More
    Homeसाहित्‍यकविताकरें तिरंगे की पूजा

    करें तिरंगे की पूजा

    थाली में है रोली कुमकुम,पीला चंदन है।
    करें तिरंगे की पूजा हम , शत अभिनंदन है||

                    गंगा के पानी से अब तक,  श्रद्धा नाता है|
                    विन्ध्य, हिमालय,अरावली अब भी मुस्कराता है|
                    जहां नर्मदा माता के , जयकारे लगते हैं|
                    यमुना का जल लोगों को,अब भी ललचाता है|
                    सदियों से कृष्णा कावेरी, से अनुबंधन है||
    
                    जहाँ सतपुड़ा के जंगल में, मौसम इतराता|
                    डाल- डाल संगीत बजाती, हर पत्ता गाता|                
                   आम नीम  पीपल बरगद में ,ईश्वर की बस्ती|                 
                    सूरज किरणों की थाली में ,पूजन करवाता|
                    पुण्य भूमि के जन जीवन का,तन मन कंचन है||
    
                    हिंदु  मुस्लिम मिल कर रहते, ईसाई भी यार |
                    अलग नहीं है किसी तरह  भी ,सिक्खों का संसार |
                    तीजों त्यौहारों पर सब हैं ,आपस में मिलते,
                    खुशियों के मेले सजते तो  ,मस्ती के बाजार |
                    ऐसी भारत भरत भूमि को, शत  नत वंदन है||
    
                    दिन में राम अयोध्या से अब भी ऒरछा आ ते|
                    रास रचाते कृष्ण चंद्र मथुरा में मिल जाते|
                    अमरनाथ में बर्फानी बाबा का डेरा है|
                    पितृपक्ष में पितर अभी भी , दर्शन दे जाते|
                    जन -मन- गण में भारत के अब भी स्पंदन है||
    
                   बिना डरे सीमा पर लड़ते रहते सैनानी |
                   दुश्मन को काटा छांटा है,जब मन में ठानी |
                   आँख दिखने वाले की वह ,आँख फोड़ देते ,
                   बैरी को हर बार पड़ी है ,अब मुंह की खानी|  
                   रंग मंच पर अब भारत का ,सुंदर मंचन है |
    प्रभुदयाल श्रीवास्तव
    प्रभुदयाल श्रीवास्तव
    लेखन विगत दो दशकों से अधिक समय से कहानी,कवितायें व्यंग्य ,लघु कथाएं लेख, बुंदेली लोकगीत,बुंदेली लघु कथाए,बुंदेली गज़लों का लेखन प्रकाशन लोकमत समाचार नागपुर में तीन वर्षों तक व्यंग्य स्तंभ तीर तुक्का, रंग बेरंग में प्रकाशन,दैनिक भास्कर ,नवभारत,अमृत संदेश, जबलपुर एक्सप्रेस,पंजाब केसरी,एवं देश के लगभग सभी हिंदी समाचार पत्रों में व्यंग्योँ का प्रकाशन, कविताएं बालगीतों क्षणिकांओं का भी प्रकाशन हुआ|पत्रिकाओं हम सब साथ साथ दिल्ली,शुभ तारिका अंबाला,न्यामती फरीदाबाद ,कादंबिनी दिल्ली बाईसा उज्जैन मसी कागद इत्यादि में कई रचनाएं प्रकाशित|

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Must Read

    spot_img