बडे-बडे जुलूस निकाले थे, जिनमें से अनेक स्थानों पर उन्होेंने हिंसा का रूप भी लिया। लज्जा उपन्यास में बांग्लादेशी हिन्दू अल्पसंख्यकों पर होने वाले अत्याचारों की सच्चाई लिखी गई तो उपन्यासकारा लेखिका तस्लीमा नसरीन के विरूध्दा जिहादी शक्तियों ने मौत का फरमान जारी कर दिया था। जिसके बाद से लगातार यह महिला अपने देश से दूर निवार्सित जीवन जीने को मजबूर है, इनके निवार्सित जीवन को लेकर जिस प्रकार भारत सहित अन्य देशों में आवाज बुलंद की गई, परिणामस्वरूप बांग्लादेश सरकार पर तस्लीमा की सुरक्षा सम्बन्धी अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने दबाव बनाया था ठीक उसी प्रकार आज इस बात की जरूरत है कि भारत सहित विश्व के अनेक देशों में रह रहे हिन्दू-सिख अपने धर्मभाईयों पर हो रहे पाकिस्तानी अत्याचार के खिलाफ एकजुट होकर आवाज बुलंद करें। क्या पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए हिन्दू और सिख एक शक्तिशाली अंतर्राष्ट्रीय मंच खडा नहीं कर सकते हैं?

-मयंक चतुर्वेदी

5 Responses to “पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की दयनीय हालत”

  1. abhijeet

    कश्मीरी पंडितो के मामले के साथ पाकिस्तान के ३० लाख हिन्दू सिख लोगों के प्रति भारत सरकार की जिम्मेदारी क्या हो ,इस पर विचार किया जाना चाहिए .

    Reply
  2. MANAV

    ” सोचो और समझो ”

    एक सज्जन ने मुझे कहाँ की दुनियामे जो भी बुराई होती है ,जो भी संकट आते है , मनमुटाव होता है उसके पीछे धर्म की अंधी सोच
    ही जिम्मेदार होती है ! मुझे अचरज हुवा ! ये कैसे हो सकता है ? तो उसने कहाँ कहो कोई भी हो रही असुविधा के बारेमे और देखो
    उसके पीछे क्या है ! उस वक्त छुठे पैसेकी किल्लत थी ! मैंने कहाँ की बतावो छुठे पैसे और धर्मकी अंधी सोच का समन्ध क्या है ?
    मुझे लगा वो जबाब नहीं दे पायेगा ! उसने कहाँ की देखो आप हर मंदिर -मस्जिद- दर्गा जायेंगे तो वहां पर हजारो की तदादमे
    भिखारी -फकीर लोग होते है , मंदिर में चढ़ावे के नामपर लोग छुठे पैसे पेटीमे डालते है ! बालाजी मंदिर में तो हजारो गोनी भर
    छुठे पैसे जमा होते है एक ही हफ्तेमे ! इसलिए हमें छुठे पैसे की किल्लत होती है ! भाई वा !! क्या जबाब दिया है !
    कहनेका मतलब जबतक लोग धर्मकी अंधी सोच को चिपके रहेंगे लोगोंका विकास नहीं होगा ! आपसमे ही लड़ -मर जायेंगे !
    धर्म के ढोल दिनों दिन बहुत बज रहे है ! लगता है ये आनेवाले समय के लिए बड़े संकट की आहट है ??
    हमारी बुराई ये है की हजारो सालो में जो लिखा गया वो सब सच है ऐसा मानना ! कोई भी किसी असंभव बातोंकी चिकिस्सा
    नहीं करता , न कोई झूठी बातोंकी पोल खोलता है ! जिसके वजह हम एक जात के इन्सान [होमो सेपिएंस ] है ये भूल गए है !
    और दूसरी जात वालोंको मानो दूसरी दुनियाका प्राणी मान कर उसका और उसके धर्मका निरादर करते है और फिर होती है ,धर्म के
    नामपर मारकाट !! एक बाबरी मस्जिद गिराई गई तो बंगला देशमे १५०० मंदिर गिराए गए थे !
    हमें धर्म -जात -पात को भूलकर सिर्फ इंसानियत पर विश्वास करना है ! ये धर्म , स्वर्ग -नरक सिर्फ धर्मके ठेकेदारोंकी सोच है !
    ये भ्रमांड जिस तरह निर्माण हुवा है उसी तरह एक दिन नष्ट हो जायेगा ! सूरज से हजारो गुना बड़े तारें नष्ट हो जाते है तो
    इंसान की औकात ही क्या है ????

    Reply
  3. sunita anil reja

    सर, आईटी इस नोट अ न्यू थिंग फॉर गवर्नमेंट बेकाउसे इन ओउर काउंट्री लिखे तेरे इस नो हर्रास्स्मेंट और मिस्बेहावे विथ मिनोरिटी बुत ओउर पोलिटिकल लीडर विल अल्वाय्स तरी तो एनकैश थेम अस वोट बैंक पोलिटिक्स. इन्फक्ट आईटी इस नोट गुड फॉर मिनोरिटी नोर गवर्नमेंट बेकाउसे एदुकतिओन, फ़ूड, शेल्टर इस प्रीमे रेकुइरेमेंट ऑफ़ पोपले सो तेरे अरे प्लेंटी ऑफ़ चांसेस इन इंडिया तो सीक जॉब इन एनी कंसर्न अस इंडिया दोएस नोट प्रोविदे जॉब ओं थे बसे ऑफ़ रेलिगिओं , कसते और रेगिओं. आईटी इस इन्दिविदुअल’स कापबिलिटी तो होल्ड थे हिघेस्त पोस्ट लिखे प्रेसिडेंट ऑफ़ इंडिया एंड डॉ. अब्दुल कलम एंड ओथेर गुड मुस्लिम लीडर्स अचिएवेद अल सुच्सस इन अल फिएल्ड्स व्हेठेर इस इस स्सिएंस एंड तेच्नोग्य और स्पोर्ट्स एंड एनी क्रेअतिवे लाइन. सानिया मिर्ज़ा, पठान ब्रोठेर्स एंड मानी मोरे अरे गुड एक्साम्प्ले तो प्रोविदे अल ओप्पोर्तुनिटी इन इंडियन सोइल विथौत एनी दिफ़्फ़ेरेन्तिअते बेत्वीन रेलिगिओं एंड कसते. इंडिया इस ग्रेट एंड ओने डे विल कामे व्हेन मिनोरिटी ऑफ़ इंडियन पोपले विल रेअलिसे ठाट थे अरे बेस्ट पोसितिओन अस कोम्परे तो ओथेर कौन्त्रिएस. जय हिंद, जय भारत, जय इंडिया
    सुनीता अनिल रेजा, मुंबई

    Reply
  4. sunil patel

    मयंक जी ने बहुत कम शब्दों में एक बहुत बड़ी समस्या बयां कर दी है. दुनिया के सारे मानवाधिकार संगठन केवल भारत मैं ऊँगली उठाने के लिया बने है. पाकिस्तान बंगलादेश से उन्हें कुछ लेना देना नहीं हैं. हमारी सररकार के पास इन मुद्दों के लिया समय ही नहीं हैं.

    Reply
  5. A.Arya

    वहां जाने की क्या जरूरत है कशमीर को ही देख लो ………………..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *