तुम बेटा नहीं, बेटी ही हो

—–विनय कुमार विनायक
बड़ा कठिन है एक पिता के लिए
पुत्र और कन्या में अंतर जान पाना
एक किसान की तरह पिता भी
निष्काम भाव से विसर्जित करता है बीज
रजस्वला धरती में बिना विचारे
कि कौन सा बीज नर है/कौन सा नारायणी!

दूर सोरीघर से आती किहूं-किहूं की पुकार काफी है
एक पिता के पितृसुख पाने के लिए
पिता; पुत्र या कि कन्या का बहुत बाद में
जानता है पिता सुनकर/जानकर/अनुमान करके ही!

बड़ा कठिन है एक पिता के लिए
पुत्र और कन्या के जैविक अंतर को मान पाना!

जिसे समय-समय पर जननी और प्रकृति ही जताती है
एक पिता जबतक सुनता रहता है
पापा-पापा की तुतली आवाज, मग्न रहता है
टॉफी-मिष्टान की जुगत में
सहलाके बच्चों के नन्ही-नन्ही चोंच/छोटे-छोटे पेट!

कोई पिता ऐसे में कैसे विश्वास कर सकता
कि अलग-अलग जीव है पुत्र और कन्या
एक जनक जो होता किसान सा भोला भाला
लहलहाते फसल पर निहाल होने वाला
जननी के बताने और प्रकृति के चेताने पर भी
मानना नहीं चाहता कि अलग-अलग होना है
पुत्र या कि कन्या का पिता होना!

तब जानकी स्वयं लीपकर पूजाघर/
उठाकर शिवधनुष/पूजकर गौरी-भवानी/
छोड़कर तुतलाना/गुड़िया को साड़ी पहनाना
अहसास दिला देती है पिता को स्वयं ही
कि मैं बेटा नहीं, बेटी हीं हूं!

सृष्टि के आरंभ से ही घर के झाड़ने-बुहारने
सांझबाती देने अतिथि को लोटा भर जल देने
बडों के थके पांव को दबाने से ही जान लेता है
हर पिता कि तुम पुत्र नहीं कन्या हो!

बेटी के इस भोलेपन से ही हर पिता बिन पढ़े
समझ लेता मनुस्मृति का वह विवादास्पद श्लोक
कि नारी बाल्यावस्था भर पिता के वश
यौवन भर पति के वश/पति के बाद पुत्र के वश
पर स्वतंत्र कभी छोड़ी नहीं जा सकती जीवन भर!

युगों का अनुभव है अनपढ़ किसान को भी
कि बेटा गेहूं का पौधा है और बेटी धान का बीहन
जिसे स्वजाए क्षेत्र से उखाड़कर,
पराए खेत में रोपना ही पड़ता है!

सदा से अपने खूनेजिगर को अपनी कोख से नोचकर
पराई हथेली में उगाने के पहले हर बेटी का बाप
अपनी क्षमता भर परखता रहा है
उस पराए हाथ की शुचिता-मजबूती, भरोसा-विश्वास को
कभी राम से तुड़वाकर सीता के उठाए उस शिवधनुष को
कभी सव्यसाची से लक्ष्य भेदाकर
मीनाक्षी याज्ञसेनी सी चमकती-घूमती मीन की आंखें!

अपनी बिटिया के लिए राम को पाने
या अर्जुन को जमाता बनाने के लिए
समझौता करता रहा हर जनक स्त्रैण समधी दशरथ
कुटिल समधिन कैकयी या वाकवीरा कुन्ती के
प्रण-हठ-ठसक से देकर दहेज में घोड़ा-हाथी/होण्डा-मारुति
और सुनता रहा अपनी जानकी के जमींदोज होने की कथा
या अपनी याज्ञसेनी के वर्फ में गल जाने की व्यथा!
—विनय कुमार विनायक

Leave a Reply

29 queries in 0.326
%d bloggers like this: