लेखक परिचय

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

‘नेटजाल.कॉम‘ के संपादकीय निदेशक, लगभग दर्जनभर प्रमुख अखबारों के लिए नियमित स्तंभ-लेखन तथा भारतीय विदेश नीति परिषद के अध्यक्ष।

Posted On by &filed under टॉप स्टोरी.


bassiडॉ.वेदप्रताप वैदिक

दिल्ली की पुलिस के मुखिया बी.एस. बस्सी से कुछ अंग्रेजी के अखबार और चैनल नाराज़ हो गए हैं| उनकी नाराज़ी का कारण यह है कि बस्सी ने अपने सारे पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अपना काम हिंदी में करें| उन्होंने कहा है कि हम सारी भाषाओं को सम्मान करते हैं लेकिन हिंदी हमारी मातृभाषा है और राष्ट्रभाषा है| इसके अलावा पुलिस को यदि सीधे जनता की सेवा करनी है तो उसे अपनी भाषा का इस्तेमाल करना चाहिए| उन्होंने यह भी कहा कि यदि कहीं कोई अड़चन हो तो अंग्रेजी के शब्दों का इस्तेमाल करने में कोई बुराई नहीं है|

बस्सी ने बड़ी व्यावहारिक बात कही है लेकिन अंग्रेजी के पक्षपाती पत्रकारों ने लिखा है कि बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभानअल्लाह याने दिल्ली पुलिस का मुखिया अपने गृहमंत्री से भी आगे निकल गया| गृहमंत्री राजनाथसिंह ने सरकारी कर्मचारियों को सलाह दी है कि वे कम से कम अपने हस्ताक्षर तो हिंदी में करें लेकिन बस्सी कह रहे हैं कि पुलिसवाले सारा काम हिंदी में करें| उ.प्र. में पुलिस का सारा काम हिंदी में ही होता है| यह ठीक है कि दिल्ली और उ.प्र. में फर्क है| दिल्ली में भारत की लगभग सभी भाषाओं के बोलनेवाले रहते हैं और हजारों विदेशी भी रहते हैं लेकिन बस्सी ने किसी भी भाषा पर प्रतिबंध नहीं लगाया है| उनका लक्ष्य सिर्फ यह है कि आम लोगों की सुविधा बढ़े| यदि पुलिस थानों और अदालतों में अंग्रेजी चलती है तो आम जनता को अंधेरे में रखना आसान होता है| इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है| न्याय और व्यवस्था जादू-टोना बन जाती है| गरीब, ग्रामीण और वंचित लोगों की जमकर लुटाई और पिटाई होती है| इसीलिए बस्सी को बधाई! वे हिंदी थोप नहीं रहे हैं, उसे सिर्फ प्रोत्साहित कर रहे हैं|

जहां तक हिंदी में दस्तखत करने की बात है, इस आंदोलन को लगभग साल भर पहले मैंने शुरु किया था| मुझे खुशी है कि हजारों लोग अपने दस्तखत अंग्रेजी से बदलकर हिंदी व अपनी मातृभाषाओं में कर रहे हैं| देश के सभी दलों, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, आर्यसमाज और सभी साधु-संतों ने इस आंदोलन का समर्थन किया है| यदि गृहमंत्री राजनाथसिंह इसका समर्थन कर रहे हैं तो उन पर ताना कसना कहां तक उचित है? मैं तो चाहता हूं कि प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री और अन्य मंत्री भी इस मामले में आगे बढ़ें|

Leave a Reply

2 Comments on "हिंदी पर तानाकशी ठीक नहीं"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
M R IYENGAR
Guest

वैदिक जी,
न तो हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है और न ही हमारी मातृभाषा.
कहने वाले व्यक्ति विशेष की मातृभाषा हो सकती है पर सारे भारतीयों की नहीं.

सुनील पटेल
Guest
हिंदी जानने वाले ही हिंदी का ज्यादा अपमान करते है. जिसकी नहीं आती है, वो तो बच सकता है किन्तु हिंदी जानने वाले अगर मंच, पर, फाइलों पर हिंदी का इस्तेमाल नहीं करते है तो वोह ज्यादा दोषी है. अगर कोई हिंदी का इस्तेमाल करने चाहते है तो उसका मजाक बनाया जाता है. वाही कोग अंग्रेजी में मिले कागजो को लोगो के पास मातलब जानने के लिए घूमते रहते है. खुद अंग्रेजी फॉर्म पढ़ नहीं सकते है, और हिंदी का मजाक बनाते है. हर अफसर फ़ाइलो में कुछ शब्द लिखता है, ९९.९९ प्रतिशत अंग्रेजी में ही होते है. अगर आदेश… Read more »
wpDiscuz