आज वायु, जल और भूमि के सभी प्रदूषणों के कारण पर्यावरण को महत्व मिला है। आम आदमी पुराने की तुलना में बहुत अधिक तनावग्रस्त और असंतुष्ट होने के बावजूद अधिक तनाव महसूस करता है   इसलिए, वास्तु शास्त्र जो प्रकृति के पांच मूल तत्वों अर्थात् जल, अग्नि, वायु, आकाश को संतुलित करता है और पृथ्वी अब एक आवश्यकता बन गई है। इन सब में संतुलन स्थापित करने में वास्तु शास्त्र की भूमिका अहम हो सकती है। व्यक्ति की बुनियादी जरुरतें कभी नहीं बदलती है यही वजह है कि आधुनिक समय में वास्तु शास्त्र बेहद उपयोगी हो गया है। वास्तु शास्त्र एक स्थान विशेष में रहनेवाले व्यक्तियों के स्थानों में परिवर्तन करने में सहयोग करता है। यह ब्रह्मांडीय ऊर्जा और व्यक्तियों में संतुलन स्थापित करता है। भौतिक और आध्यात्मिक विषयों में सुंतुलन स्थापित करता है। विषयों में यह एक लय और संतुलन बनाता है जिससे जीवन बेहद सहज और उत्तम हो जाता है।

हमारे जीवन पर हमारे परिवेश का बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है। यह हमारे जीवन को खुशी और समृद्धि देता है। घर के परिवेश को स्वयं के अनुकूल बनाने में वास्तु शास्त्र एक अचूक उपाय का कार्य करता है। घर केवल चारदीवारी से नहीं बनता है, जहां हम खाते हैं, जहां हम सोते है, उसका हमारे अनुरुप रहना आवश्यक है। कई बार जब हम घर बनाते हैं तो वह वास्तु सम्मत नहीं बन पाता है। इस स्थिति में इसे वास्तु उपायों के द्वारा वास्तु सम्मत बनाया जा सकता है।  जीवन में स्वास्थ्य, धन, सौहार्द और खुशी बनाए रखने के लिए उपायों का सहारा लिया जाता है।

वास्तु शास्त्र की यह सुंदरता है कि आप अपने घर या आफिस में मामूली बदलावों के द्वारा इससे लाभांवित हो सकते है, अपने जीवन में बड़ा बदलाव कर सकते है। एक कमरे का वास्तु दोष दूर करने के लिए कमरे में अंदरुनी और बाहरी परिवर्तन किए जा सकते है। यह बदलाव अनुकूल रंग कराना, आवश्यक वस्तुओं का स्थान परिवर्तन करना, वास्तु सामग्रियों का प्रयोग करना। प्रत्येक वास्तु दोष का कोई न कोई उपाय होता है यदि उस उपाय को कर लिया जाए तो हम जीवन में खुशी और शांति प्राप्त कर सकते है। ऐसे ही कुछ वास्तु उपायों की जानकारी आज हम आपको इस आलेख के माध्यम से देने जा रहे हैं- 

देवी अन्नपूर्णा 

देवी अन्नपूर्णा दिव्य स्वरुपा है। मां के समान हम सभी का पालन-पोषण करती है। एक मां की तरह अपने बच्चों को स्नेह करती है। भोजन, पैसा, या संपत्ति, या चाहे वह आध्यात्मिक हो, की कमी को पूरा करने का कार्य देवी अन्नपूर्णा करती है। जिस घर में देवी अन्नपूर्णा का वास होता है, पूजन होता है, उस घर में भोजन, अनाज की किसी प्रकार की कमी नहीं रहती है। मां अन्नपूर्णा अपने बालकों के द्वारा किए गए पूजन से प्रसन्न होकर बच्चों का पोषण करती है, हमें ज्ञान में पूर्णता का आशीर्वाद देती है। इनका चित्र या प्रतिमा आप किचन में रख सकते है। इसके अतिरिक्त इनका चित्र रेस्तरां में भी रखा जा सकता है। यह माना जाता है कि देवी अन्नपूर्णा में असीमित मात्रा में भोजन की आपूर्ति करने की क्षमता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार पीतल के बर्तन में चावल भरकर उस पर मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा रखने से परिवार में समृद्धि बनी रहती है। 

क्रिस्टल का पीला कमल

क्रिस्टल का पीला कमल धन और भाग्य बढ़ाने का सबसे शक्तिशाली और लोकप्रिय उपाय है। क्रिस्टल का रंग सुनहरा पीला होता है,  यह धन वॄद्धि की सबसे उत्तम रंग है। धन प्राप्ति के नए अवसरों की प्राप्ति के लिए इसे घर के ईशान कोण में रखा जा सकता है। इसके अतिरिक्त नए करियर की तलाश और धन की चाह रखने वालों को भी अपने घर में इस पीले रंग के कमल को रखना चाहिए। 

वास्तु ईंटें

वास्तु ईंटें वास्तव में मिट्टी की ईंटों की प्रतिकृति हैं। ये तांबे की धातु से बनी होती है, इन्हें घर में रखने से घर के वास्तु में अद्भुत सुधार होता है। यदि आपके पास कोई वास्तु दोष है, तो दोषपूर्ण क्षेत्र में दीवार पर वास्तु ईंटों को ठीक करें। इसे अधिक सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए व्यक्तिगत कमरे में भी स्थापित किया जा सकता है।

वास्तु मनी बॉक्स

पैसा बॉक्स धन बढ़ाने का बहुत शक्तिशाली उपाय है। धन के अवसरों को बढ़ाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। इसे खजाना बॉक्स के नाम् से भी जाना जाता है। यदि इसे आप अपने घर के कोने में रखते है, तो धन आगमन बेहतर होता है। धन सुरक्षित रहता है। अपने इस धन बाक्स में कुछ सिक्के, रुद्राक्ष और स्फटिक आदि अवश्य रखें। इसे कभी भी खाली ना होने दें। इससे आपका धन सुरक्षित रहता है।  बॉक्स में धन के सुरक्षित रहने के लिए आवश्यक है कि ये सदैव बंद रहें।

पिरामिड विश बॉक्स

पिरामिड ऊर्जा से ब्रह्मांडीय ऊर्जा कणों को आकर्षित किया जा सकता है। पिरामिड गुंबद ऊर्जा का एक विशाल भंडार गृह है। पिरामिड की चमत्कारिक शक्ति को प्राप्त कर घर में सुख-समृद्धि और आनंद के नए मार्ग खोल सकते है। यही वजह है कि दुनिया की सारी धार्मिक इमारते, गुंबद पिरामिड आकार की वास्तुकला के साथ बनाई गई है। चर्चों, मंदिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों और शिवालयों में पिरामिड के आकार की संरचना है शीर्ष। यही वजह है कि जब कोई व्यक्ति उपरोक्त स्थानों में प्रवेश करता है, तो उसे सुखद वातावरण का अनुभव प्राप्त होता है। पिरामिड बॉक्स के अंदर एक लिखित इच्छा रखना अपने सपने को पूरा करने का एक अनूठा तरीका है और इच्छाएँ शीघ्र पूरी होती हैं। इससे आप एक अच्छी नौकरी, समृद्ध व्यवसाय, सद्भाव, जीवन रक्षा की  कामना कर सकते हैं। इसके साथ साथ हम इस बाक्स से शैक्षणिक सफलता, स्वास्थ्य और कई ओर इच्छाएं मांग सकते है

संगमरमर का हाथी

हाथी कई प्राच्य संस्कृतियों के लिए एक पवित्र जानवर है और प्रतीकात्मक रुप से बड़ी मात्रा में धन का सूचक है।  हाथी एक प्रतीक है शक्ति, शक्ति, पौरुष, दीर्घायु, निष्ठा, गरिमा, बुद्धिमत्ता और ज्ञान का।  घर या कार्यालय के सामने हाथियों के जोड़े को उनकी चड्डी के साथ रखने से सौभाग्य और शक्ति दोनों बढ़ता है। जब इसे शयन कमरे में रखा जाता है, तो यह जोड़ों में हाथी सद्भाव लाता है और आपस में प्रेम और निष्ठा को बढ़ावा देता है। हाथी प्रजनन क्षमता का भी प्रतीक है, एक निःसंतान दंपत्ति या संतान की चाह रखने वाले दंपत्तियों को अपने रुम में या अपने बच्चों के रुम में हाथी का चित्र लगाना चाहिए। यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा अकादमिक रूप से अच्छा करे, तो एक हाथी को उनके डेस्क पर या जहाँ वे अपना होमवर्क करने के लिए बैठें, वहां रखें। हाथी अपने साथ जबरदस्त ज्ञान और शैक्षिक भाग्य लाता है।

जल पिरामिड

पानी जीवन का सार है। पानी हमेशा से अधिकार और शक्ति का पर्यात रहा है। यही वजह है कि प्राचीन समय में राजा अपने महलों के निकट जल निकायों का निर्माण कराते थे। आज भी दुनिया के सबसे बड़े शहर पानी के स्रोतों, जल निकायों, नदियों या झीलों के पास स्थित है। घर या कार्यालय की उत्तर-पूर्व दिशा में जल का प्रबंध रखना, शुभ माना जाता है।

घर में शौचालय

वस्तुओं का नकारात्मक प्लेसमेंट नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करता है। शौचालय यदि उत्तर-पूर्व, दक्षिण-पूर्व, दक्षिण पश्चिम या घर के केंद्र में स्थित हो तो यह गंभीर वास्तु दोष हैं। यदि शौचालय की चौखट पर एक पिरामिड डिवाइडर को ठीक से लगवाया जाए तो यह नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है।  शौचालय के अंदर पिरामिड स्ट्रिप्स कभी न रखें।

वास्तु पिरामिड

पिरामिड ब्रह्मांडीय शक्ति का एक स्रोत है। पिरामिड स्थापित करके घर और व्यावसायिक स्थल में सकारात्मक ऊर्जा को सक्रिय किया जा सकता है। तांबा आध्यात्मिक ऊर्जा को आगे और पीछे संचालित करने की क्षमता है यह व्यक्ति, पर्यावरण और आध्यात्मिक ऊर्जा को बेहतर करता है। तांबे में शक्ति है ब्रह्मांडीय संचार प्राप्त करने, भेजने, और सकारात्मक विचारों को बढ़ाने की। कॉपर के द्वारा ऊर्जा के प्रभाव का प्रयोग भौतिक, मानसिक या मानसिक ऊर्जा को स्थानांतरित करने के लिए किया जा सकता है। तांबे से बने पिरामिड में अन्य सामग्रियों से बने पिरामिड की तुलना में दस गुणा अधिक ताकत होती है। इसे एक नया घर बनाते समय फर्श में स्थापित किया जा सकता है। इसे अध्ययन डेस्क पर रखने से अकादमिक प्रदर्शन में सुधार होता है। कार्य स्थल पर स्वयं में अधिक आत्मविश्वास और ऊर्जा बनाए रखने के लिए इसे डेस्क पर रखें।

कॉपर स्वास्तिक पिरामिड

स्वास्तिक का निर्माण भारतीय परंपरा का एक शुभ और पवित्र प्रतीक चिंह है। स्वस्तिक का अर्थ है चारों दिशाओं से समृद्धि। किसी भी काम की शुरुआत में स्वास्तिक नाया जाता है और इसकी पूजा की जाती है। स्वास्तिक के साथ पिरामिड रखने से व्यक्ति को दोहरा लाभ मिलता है। सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए मुख्य द्वार के ऊपर तांबे का स्वस्तिक लगाएं और नकारात्मक शक्तियों को दूर करें। चूल्हे, फ्रिज का गलत स्थान, माइक्रोवेव, कंप्यूटर आदि को एक कापर स्वास्तिक स्थापित करके ठीक किया जा सकता है। यह ऊर्जा को संतुलित करने में मदद करता है।

लक्ष्मी चरण पादुका

समुद्र मंथन के समय चौदह दुर्लभ रत्नों, नवनिधियों के साथ साथ लक्ष्मी जी भी प्रकट हुई। लक्ष्मी जी की चरण पादुकाओं का दर्शन-पूजन करने से धन आगमन बेहतर होता है। इन चरण पादुकाओं का नित्य दर्शन-पूजन करने के साथ साथ इन्हें घर के पूजा घर में स्थापित कर इनकी पूजा करनी चाहिए।

वास्तु डोर हैंगिंग बेल

गुडलक सिक्कों के साथ लटकती हुई और लाल रिबन के साथ बंधी हुई धातु की घंटी दरवाजे की चौखट पर बांधी जाती है। इससे जब भी कोई दरवाजा खोलता है, तो वायु प्रवेश के साथ सकारात्मक ऊर्जा भी घर में प्रवेश करती है। यह घंटी यह सुनिश्चित करती है कि घर में सकारात्मक ऊर्जा प्रवेश करती है। और नकारात्मक ऊर्जा घर से बाहर जाती है। यह एक बेल का कार्य करती है और इसे लाल धागे के साथ लटकाया जाता है। घटियां सकारात्मक ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करती है।

 महालक्ष्मी रुद्राक्ष

सात मुखी रुद्राक्ष को महालक्ष्मी रुद्राक्ष के रूप में जाना जाता है। यह  देवी महालक्ष्मी का प्रतिनिधित्व करता है। यह सप्त ऋषियों (या सात) का भी प्रतिनिधित्व करता है ऋषि), और धन, सम्मान और आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त करने में मदद करता है। अच्छा स्वास्थ्य और धन इससे प्राप्त किया जा सकता है, जो व्यक्ति सात मुखी रुद्राक्ष का पूजन करता है उसे अच्छा स्वास्थ्य और धन की प्राप्ति होती है। ऐसा व्यक्ति व्यवसाय और नौकरी में प्रगति कर जीवन खुशी खुशी व्यतीत कर सकता है। इस रुद्राक्ष को कैश बॉक्स में रखा जा सकता है, इससे सफलताओं को बढ़ाया जा सकता है और असफलताओं को कम किया जा सकता है

तिब्बती घंटी  

तिब्बती घंटी के द्वारा रिश्तों को मजबूत और तनाव को दूर किया जा सकता है। इससे उत्त्पन्न ध्वनि मन और शरीर में प्रवेश कर एक सूक्ष्म चिकित्सा का कार्य करती है।  यदि आप अपने घर या कार्यालय में नकारात्मक वाइब्स पा रहे हैं, तो बस इस घंटी को बजाएं। इस घटी में लकड़ियां लगी होती है जो नकारात्मक शक्ति को दूर भगाती है। इसे वाहन में भी रखा जा सकता है। इससे सुरक्षा और वाहन चालन में दक्षता प्राप्त की जा सकती है। वाहन सुरक्षा यन्त्र के रुप मे आप इसे अपनी कार के डैश बोर्ड पर रख सकते है।

वास्तु नमक

वास्तु नमक जिसे हिमालयन रॉक नमक के रूप में भी जाना जाता है का प्रयोग कर आसपास के नकारात्मक प्रभाव को दूर किया जाता है। यह इनडोर वायु प्रदूषण को कम करता है, मूड में सुधार करता है और तनाव को कम करता है। उत्तर-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम और दक्षिण-पूर्व में शौचालय या बाथरूम प्रमुख वास्तु दोष हैं, इसके लिए लकड़ी के कटोरे में सेंधा नमक को बाथरूम या शौचालय की खिड़की के पास रखें।   बुरी नजर को घर से दूर रखने के लिए इस नमक को दरवाजे के पास भी रखा जा सकता है। यह नमक अस्वस्थ व्यक्ति के पास स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए भी रखा जा सकता है।  

 वास्तु ऊर्जा प्लेट

पिरामिड ऊर्जा एक जीवन-सहायक बल है जिसे जैव-ब्रह्मांडीय ऊर्जा कहा जाता है, जो पिरामिड के लिए एक प्रकार का कॉस्मिक एंटीना का कार्य करता है। सार्वभौमिक ब्रह्मांडीय ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए बिस्तर के गद्दे के नीचे तांबे के पिरामिड की प्लेट रखें। 

 भगवान कुबेर

कुबेर को धन का देवता कहा गया है। वास्तु के अनुसार, कुबेर की मूर्ति को उत्तरी क्षेत्र में रखा जाना चाहिए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: