तुम्हारी आँखें

—-अनुप्रिया अंशुमान

मोहब्बत की दुनिया है तुम्हारी आँखें,

चमकता हुआ सितारा है तुम्हारी आँखें ।

तुम्हारे ही दम से है मेरा ये नसीब,

मेरी पहचान है ये तुम्हारी आँखें ॥

आँखें बोलती है तुम्हारे दिल की धड़कन,

दिल की धडकनों की आवाज़ है तुम्हारी आँखें ।

आँखों से बरसता है जहाँ हल्का सा नशा ॥

वो नशे मन जहाँ है तुम्हारी आँखें,

स्वर्ग को ढूंढती फिर रही हूँ मै ।

आशियाना है दो जहाँ की तुम्हारी ये आँखें,

जी चाहता है डूब जाऊ मैं मोहब्बत के समन्दर में,

वफ़ा का सागर है ये तुम्हारी आँखें ॥

 

(2)

तेरे दर पे आये

तेरे दर पे आये

पर तुझको पहचान न सके,

तुझे देखकर मुस्कुराये तो बहुत

मगर मुस्करा न सके ।

मुझे ठुकरा दे तू

वो तेरी जिंदगी का मौसम है,

हम तो तेरे पास रह कर भी

तुझे गा न सके ।

मत पूछ की

कितने शर्मिंदा हैं हम,

तेरे सामने भी रहकर

खुद को पहचान न सके ।

तेरा रंग दुनिया के हर रंग में

नजर आता है,

होली हो बहुत खेले

मगर तेर रंग में नहा न सके ।

तू आया है आँखों में

प्रेम की मुस्कराहट को लेकर,

पर हम तो तेरे आँखों से

आंखे मिला न सके ।


Leave a Reply

%d bloggers like this: