तेरी आहट

love                    जग मोहन ठाकन

तेरी वक्रोक्ति को लबों की सजावट समझकर

हम खिल खिलाते रहे  मुस्कुराहट समझकर

जब जब घण्टी बजी किसी भी द्वार की

हम दौड कर आये तेरी आहट समझकर

ना आना था ,    ना आये    तुम कभी

संतोष कर लिया तेरी छलावट समझकर

मजमून तो कोई खास नहीं था चिठी का

पर पढते रहे    तेरी लिखावट समझकर

वो गिरते गये गिरने की  हद से भी ज्यादा

हम उठाते रहे उनकी थिसलाहट  समझकर

उनकी तो मंशा ही कुछ और निकली ” ठाकन”

हम तो झुकते रहे यों ही तिरिया हठ समझकर

Leave a Reply

%d bloggers like this: