निर्धन

0
199

पसंद नहीं वर्षा के दिन
नहीं भाती पूस की रात
मिट्टी का घर है उसका
निर्धनता है उसकी ज़ात

श्रम की अग्नि में जब वह
पिघलाता है कृशकाय तन
तब उपार्जन कर पाता है
अपने बच्चों के लिए भोजन

उसकी छोटी-सी भूल पर भी
उठ जाता सबका उस पर हाथ
दर्शक सब उसकी व्यथा के
नहीं देता कोई उसका साथ

मुख से नहीं बताता है कभी
हरेक बात अपने अंतर्मन की
व्यथा समझना हो तो पढ़ लो
भाषा उसके सजल नयन की

✍️ आलोक कौशिक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here