लेखक परिचय

रवि श्रीवास्तव

रवि श्रीवास्तव

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under टॉप स्टोरी.


-रवि विनोद श्रीवास्तव-

Abhijeet-Bhattacharya

सलमान को 2002 हिट एंड रन मामले में दोषी करार दिए जाने और 5 साल कैद की सज़ा सुनाने के बाद देश में उनके चाहने वालों को काफी दुख हो रहा है। सलमान का किक मूवी का वो डॉयलाग मैं दिल में आता हूं समझ में नहीं बिल्कुल सही निकला। वो सच में लोगों के दिल में रहते हैं। कोर्ट से सजा के ऐलान के बाद फिल्म फिल्मी हस्तियों और दोस्तों के साथ उनके फैंस भी काफी दुखी हो गए थे। कोर्ट में सलमान के आंसू देखने के बाद तो बहुत से उनके चाहने वाले भी रो दिए थे।

13 साल से चल रहे इस केस में आखिर उस गरीब को भी तो न्याय मिलना था। जो उस रात इसका घटना के शिकार हुए थे। चलो देर से ही सही पर न्याय तो जिंदा हैं। एक तरफ न्याय था तो दूसरी तरफ दुआएं। दोनों में जंग चल रही थी। सलमान के फैंस दोषी करार दिए जाने के बाद जमानत के लिए देश भर में कई स्थानों पर पूजा-अर्चना कर रहे थे।

वाराणसी में सलमान के फैन्स विशेष यज्ञ कर रहे थे। सजा का ऐलान पर दुख तो हुआ था। लेकिन उससे ज्यादा दुख तो गायक अभिजीत की के टिप्पणी पर हुआ जो उन्होंने कहा कुत्ता रोड पर सोएगा कुत्ते की मौत मरेगा। अरे गायक साहब कहने से पहले कुछ सोच लिया होता। आज आप के पास नाम पैसा है तो कि को कुछ भी बोल देंगे। उस परिवार का दर्द तो समझो जिसने अपनी बेटा, भाई, पिता खोया है। गाने तो इतने अच्छे गाते हो, दिमाग भी उतना अच्छा चला किया करो।

चलो एक पल के लिए मान लेते हैं कि आप ने जो कहा वो सही है, पर आप की बातों का एक उदाहरण जरूर दूंगा। गरीब फुटपाथ पर सोता हैं तो उस इंसान को कुत्ता कह दिया, आप को इक बात बतानी है कुत्ते की कई नस्ल होती हैं। जिसमें कई कुत्तों को बंगला में, बड़े घरों में अच्छे खाना और बिस्तर नसीब होता है। और कुछ गली गली घूमते हैं, जिन्हें कोई नहीं पूछता। अगर वो गरीब फुटपाथ पर सोया तो उसे कुत्ता बोल दिया, और अब आप पैसे वाले बड़े बंगले में, रह रहो हो, तो क्या कहेंगे। मेरा वो शब्द लिखना जयादा जरूरी नहीं है। समझदार के लिए इशारा काफी होता है।

इंसान को समझने की कोशिश करो। सलमान का फैन होने के नाते इसका दुख मुझे भी है। लेकिन मीड़िल क्लास परिवार से वास्ता रखते हुए उस गरीब के दर्द का भी पूरा ख्याल है। देश ऐसे भी लोग मैंने देखे हैं, जिनके पास खाने के पैसे नहीं हैं, पर सलमान की कोई फिल्म नई आने वाली होती है तो देखने के लिए पैसे जोड़ने लगते हैं। आप जिसके लिए ऐसा कह रहे हैं, वो गरीबों के दिलों में और फुटपाथ पर सोने वोलों के दिलों में जगह बना चुका है।  ये बताने की जरूरत नहीं हैं। पर आप जैसों को समझना पड़ता हैं कि कौन आदमी क्या महत्व रखता हैं।

एक अच्छे गायक के बोल भी अच्छे होने चाहिए। सजा के बाद जमानत मिलने पर बालीबुड़ के हस्तियों से ज्यादा खुशी इसी तबके के लोग ने मनाई है। क्योंकि ये तबका भी नहीं चाहता कि उनके चाहने वाले पर कोई आंच आए। सलमान खान की उस गलती को गरीबों ने अपने दिल से भुला दिया। लेकिन गरीब का सवाल हैं तो कुछ न्याय उसे मिल रहा है तो इतना दर्द हो गया कि कुत्ता, बिल्ली पर उतर आए।  हद हो गई नीचता की। पिछले दो दिनों से जिससे मिला इस बात पर सबको दुख हुआ कि सलमान को सजा का ऐलान हुआ।

इतना ही नहीं, जिस आफिस में काम करता हूं, वहां लड़कियों के आंख में आसूं देखे। जो सलमान के फैन्स में से एक थी। जिनको आप ऐसे बोल रहे हो वही लोग आप के गाने को सुनते है, क्यों कि आप जैसे बड़े लोगों को अग्रेजी गाने पसंद होते हैं। सलमान खान के एक प्रशंसक ने बम्बई उच्च न्यायालय के बाहर जहर खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की, सिर्फ इस उम्मीद पर कि सलमान उनकी प्रतिभा को दिखाने में मद्द करेंगे।

वह बॉलीवुड में पटकथा लेखक बनना चाहता था लेकिन उसे अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका नहीं मिला। इस उम्मीद पर सलमान के पास आया। और पुलिस के सामने जहर भी पी लिया।

अपनी अमीरी के रौब में उस गरीब तबके को न भूलो जिसमें आप को वहां बैंठाया हैं। कहीं न कहीं उसका थोड़ा सा योगदान तो जरूर ही होगा अप्रत्यक्ष रूप से। इसलिए गायक साहब ऐसे मुंह न खोलो,  पहले बात को तोलो फिर बोलो।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz