वैटिकन शहर  का इतिहास

vetican cityवैटिकन शहर  यूरोप महाद्वीप में स्थित एक देश है। पृथ्वी पर सबसे छोटा स्वतंत्र राज्य है जिसका क्षेत्रफल केवल 44 हेक्टेयर  108-7 एकड़ है। यह इटली के शहर रोम के अन्दर स्थित है। इसकी राजभाषा लातिनी है । ईसाई धर्म के प्रमुख साम्प्रदाय रोमन कैथोलिक चर्च का यही केन्द्र है और इस सम्प्रदाय के सर्वोच्च धर्मगुरु पोप का यही निवास है। यह नगर एक प्रकार से रोम नगर का एक छोटा सा भाग है। इसमें सेंट पीटर गिरजाघर वैटिकन प्रासाद समूह वैटिकन बाग तथा कई अन्य गिरजाघर सम्मिलित हैं। सन् 1929 में एक संधि के अनुसार इसे स्वतंत्र राज्य स्वीकार किया गया है । इस राज्य के अधिकारी 45 करोड़ 60 लाख रोमन कैथोलिक धर्मावलंबियों से पूजित पोप हैं। राज्य के राजनयिक संबंध संसार के लगभग सब देशों से हैं। सन् 1930 में पोप की मुद्रा पुन% जारी की गई और सन् 1932 में इसके रेलवे स्टेशन का निर्माण हुआ। यहाँ की मुद्रा इटली में भी चलती है। आकर्षक गिरजाघरों मकबरों तथा कलात्मक प्रासादों के अतिरिक्त वैटिकन के संग्रहालय तथा पुस्तकालय अमूल्य हैं। पोप के सरकारी निवास का नाम भी वैटिकन है। यह रोम नगर में टाइबर नदी के किनारे वैटिकन पहाड़ी पर स्थित है तथा ऐतिहासिक सांस्कृतिक एवं धार्मिक कारणों से प्रसिद्ध है। यहाँ के प्रासादों का निर्माण तथा इनकी सजावट विश्वश्रुत कलाकारों द्वारा की गई है।

रोमन कैथोलिक चर्च का इतिहास

वेटिकेन में कभी शिव मंदिर हुआ करता था ।सभी धर्म एक ही धर्म का हिस्सा हैं जिसका प्रमुख वैदिक धर्म है। इतिहासकार पी एन ओक इसे समझाते हुए कहते है कि वेटिकेन शब्द संस्कृत के वाटिका से लिया गया है और fdzzlpsUVh शब्द कृष्ण नीति से बना है और आगे वो कहते हैं कि अब्राहिम भी ब्रह्मा का ही एक विकसित रूप है। उदाहरण के लिए खुद ही इस फोटो को गौर से देखिये जिसमे आपको चर्च का एरिया एक शिव लिंग की तरह नज़र आएगा। हिन्दू सभ्यता में मंदिरों का बड़ा ही महत्व है । इन मंदिरों में लोग अपने-अपने देवताओं की उपासना करते हैं। पर ऐसा नहीं है कि ये मंदिर केवल भारत नेपाल आदि तक ही फैले हैं बल्कि देश के बाहर भी इन मंदिरों का इतिहास फैला हुआ है।  किसी समय हिन्दू सभ्यता ने अपनी जड़ें यूरोप से लेकर एशिया तक फ़ैला रखी थी जिसके प्रमाण आज भी मिलते हैं।

 

आठवीं शताब्दी से आगे का इतिहास

आठवीं शताब्दी ई में रोम के निकटवर्ती प्रदेशों पर चर्च का शासन स्वीकार किया जाने लगा। इस प्रकार पेपल स्टेट्स का प्रारंभ हुआ। सन् 1670 ई में इटली ने पेपल स्टेट्स को अपने अधिकार मे ले लिया। इससे इटली और चर्च में तनाव पैदा हुआ क्योंकि रोमन कैथालिक चर्च अपने परमाध्यक्ष को ईसा का प्रतिनिधि जानकर यह आवश्यक समझता है कि वह किसी राज्य के अधीन न रहे। सन् 1929 ई में इटली ने रोमन कैथोलिक चर्च के साथ समझौता करके उसे संत पीटर के महामंदिर के आसपास लगभग 109 एकड़ की जमीन दे दी और उस क्षेत्र को पूर्ण रूप से स्वतंत्र मान लिया। इस प्रकार चिट्टाडेल वाटिकानो अर्थात् वैटिकन नगर नामक एक नया स्वायत्त राज्य उत्पन्न हुआ। उसे अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त है और उसके अपने सिक्के अपना डाक विभाग रेडियो आदि हैं। उसके नागरिकों की संख्या लगभग 700 है। उस केंद्र से पोप पूर्ण स्वतंत्रता से दुनिया भर में फैले हुए रोमन कैथोलिक चर्च का आध्यात्मिक सचालन करते हैं।

रोमन कैथोलिक चर्च का डिजाइन

इस चर्च का डिजाइन और 1656 और 1667 के बीच बेरनिनी द्वारा बनाया गया। सिकंदर सप्तम 1655.1667 के प्रधान पादरी के दौरान वर्ग दो अलग अलग क्षेत्रोंसे बना है। पहली बार एक चतुर्भुज आकार चर्च वर्ग के प्रत्येक पक्ष पर दो सीधे बंद कर दिया और अभिसरण हथियारों से बंद चिह्नित है। दूसरा क्षेत्र अंडाकार है और एक चार पंक्ति कोलोनेड के दो  हेमीसाइकिल्स से घिरा हुआ है क्योंकि जैसा कि बेर्निनी ने कहा पर विचार सेंट पीटर की सभी चर्चों में से लगभग मैट्रिक्स है कि अपने पोर्टिको खुली सशस्त्र मातृ देना था सभी कैथोलिक करने के लिए स्वागत करते हैं उनके विश्वास की पुष्टि विधर्मियों के लिए उन्हें चर्च के साथ मेल मिलाप कर लिया और काफिरों के लिए उन्हें सच्ची श्रद्धा के बारे में जागरूकता फैलाने के। बेरनिनी में तथ्य यह है एक तीन सशस्त्र पोर्टिको तैयार है लेकिन अलेक्जेंडर सातवीं की मौत के बाद पोर्टिको का निर्माण रुका हुआ था और तीसरे हाथ कभी नहीं बनाया गया था। यह पूरी इमारत संलग्न और डि बोरगो तिमाही से अंडाकार अलग है। इस प्रकार तीर्थ जो अचानक वर्ग में खुद को पाया के लिए एक आश्चर्य प्रभाव बनाने होता है। इस आशय की कुछ हद तक वर्ग तथाकथित स्पाइना डि बोरगो आसपास के भवनों जो स्वाभाविक रूप से वर्ग में बंद कर दिया द्वारा हासिल की थी। 1950 में वाया डेला कानसीलाइजिआन एक नया विस्तृत सड़क वेटिकन बेसिलिका के लिए अग्रणी खोला गया था। यह सेंट पीटर डोम के राजसी देखें इम्पलीफाइज लेकिन यह भी गहराई से बेरनिनी की मूल योजना को संशोधित किया। वर्ग की माप प्रभावशाली हैं यह 320 मीटर गहरी हैए इसका व्यास 240 मीटर है और यह 284 कॉलम चार की पंक्तियों में बाहर सेट और 88 प्लास्टर से घिरा हुआ है। वर्ष 1670 के आसपास बेरनिनी के विद्यार्थियों संतों की 140 मूर्तियां स्तंभों के ऊपर कटघरा के साथ 3.20 मीटर ऊंचा बनाया। ओबिलिस्क है  जो 1585 में डोमेनिको फोंटाना द्वारा वर्ग के बीच करने के लिए ले जाया गया था के दोनों तरफ दो महान बेरनिनी 1675 और मैडरोना 1614 द्वारा बनाया फव्वारे हैं। नीचे बेसिलिका के सामने सीढ़ी के पैर में सेंट पीटर और सेंट पॉल की मूर्तियों आगंतुकों का स्वागत करने लगते हैं।  यह 1662 और 1666 के बीच बनाया गया था। और हालांकि यह वास्तव में इस तरह की चौड़ाई प्रगतिशील संकुचन और ऊपर की ओर स्तंभों के बीच एक कम दूरी के रूप में 60 मीटर की दूरी पर परिप्रेक्ष्य उपकरणों के उपाय यह बहुत लंबे समय तक लग रही हो।

Leave a Reply

%d bloggers like this: