लेखक परिचय

प्रमोद भार्गव

प्रमोद भार्गव

लेखक प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार है ।

Posted On by &filed under विविधा.


प्रमोद भार्गव

देशव्यापी असंतोष ने यह तय कर दिया है कि देश एक और करबट लेने को आकुल है। लिहाजा न केवल राजनीति, प्रशासन, न्यायपालिका, रक्षा,स्वयंसेवी संगठन बल्कि कारोबारी और पत्रकार घरानों से भी यह अपेक्षा की जा रही है, कि वे उस चौहद्दी को पारदर्शी बनाएं जो भ्रष्टाचार और आय के स्त्रोत्रों को गोपनीय बनाए रखने का काम कर रही है। हालांकि इस हकीकत को भांप तो तमाम नेता रहे हैं, लेकिन वे इसे नकारने में ज्यादा उर्जा खफा रहे हैं, जिससे उनके चेहरे का नकाब न उतरने पाए। अलबत्ता रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी के साहस को जरुर दाद देनी होगी कि उन्होंने देश की नब्ज पर हाथ रखा और धारा के विपरीत चल रहे जनांदोलनों को पारदर्शिता क्रांति की संज्ञा दी। इस क्रांति के दबाव के चलते ही प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने सभी मंत्रियों से अपनी संपत्ति और कारोबारी हितों को सार्वजनिक करने की अपील के साथ अपनी संपत्ति का भी खुलासा कर एक आदर्श स्थिति पेश की। दिग्विजय सिंह ने भी अपना प्रचलित सुर बदलते हुए प्रधानमंत्री, न्यायपालिका, स्वैछिक संगठन और औद्योगिक घरानों को लोकपाल के दायरे में लाने की पैरवी की। ये संकेत साबित करते हैं कि तमाम मुश्किलें पैदा करने के बावजूद अन्ना हजारे और बाबा रामदेव के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलनों का दबाव व असर काम कर रहा है। भले ही उन्हें नकारने की सामानांतर मुहिम में भी चल रही हों।

यह एक शुभ संकेत है कि पारदर्शिता के मुद्दे को सत्ता पक्ष के एक कद्दावर ईमानदार व निष्पक्ष नेता का राजनीतिक समर्थन हासिल हुआ है। एके एंटनी ने उस राजनीतिक पूर्वग्रह को तोड़ने का काम किया है, जो बदलाव की दलीलों को ठुकरा रहा था। हालांकि इस बदलाव की यह पृष्ठभूमि राजनीतिक स्तर पर ही रची गई होती तो लोकमानस में राजनेताओं के प्रति आस्था का भाव जागता। क्योंकि प्रशासनिक ढांचे से तो इस इस्पाती रक्षा कवच को तोड़ने की उम्मीद की ही नहीं जा सकती। नौकरशाह तो गोपनीयता कानून को अंग्रेजी हुकूमत के समय से सुरक्षित बनाए हुए हैं। गोपनीयता कानून की साधना उनकी सर्वोच्च ढाल है। इसीलिए वे गोपनीयता को भंग करने वाला कोई पारदर्शी कानून वजूद में आए इसके हिमायती कभी नहीं रहे। यही वजह है कि प्रशासनिक अधिकारी लोकपाल के दायरे से बाहर रहें, इस मकसद पूर्ति में एकमत से जुटे हैं।

भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलनों की आग पर पानी पड़े इस नजरिये से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को मजबूर होकर अपने मंत्रियों को निर्देश देना पड़ा कि वे 31 अगस्त तक न केवल अपनी संपत्ति का ब्यौरा दें बल्कि व्यावसयिक हितों का भी खुलासा करें। केंद्रीय सूचना आयोग द्वारा भी राज्यसभा सचिवालय के माध्यम से सभी सांसदों से आग्रह किया गया है कि वे अपने निजी व अन्य कारोबारी हितों को सार्वजनिक करें। ब्रिटेन में यह परिपाटी है कि संसद का नया कार्यकाल शुरु होने पर सरकार मंत्री और सांसदों की संपत्ति की जानकारी और उनके व्यावसायिक हितों को सार्वजनिक करती है।

अमेरिका में तो राजनेता किसी भी प्रकार के प्रलोभन से दूर रहें, इस दृष्टि से और मजबूत कानून है। वहां सीनेटर बनने के बाद व्यक्ति को अपना व्यावसायिक हित छोड़ना जरुरी होता है। जबकि भारत में यह परिपाटी उलटबांसी के रुप में देखने को मिलती है। यहां सांसद और विधायक बनने के बाद राजनीति धंधे में तब्दील होने लगती है। ये धंधे, प्राकृतिक संपदा, भवन निर्माण, सरकारी ठेके और सार्वजनिक वितरण प्रणाली के राशन का गोलमाल कर देने जैसे गोरखधंधाें से जुड़े होते हैं। संवैधानिक अधिकारों के बेजा इस्तेमाल की हदें यहीं तक सीमित नहीं हैं, बल्कि कार्यकत्ताओं को लाभ पहुंचाने के लिहाज से एक पूरी ऐसी नाजायज कारोबारों की श्रृंखला तैयार कर ली जाती है, जो परस्पर सहयोग देते हुए मजबूती के वाहक बनें। ऐसे ही हालातों के नतीजतन आज विधायिका में शराब भवन निर्माण और खनिज ठेकों से जुड़े कारोबारियों की संख्या में लगातार वृध्दि हो रही है। इस राजनीतिक ताकत का दुरुपयोग विभिन्न धंधों में पूंजी का बेनामी निवेश करके आर्थिक हैसियत बेतहाशा बढ़ाने में लगे हैं। इसलिए अब वक्त का तकाजा है कि मंत्री, सांसद, विधायकों और उनके परिजनों के कारोबारों की पूरी जानकारी सार्वजनिक तो हो ही, उनके संवैधानिक दायित्व और व्यावसायिक हितों को भी अलग-अलग रेखांकित किया जाए। जिससे एक नैतिक मर्यादा दिखाई दे और संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के गोरखधंधों पर लगाम लगे।

हालांकि राजनीतिक इच्छाशक्ति मजबूत नहीं होने के कारण फिलहाल ऐसा कतई नहीं लगता कि विधायिका निकट भविष्य में कारोबार से निजात पा लेगी। क्योंकि निर्वाचन आयोग की सख्ती के चलते उम्मीदवारों के लिए यह तो पहले से ही जरुरी है कि वे नामांकन पेश करते वक्त अपनी चल-अचल संपत्ति, नकदी और उपलब्ध सोना-चांदी का ब्यौरा दें। लेकिन हम यदि लगातार दो या इससे अधिक मर्तबा पेश कर चुके उम्मीदवारों की संपत्ति की तुलना करें तो पाएंगे कि उनकी संपत्ति में आशातीत इजाफा तो हुआ, लेकिन यह धन-संपदा आय के किन स्त्रोतों से बढ़ी इसका कोई व्यावसायिक लेखा-जोखा वे पेश नहीं करते। शायद इसी परिप्रेक्ष्य में ए के एंटनी को कहना पड़ा है कि इस बदलाव की गूंज को राजनेता, नौकरशाह, न्यायपालिका, सेना और व्यापारी सुनना नहीं चाहते। कानों में हम अंगुली भले ही ठूंस लें लेकिन यह स्थिति अब यथावत रहने वाली नहीं है। जनतांत्रिक क्रांति की यह अनुगूंज थमेगी तो है ही नहीं, बल्कि इसकी तरंगों का और विस्तार होगा। गृहमंत्री पी.चिंदबर्म भले ही इस लोकशाही की आवाज को संसदीय लोकतंत्र का शत्रु मानें, किंतु ये थमने वाली नहीं है। बुलंदी की इन आवाजों में जहां सुर में सुर मिलाने की कवायद हो रही है, वहीं इन्हें ठेंगा दिखाने के परिप्रेक्ष्य में सीबीआई को सूचना के अधिकार से बाहर रखने का केंद्रीय केबिनेट ने हाल ही में फैसला लिया है। लेकिन ऐसे दुराग्रहपूर्ण फैसलो से नागरिक समाज का संकल्प टूटने वाला नहीं है, क्योंकि अब बदलाव के लिए सतत का्रंतियों का दौर शुरु होने जा रहा है। कालांतर में मानव समाज को परिर्वतन के लिए संघर्ष के दौरों से निरंतर गुजरना होगा। हालांकि यह एक नया विचार व तथ्य है, जिसे सत्ता की कमान संभाल रहे लोगों को मंजूर करने में समय जरुर लगेगा, लेकिन आखिरकार इस तथ्य को उन्हें मंजूर करना ही होगा।

2 Responses to “पारदर्शिता के लिए क्रांति का दौर”

  1. आर. सिंह

    आर.सिंह

    सच पूछिए तो हम लोग बहुत ही कन्फ्यूज्ड मन::स्थिति में हैं.हम लोगों में से अधिकतर लोग या तो खुद भ्रष्टाचार में लिप्त हैं या उसके लाभांश में हिस्सेदार हैं.दूसरे हम अगर अपना प्रभाव का उपयोग कर के या थोड़ा ले देकर अपना काम निकाल लेतें हैं तो हम महसूस ही नहीं करते की भ्रष्टाचार से कितनी हानि है.कोई आदमी जब जल्दी में कहीं जाने के लिए स्टेशन जाता है और उसे रेल कर्मचारियों की कृपा से कुछ ले दे कर ट्रेन में जगह मिल जाती है तो उस समय वह भ्रष्ट कृत उसे याद भी नहीं रहता.हमलोगों में से जो खुद भ्रष्ट नहीं भी हैं तो उपरोक्त तरीके से भ्रष्टाचार के शिकार हो कर भी खुश ही होतेहैं.सच पूछिए तो इसी तरह की स्थिति यानी परस्पर सहूलियत वाली स्थिति , भ्रष्टाचार के पनपने का एक बहुत बड़ा कारण है.इंडिया का आम आदमी जब तक भ्रष्टाचार के चंगुल में इस तरह नहीं फंसता की उसे हानि ही हानि दिखाई पड़े तब तक भ्रष्टाचार का मुद्दा उसके लिए बहुत बड़ा मुद्दा नहीं बनता. रह गयी बात सत्ता परिवर्तन को भ्रष्टाचार से उपर रखने की तो यह अपरिपक्वता का द्योतक है.१९७७ में बड़े जोर शोर से समूल सत्ता परिवर्तन हुआ था,पर भ्रष्टाचार पर अंकुश न लगने के कारण हमारी आज कीई स्थिति उस समय की स्थिति से ज्यादा खराब है.आज यदि जन लोकपाल बिल अपने मूल रूप मन पारित हो जाता है तो अगले चुनाव में केवल वही लोग सत्ता में आने की कोशिश करेंगे जिनमे सचमुच सेवा भाव है.तब भारत का स्वरूप भी दूसरा होगा.मगर ऐसा होगा नहीं,क्योंकि हम हर तरह की अडचन डाल कर या तो जन लोक पाल बिल को आने नहीं देंगे या वह आएगा तो भी उसका रूप ऐसा हो जाएगा की वह संस्था भी सिबिआई की तरह केंद्र सरकार के हाथों की कठपूतली बन कर रह जायेगी.मेरा सुझाव यही है की आप सब अल्पकालीन निजी लाभ से उपर उठकर सोचे और स्थिति को पूरी तरह समझ कर उसी के अनुरूप इस लड़ाई में आगे बढ़े तभी भ्रष्टाचार मुक्त भारत का सपना पूरा हो सकता है.बातें बहुत सी हैं पर मुख्य बात है की हम में से प्प्रत्येक यह सोचे की मैं खुद इमानदार हूँ या नही और बिना दूसरे के आचरण की और ध्यान दिए अपना आचरण सुधारने की कोशिश करे तो भर्ष्टाचारको खत्म होने में ऐसे भी देर नहीं लगेगी.

    Reply
  2. Himwant

    बात भ्रष्टाचार तक सिमीत न हो । व्यवस्था पैवर्तन की बात होनी चाहिए। आज भी देश विदेशी हुकमरानो और उनके दलाल चमचो द्वारा संचालित है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *