मानव विकास का सिद्धांत – ग्रहों की भूमिका

बीसवीं सदी के शुरुआती दार्शनिक और रहस्यवादी रूडोल्फ स्टीनर ने सात साल के चक्रों के आधार पर मानव विकास के एक सिद्धांत की कल्पना की और उन चक्रों को ज्योतिष से जोड़ा। जीवन के पहले सात वर्ष (4-7 वर्ष के) चंद्रमा से जुड़े थे। इस समय के दौरान, मानसिक शक्तियां बच्चे के शरीर को एक से बदलने का काम कर रही हैं जो कि माता-पिता से विरासत में मिला था, जो कि बच्चे के पूर्ण व्यक्तित्व का प्रतिनिधित्व करता है। दूसरा सात साल (7-14 साल का) बुध के साथ जुड़ा हुआ है। इस समय, बच्चे की कल्पना और महसूस करने का केंद्र बिंदु होता है।

तीसरा सात वर्ष (14-21 वर्ष) शुक्र के साथ जुड़ा हुआ है, उस समय के दौरान किशोर का उच्च दिमाग जड़ लेता है, और मानसिक विकास यौवन के मजबूत आवेगों से परेशान हो सकता है। अगले तीन सात साल खंड सूर्य (21-42 वर्ष पुराने), और भावुक आत्मा, बौद्धिक आत्मा और चेतना आत्मा के तत्वों से जुड़े हैं। अगले सात साल का सेगमेंट मंगल ग्रह से जुड़ा हुआ है (42-49 वर्ष पुराना), जब आत्मा दुनिया पर अपने व्यक्तित्व की पूर्ण शक्तियों को प्रभावित करने के लिए कड़ी मेहनत करती है। इस समय, आत्मा को आत्म नामक चेतना की उच्च अवस्था का अवसर मिलता है।

निम्नलिखित सात साल का खंड बृहस्पति (49-56 वर्ष पुराना) से जुड़ा हुआ है, जब ज्ञान बौना है और अहंकार को जीवन आत्मा को प्रकट करना है। अंतिम सात वर्ष की अवधि शनि (56-63 वर्ष की उम्र) के साथ जुड़ी हुई है जब शनि अपना दूसरा “रिटर्न” पूरा करता है (जैसे कि वह अपने जन्म के समय वापस अपनी स्थिति में आता है), और आत्मा एक घटना को प्रकट कर सकती है स्पिरिट मैन कहा जाता है।  इसी प्रकार जन्मपत्री के बारह भाव अपनी खास बारह विशेषताओं के लिए जाने जाते हैं-

बारह भावों की बारह विशेषताएं –

प्रथम भाव –  व्यक्तित्व मुखौटा, द्वितीय भाव – भोजन सुरक्षा, तृतीय भाव – बौद्धिक क्षमता, चतुर्थ भाव – भावनात्मक सुरक्षा, पंचम भाव – जीवन का आनंद, षष्ठ भाव – जिम्मेदारियां, सप्तम भाव – संबंध, अष्टम भाव – जीवन से निपटने की क्षमता, नवम भाव – दार्शनिक विश्वास, दशम भाव – व्यक्तिगत स्थिति, एकादश भाव – सामाजिक जीवन और द्वादश भाव – गुप्त सपने 

नौग्रहों के नौ प्रभाव 

सूर्य, चंद्र, शुक्र, मंगल और अन्य ग्रहों का हम सभी के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। कुछ खास समयावधियों में हमारे व्यवहार, हमारे द्वारा लिए गए निर्णयों पर भी ग्रह प्रभाव डालते है। जीवने विभिन्न चरणों में ग्रह कुछ इस प्रकार हमें सामान्यत: प्रभावित करते है। ग्रहों के प्रभाव को ध्यान में रखते हुए हम अपने जीवन को आठ चरणों में विभाजित किया जा सकता है, जिसके आधार पर हम यह तय कर सकते हैं कि किस आयु में कौन से ग्रह का प्रभाव हम पर अधिक रहेगा। इसी प्रकार ग्रहों के प्रभाव को 12 माहों के अनुसार भी विभाजित किया जा सकता है। सूर्य – आत्म-अभिव्यक्ति, चंद्रमा – भावना, बुध – धारणा, शुक्र – आकर्षण, मंगल – अभिकथन, बृहस्पति – विस्तार, शनि – सीमा।

मानव विकास के विभिन्न चरणों पर सात वर्ष के अंतराल के अनुसार ग्रहों के प्रभाव को निम्न प्रकार से जाना जा सकता है-

प्रथम चरण – चंद्रमा – आयु 0 से आयु 7 तक

हमारे जन्म से लेकर सातवें जन्मदिन तक, हम ज्यादातर चंद्रमा से प्रभावित होते हैं। चंद्रमा की मुख्य विशेषता संवेदनशीलता है। हम दुनिया के ज्ञान के बिना जीवन में आते हैं, एक मासूमियत की स्थिति। जैसे ही चंद्रमा एक अंधेरी रात में प्रकाश लाता है, यह अवधि हमारे जीवन को विचारों को प्रदान करती है। चंद्र प्रतिदिन अपनी स्थिति बदलता है आज के बच्चे इलेक्ट्रॉनिक जानकारी के जानकार है, हम जो फोन करना नहीं जानते, हमारे बच्चे उन फोन को सरलता से प्रयोग कर लेते है। इस आयु में बालक में संवेदनशीलता सामान्य से अधिक होती है। 

चरण 2 – बुध – आयु 7 से 14

7 से 14 वर्ष की आयु जिसे हम टिनेजर आयु के नाम से भी जानते है। इस आयु में बालक पर सबसे अधिक बुध का प्रभाव पाया गया है। बुध के सभी गुण इस आयु के बालकों में प्रत्यक्ष रुप से देखे जाते है। ग्रहों में बुध का स्थान राजकुमार का है। 7 से 14 वर्ष की आयु में बालक भी एक राजकुमार की भांति व्यवहार करते हैं। बुध ग्रह की यह विशेषता है कि वह अपने आसपास की दुनिया को समझने और जानने का प्रयास करता है। हर दिन चीजों में बदलाव करता है। इस समय में बालक भी व्यवहार करना और संचार करने के नियम सीखता है। बुध परंपरागत रूप से दिमाग, बौद्धिक गतिविधियों, सौदेबाजी और शरारतों का कारक ग्रह है। इन दस साल की अवधि में स्कूल जाना, दोस्त बनाना, युवावस्था और सामाजिक प्राणी बनने की आयु से गुजरता है। 

चरण 3 – शुक्र – आयु 14 से 21

शुक्र ग्रह का हम सभी पर बहुत गहरा प्रभाव है, यह जीवन में प्रेम का प्रतिनिधित्व करता है। 14 से 21 वर्ष की आयु खुद की भावनाओं की खोज की आयु होती है। 14 वर्ष की आयु से बालक किशोरावस्था में प्रवेश करता है और विपरीतलिंग के प्रति आकर्षण महसूस करता है। अपने आसपास के रिश्तों को महसूस करता है और उनसे जुडता है। हार्मोनल बदलाव के कारण इस आयु में किशोरों में भावुकता, भ्रम और हताशा सामान्य से अधिक रहती है। किशोर होने के कारण वह बहुत अधिक बहस करता और क्रोध भी अन्यों की तुलना में अधिक आता है। जीवन मे आने वाली चीजों को स्थापित करता है। इन आठ सालों में किशोर पर दोस्तों, रिश्तेदरों और खुद को समझने का प्रयास करता है। यह समय हमें दुनिया की वास्तविकता से परिचित कराती है। 

चरण 4 – मंगल – 21 से 42 तक

आयु के इस चरण में व्यक्ति मे नया दृष्टिकोण, आकांक्षाएँ, और इच्छाएँ होती है। यह समय करियर और विवाह के साथ एक नया जीवन शुरु करने का समय होता है। दोनों ही बातें व्यक्ति को जीवन लक्ष्य तक पहुंचने में सहयोग करती है। जोश, उत्साह और ऊर्जा के साथ जीवन की एक नई शुरुआत का समय होता है। इस आयु में वयस्क की तरह व्यवहार करने लगता है, अक्सर अनुभव और ज्ञान के बिना जीवन में आगे बढ़ता है। इस समय में अहंकार भी देखा जाता है

चरण 5 – सूर्य आयु 42 से 49

जीवन की इस अवधि में, वांछित सामाजिक स्थिति प्राप्त करने के लिए प्रयास करते हैं। इसके अलावा, यह एक ऐसी अवधि है जहां आप महत्वपूर्ण शारीरिक परिवर्तनों से लड़ते हैं। यह चरण हर व्यक्ति के जीवन में बहुत तनावपूर्ण है। इस आयु में व्यक्ति पर सूर्य का आमतौर पर सबसे अधिक प्रभाव होता है।

चरण 6 – बृहस्पति – युग 49 से 56

वैदिक ज्योतिष में, बृहस्पति ग्रह को गुरु के रूप में जाना जाता है, यह एक शिक्षक, जीवन और आशा का दाता है। इस अवधि के दौरान, बृहस्पति ग्रह का प्रभाव व्यक्ति पर सबसे अधिक रहता है। भौतिक जीवन की वास्तविकता उसे समझ आ गयी होती है और वह आध्यात्मिक मार्ग पर आगे बढने का प्रयास करता है। जीवन के इस दौर में  जीवन को उद्देश्यपूर्ण बनाने और उम्मीद ना रखने की भावना का विकास होता है। यह गुण गुरु ग्रह के है।  घर-परिवार से जुड़े अपने कर्तव्यों को पूरा करने, उदारता, विस्तारवादी और ज्ञान की अवधि होती है। 

चरण 7- शनि – आयु 56 तो 63 

इस अवधि में शनि ग्रह का प्रभाव सबसे अधिक रहता है। यह बुढ़ापे का प्रतीक है। इस आयु मे जीवन ऊर्जा शिथिल होनी शुरु हो जाती है। इस समय एक ओर  शरीर के कार्य मंद गति से पूरे होते है तो दूसरी ओर यह ज्ञान की अवधि भी है। शनि हमें जीवन की वास्तविकता, सच्चा आत्म-ज्ञान, या इसकी कमी का एहसास कराता है। युवा आयु कहीं पीछे छूट गई होती है और हम एक परिवक्वता के मार्ग पर आगे बढ़ गए होते है। यहां से हम एक नए आनंदपूर्ण जीवन के मार्ग पर चलते है। कुछ के लिए यह समय उपेक्षा, कड़वाहट और अफसोस का समय है। 

Leave a Reply

%d bloggers like this: