लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under कविता.


-राघवेंद्र कुमार-

life2

जहां मार्ग में ही ठहराव है।

दिखते कुछ हैं करते कुछ हैं,

यहाँ तो हर दिल में ही दुराव है।

किस पर ऐतबार करें किसे अपना कहें,

हर अपने पराए हृदय में जहरीला भाव है।

अपना ही अपने से ईर्ष्या रखता है,

हर जगह अहम् का टकराव है ।

अरे “राघव” तू यहाँ क्यों आया,

यहाँ दिखते रंगीन सपने महज़ भटकाव हैं ।

2 Responses to “ये जीवन का कौन सा मोड़ है”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *