ये पत्रकार बड़े है

शहर में इनकी खूब चर्चा है
अतिक्रमण हटाने वाली टीम के
अधिकारियों से चलता खर्चा है।
ये शौकीनमिजाज है
सभी जगह खबू चरते-फिरते है
सांडों को इनपर नाज है।
ये सरकारों से बड़े है
इनका नाम खूब चलता है
ये सरदार बड़े है।
ये जो तंबूओं से तने बने है
नौकर इनके पढ़े लिखे है
ये अंदर ही अंदर जले भुने है।
ये दमदार है इनमें बड़ा दम है
बड़ा हाजमा है इन्हें सब हजम है
ये ऐसे वैसे नहीं छटी हुई रकम है।
कम नापना-तौलना इनका काम
ये नेता बड़े है लाॅ पढ़े है
कम जाॅचना-तौलना इनके नाम।
ये सोने के पलने में चान्दी से चलते है
इनके ओठों पर लाली,गाल गुलाबी है
ये साॅझ ढ़लते ही गर्मी में मचलते है।
ये सायकल पर अटके कभी न भटके
खरे सिक्के से चलते रहे है
ये बिना पंख के है सभी से जरा हटके ।
ये दिखते गुुटके से है गजब लटके से
किसी पेटूबाला सा पेट मटका है
इनके अजूबेपन का देश में खटके है।
ये दिमाग गिरवी रखते है बुद्धिवंद है
अक्ल के दरवाजे सदा रखते बंद है
पीव खेलते-खाते ये रहते स्वच्छन्द है।
यहाॅ के पत्रकार बहुमुखी है बहुमत से दूर
अखबार चैनलों के पीव ये है परिपोषक
निर्दन्दी है अपने अधिकार पाने मतिमन्द भरपूर।

Leave a Reply

%d bloggers like this: