लेखक परिचय

अरुण तिवारी

अरुण तिवारी

Posted On by &filed under जन-जागरण, धर्म-अध्यात्म, समाज.


कितना सुखद संयोग है! 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस के बहाने हम सब की अपनी एक नन्ही घरेलु ङिया की चिन्ता; देशी माह के हिसाब से चैत्री अमावस्या यानी गोदान का दिन। 21 मार्च को चैत्र मासके शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा यानी मौसमी परिवर्तन पर संयमित जीवन शैली का आग्रह करते नव दिन और नव दिनों का प्र्र्र्र्रारंभ। इसी का पीछा करते हुए 22 मार्च को विश्व जल दिवस; भारतीय पंचाग के हिसाब से इस वर्ष की मतस्य जयन्ती। नवरात्रोपरान्त महावीर जयंती से आगे बढकर बैसाख का ऐसा महीना, जिसमें जलदान की महिमा भारतीय पुराण बखानते नहीं थकते। इसी बीच 21 अप्रैल को अक्षया तृतीया है और 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस। अक्षया तृतीया, अबूझ मुहूर्त का दिन है। इस दिन बिना पूछे कोई भी शुभ काम किया जा सकता है। पानी प्रबंधन की भारतीय परम्परा इस दिन का उपयोग पुरानी जल संरचनाओं को झाङ-पोछकर दुरुस्त करने में करती रही है।वर्ष-2015 के इस सिलसिले को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे जल चिंता हेतु अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाये जाने वाले विश्व जल दिवस ने भी भारतीय दिवसों से संयोग करने का मन बना लिया हो। गौर करने की बात है कि नदी, समुद्र, बादल, जलाश्य आदि के प्रति अपने दायित्वों को याद करने का भारत का तरीका श्रमनिष्ठ रहा है। हम इन्हे पर्वों का नाम देकर क्रियान्वित करते जरूर रहे हैं, किंतु उद्देश्य भूलने की मनाही हमेशा रही रतीय जल दिवस-एकभारतीय पंचाग के मुताबिक पहला जलदिवस है -देवउठनी ग्यारस….देवोत्थान एकादशी! चतुर्मास पूर्ण होने की तारीख। जब देवता जागृत होते हैं। यह तिथि कार्तिक मास में आती है। यह वर्षा के बाद का वह समय होता जब मिट्टी नर्म होती है। उसे खोदना आसान होता है। नई जल संरचनाओं के निर्माण के लिए इससे अनुकूल समय और कोई नहीं। खेत भी खाली होते हैं और खेतिहर भी। तालाब, बावङियां, नौळा, धौरा, पोखर, पाइन, जाबो, कूळम, आपतानी – देशभर में विभिन्न नामकरण वाली जलसंचयन की इन तमाम नई संरचनाओं की रचना का काम इसी दिन से शुरू किया जाता था। राजस्थान का पारंपरिक समाज आज भी देवउठनी ग्यारस को ही अपने जोहङ, कुण्ड और झालरे बनाने का श्रीगणेश करता है।

भारतीय जल दिवस-दो

भारतीय पंचाग का दूसरा जल दिवस है-आखा तीज! यानी बैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि। यह तिथि पानी के पुराने ढांचों की साफ-सफाई तथा गाद निकासी का काम की शुरुआत के लिए एकदम अनुकूल समय पर आती है। बैसाख आते-आते तालाबों मंे पानी कम हो जाता है। खेती का काम निपट का होता है। बारिश से पहले पानी भरने के बर्तनों को झाङ-पोछकर साफ रखना जरूरी होता है। हर वर्ष तालों से गाद निकालना और टूटी-फूटी पालों को दुरुस्त करना। इसके जंिरए ही हम जलसंचयन ढांचों की पूरी जलग्रहण क्षमता को बनाये रख सकते हैं। ताल की मिट्टी निकाल कर पाल पर डाल देने का यह पारंपरिक काम अब नहीं हो रहा। नतीजा ? इसी अभाव में हमारी जलसंरचनाओं का सीमांकन भी कहीं खो गया है… और इसी के साथ हमारे तालाब भी। बैसाख-जेठ में प्याऊ-पौशाला लगाना पानी का पुण्य हैं। खासकर, बैसाख में प्याऊ लगाने से अच्छा पुण्य कार्य कोई नहीं माना गया। इसे शुरु करने की शुभ तिथि भी आखातीज ही है। लेकिन अब तो पानी का शुभ भी व्यापार के लाभ से अलग हो गया है। भारत में पानी अब पुण्य कमाने का देवतत्व नहीं, बल्कि पैसा कमाने की वस्तु बन गया है। 50-60 फीसदी प्रतिवर्ष की तेजी से बढता कई हजार करोङ का बोतलबंद पानी व्यापार! शुद्धता के नाम पर महज एक छलावा मात्र!! यदि बारिश के आने से पहले तालाब-झीलों को साफ कर लें। खेतों की मेङबंदियां मजबूत कर लें ; ताकि जब बारिश आये तो इन कटोरे में पानी भर सके। वर्षा जल का संचयन हो सके। धरती भूखी न रहे। ना संकल्प, जल दिवस अधूराजहां तक संकल्पों का सवाल है। हर वह दिवस, हमारा जल दिवस हो सकता है, जब हम संकल्प लें – ’’बाजार का बोतलबंद पानी नहीं पिऊंगा। कार्यक्रमों में मंच पर बोतलबंद पानी सजाने का विरोध करुंगा। अपने लिए पानी के न्यूनतम व अनुशासित उपयोग का संयम सिद्ध करुंगा। दूसरों के लिए प्याऊ लगाउंगा।… मैं किसी भी नदी में अपना मल-मूत्र-कचरा नहीं डालूंगा। नदियों के शोषण-प्रदूषण-अतिक्रमण के खिलाफ कहीं भी आवाज उठेगी या रचना होगी, तो उसके समर्थन मंे उठा एक हाथ मेरा होगा।’’हम संकल्प कर सकते है कि मैं पाॅलीथीन की रंगीन पन्नियों में सामान लाकर घर में कचरा नही ंबढाऊंगा। मै हर वर्ष एक पौधा लगाऊंगा भी और उसका संरक्षण भी करुंगा। उत्तराखण्ड में ’’मैती प्रथा’’ है। मैती यानी मायका। लङकी जब विवाहोपरान्त ससुराल जाती है, तो मायके से एक पौधा ले जाकर ससुराल में रोप देती है। वह उसे ससुराल में भी मायके की याद दिलाता है। वह दिन होता है उत्तराखण्ड का पर्यावरण दिवस। दुनिया को बताना जरूरी है कि हम अंतरराष्ट्रीय जल दिवस मनायेंगे जरूर, लेकिन भारत के प्राकृतिक संसाधन अंतर्राष्ट्रीय हाथों में देने के लिए नहीं, बल्कि उसकी हकदारी और जवाबदारी.. दोनो अपने हाथों में लेने के लिए। भारत की दृष्टि से विश्व जल दिवस का महत्व यह भी हैं कि इस बहाने हम आने वाले भारतीय जल दिवस को भूलेंनहीं। उसकी तैयारी में जुट जायें। इस नवरात्र में एक नया संकल्प करें। याद रहे कि संकल्प का कोई विकल्प नहीं होता और प्रकृति के प्रति पवित्र संकल्पों के बगैर किसी जल दिवस को मनाने का कोई औचित्य नहीं।

–अरुण तिवारी

 

 

One Response to “विश्व जल दिवस का भारतीय संयोग”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    स्वच्छ भारत के साथ साथ “शुद्ध जल सप्ताह” भी मनाने के लिए, एक प्रचार अभियान चलाने का समय आ गया है।
    जो जल निःशुल्क मिलता था, उसे ही हमारी दूषित आलसी मानसिकता नें, दूषित कर दिया।
    आज जितनी बीमारियाँ फैल रही हैं।
    उसका कारण भी, हमारी ” शासन ही सब कुछ करे” ऐसी निष्क्रियता भरी मानसिकता उत्तरदायी है।
    समय आ रहा है, बिल गेट्स ने जैसा उदाहरण देकर परिशुद्ध जल पीकर दिखाया—-वैसा जल और वह भी महँगा महँगा पीना पडेगा।
    तिवारी जी का चेतावनी का घण्ट अवश्य सुना जाए।
    विचारा जाए।
    सामूहिक रूपसे तालाब, कुएँ, कारंज, इत्यादि मिलकर स्वच्छ करना प्रारम्भ किया जाए।

    आज सोचने की आवश्यकता है।
    साथ साथ जल प्रबंधन।
    जल शुद्धि और नदियों पर बाँध, एवं नदियों के जोडनेवाले महाकाय प्रकल्प पर भी सोचने की घडी है।
    नर्मदा बाँध ने अनेकानेक हजार (शायद ?) लाखों एकर के प्रदेश को हराभरा कर दिया है।
    जहाँ रेगिस्तान होता था, मात्र मृग मरीचिका का आभास हुआ करता था, वहाँ सचमुच का जल उपलब्ध हो रहा है।

    मोदी जी को ही इसका पूरा पूरा श्रेय जाता है।
    मैं ने अपनी आँखो से कम से कम अहमदाबाद में २४ घण्टे नल में पानी देखा है।
    कच्छ के विषय में सुना है।

    राजनैतिक विरोध ना करें।
    दॆश का भविष्य हम सभी पर निर्भर करता है।

    लेखक से १००% सहमत हूँ।
    मेरे शब्दों पर विचारा जाए।
    जो गत ६५ वर्षों में गलत हुआ है।
    उसको सुधारने में एक भारत माँ का बंदा दिन रात प्रयास कर रहा है।
    हम अपनी कन्नी उंगली तो लगाएं, गोवर्धन परबत उठ जाएगा।
    पर सार्वजनिक सप्ताह-या वैसा ही कुछ सुझाइए।
    वर्ष में एक बार।
    और संगठनों को आवाहित कीजिए।
    लेखक को अनेकानेक धन्यवाद। बिलकुल सही समय पर जगाने के लिए।

    **घन घन कलश टकोरे बोले।
    ईंटोंसे हुन्कार उठी है।
    टूटे फूटे उसी अतीत से प्रलयंकर ललकार उठी है।
    उठो भाई जागो।**

    जय हिन्द

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लेखक परिचय

अरुण तिवारी

अरुण तिवारी

Posted On by &filed under आर्थिकी, चिंतन, धर्म-अध्यात्म.


कितना सुखद संयोग है! 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस के बहाने हम सब की अपनी एक नन्ही घरेलु  चिङिया की चिन्ता; देशी माह के हिसाब से चैत्री अमावस्या यानी गोदान का दिन।  21 मार्च को चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा यानी मौसमी परिवर्तन पर संयमित जीवन शैली का आग्रह करते नव दिन और नव दिनों का प्र्र्र्र्रारंभ। इसी का पीछा करते हुए 22 मार्च को विश्व जल दिवस; भारतीय पंचाग के हिसाब से इस वर्ष की मतस्य जयन्ती। नवरात्रोपरान्त महावीर जयंती से आगे बढकर बैसाख का ऐसा महीना, जिसमें जलदान की महिमा भारतीय पुराण बखानते नहीं थकते। इसी बीच  21 अप्रैल को अक्षया तृतीया है और 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस। अक्षया तृतीया, अबूझ मुहूर्त का दिन है। इस दिन बिना पूछे कोई भी शुभ काम किया जा सकता है। पानी प्रबंधन की भारतीय परम्परा इस दिन का उपयोग पुरानी जल संरचनाओं को झाङ-पोछकर दुरुस्त करने में करती रही है।
वर्ष-2015 के इस सिलसिले को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे जल चिंता हेतु अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाये जाने वाले विश्व जल दिवस ने भी भारतीय दिवसों से संयोग करने का मन बना लिया हो।  गौर करने की बात है कि नदी, समुद्र, बादल, जलाश्य आदि के प्रति अपने दायित्वों को याद करने का भारत का तरीका श्रमनिष्ठ रहा है। हम इन्हे पर्वों का नाम देकर क्रियान्वित करते जरूर रहे हैं, किंतु उद्देश्य भूलने की मनाही हमेशा रही है।
भारतीय जल दिवस-एक
भारतीय पंचाग के मुताबिक पहला जलदिवस है -देवउठनी ग्यारस….देवोत्थान एकादशी! चतुर्मास पूर्ण होने की तारीख। जब देवता जागृत होते हैं। यह तिथि कार्तिक मास में आती है। यह वर्षा के बाद का वह समय होता है, जब मिट्टी नर्म होती है। उसे खोदना आसान होता है। नई जल संरचनाओं के निर्माण के लिए इससे अनुकूल समय और कोई नहीं। खेत भी खाली होते हैं और खेतिहर भी। तालाब, बावङियां, नौळा, धौरा, पोखर, पाइन, जाबो, कूळम, आपतानी – देशभर में विभिन्न नामकरण वाली जलसंचयन की इन तमाम नई संरचनाओं की रचना का काम इसी दिन से शुरू किया जाता था। राजस्थान का पारंपरिक समाज आज भी देवउठनी ग्यारस को ही अपने जोहङ, कुण्ड और झालरे बनाने का श्रीगणेश करता है।
भारतीय जल दिवस-दो
भारतीय पंचाग का दूसरा जल दिवस है-आखा तीज! यानी बैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि। यह तिथि पानी के पुराने ढांचों की साफ-सफाई तथा गाद निकासी का काम की शुरुआत के लिए एकदम अनुकूल समय पर आती है। बैसाख आते-आते तालाबों मंे पानी कम हो जाता है। खेती का काम निपट चुका होता है। बारिश से पहले पानी भरने के बर्तनों को झाङ-पोछकर साफ रखना जरूरी होता है। हर वर्ष तालों से गाद निकालना और टूटी-फूटी पालों को दुरुस्त करना। इसके जंिरए ही हम जलसंचयन ढांचों की पूरी जलग्रहण क्षमता को बनाये रख सकते हैं। ताल की मिट्टी निकाल कर पाल पर डाल देने का यह पारंपरिक काम अब नहीं हो रहा। नतीजा ? इसी अभाव में हमारी जलसंरचनाओं का सीमांकन भी कहीं खो गया है… और इसी के साथ हमारे तालाब भी।
बैसाख-जेठ में प्याऊ-पौशाला लगाना पानी का पुण्य हैं। खासकर, बैसाख में प्याऊ लगाने से अच्छा पुण्य कार्य कोई नहीं माना गया। इसे शुरु करने की शुभ तिथि भी आखातीज ही है। लेकिन अब तो पानी का शुभ भी व्यापार के लाभ से अलग हो गया है। भारत में पानी अब पुण्य कमाने का देवतत्व नहीं, बल्कि पैसा कमाने की वस्तु बन गया है। 50-60 फीसदी प्रतिवर्ष की तेजी से बढता कई हजार करोङ का बोतलबंद पानी व्यापार! शुद्धता के नाम पर महज एक छलावा मात्र!! यदि बारिश के आने से पहले तालाब-झीलों को साफ कर लें। खेतों की मेङबंदियां मजबूत कर लें ; ताकि जब बारिश आये तो इन कटोरे में पानी भर सके। वर्षा जल का संचयन हो सके। धरती भूखी न रहे।
बिना संकल्प, जल दिवस अधूरा
जहां तक संकल्पों का सवाल है। हर वह दिवस, हमारा जल दिवस हो सकता है, जब हम संकल्प लें – ’’बाजार का बोतलबंद पानी नहीं पिऊंगा। कार्यक्रमों में मंच पर बोतलबंद पानी सजाने का विरोध करुंगा। अपने लिए पानी के न्यूनतम व अनुशासित उपयोग का संयम सिद्ध करुंगा। दूसरों के लिए प्याऊ लगाउंगा।… मैं किसी भी नदी में अपना मल-मूत्र-कचरा नहीं डालूंगा। नदियों के शोषण-प्रदूषण-अतिक्रमण के खिलाफ कहीं भी आवाज उठेगी या रचना होगी, तो उसके समर्थन मंे उठा एक हाथ मेरा भी होगा।’’
हम संकल्प कर सकते है कि मैं पाॅलीथीन की रंगीन पन्नियों में सामान लाकर घर में कचरा नही ंबढाऊंगा। मै हर वर्ष एक पौधा लगाऊंगा भी और उसका संरक्षण भी करुंगा। उत्तराखण्ड में ’’मैती प्रथा’’ है। मैती यानी मायका। लङकी जब विवाहोपरान्त ससुराल जाती है, तो मायके से एक पौधा ले जाकर ससुराल में रोप देती है। वह उसे ससुराल में भी मायके की याद दिलाता है। वह दिन होता है उत्तराखण्ड का पर्यावरण दिवस।
दुनिया को बताना जरूरी है कि हम अंतरराष्ट्रीय जल दिवस मनायेंगे जरूर, लेकिन भारत के प्राकृतिक संसाधन अंतर्राष्ट्रीय हाथों में देने के लिए नहीं, बल्कि उसकी हकदारी और जवाबदारी.. दोनो अपने हाथों में लेने के लिए। भारत की दृष्टि से विश्व जल दिवस का महत्व यह भी हैं कि इस बहाने हम आने वाले भारतीय जल दिवस को भूलें नहीं। उसकी तैयारी में जुट जायें। इस नवरात्र में एक नया संकल्प करें। याद रहे कि संकल्प का कोई विकल्प नहीं होता और प्रकृति के प्रति पवित्र संकल्पों के बगैर किसी जल दिवस को मनाने का कोई औचित्य नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *