लेखक परिचय

प्रमोद भार्गव

प्रमोद भार्गव

लेखक प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार है ।

Posted On by &filed under लेख, विविधा, समाज.


संदर्भःपेरिस में पत्रकारों पर हमला

 

प्रमोद भार्गव

यह विडंबना ही है कि एक तरफ दुनिया चहुंमुखी एवं सुविधायुक्त विकास की ओर बढ़ रही है, वहीं इस्लामिक उग्रवाद और असहिष्णुता विश्वव्यापी हो रही है। यह ठीक है कि फ्रांस जैसे कायरतापूर्ण हमलों का अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर असर, अर्से तक ठहरने वाला नहीं है। पत्रकारों पर नरसंहार के कुछ ही घंटों बाद पेरिस समेत फ्रांस के अन्य नगरों में आतंकी हरकत के खिलाफ जो भीड़ उमड़ी,उसने यह अहसास करा दिया कि वे दहशत की गिरफ्त में आने वाले नहीं है। उनके हौसले की तस्दीक गले में लटकी उन तख्तियों से भी हुई,जिन पर लिखा था ‘में हू चार्ली‘। लेकिन अभिव्यक्ति की सामूहिक स्वंतत्रता और लेखकीय स्वंतत्रता में थोड़ा फर्क होता है। लेखक,पत्रकार या व्यंग्य चित्रकार जहां व्यक्ति को धर्म,संस्कृति और भाषा के स्तर पर उदार बनाने की पहल करते हैं,वहीं सामूहिकता इन्हीं स्तरों पर व्यक्तियों का ध्रुवीकरण करते हैं। यही वजह रही कि वैचारिक दृष्टि से उदार माने जाने वाले फ्रांस में ‘चाार्ली एब्दो‘ पर हुए हमले के बाद दो शहरों में मस्जिदों पर हमले हुए। जाहिर है,आतंकी ताकतों के खिलाफ दूसरे चरमपंथी प्रतिक्रियास्वरूप लामबंद होने को विवश हो रहे हैं। लिहाजा सोचने की जरूरत है कि अखिर विकास में रोड़ा बनते ये चरमपंथी मानवता को कहां पहुंचाना चाहते हैं ?

शायद इसी आशंका का अहसास करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्री जाॅन कैरी ने कहा भी है कि ये हत्याएं व्यापक टकराव का हिस्सा हैं,लेकिन यह प्रतिरोध दो धार्मिक सभ्यताओं के बीच नहीं,बल्कि स्वयं सभ्यता और उन लोगों के बीच है,जो सभ्य दुनिया की आधुनिकता अपने रुढ़ीगत पूर्वाग्रहों के चलते बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। अंदाजा लगाया जा सकता है कि धर्म और नस्ल आधारित रुढ़िवाद विश्व समाज को स्तब्ध करते हुए ध्रुवीकरण के अवसर उत्पन्न करा रहा है। यह ध्रुवीकरण पश्चिमी देशों में मुखर होने को आतुर दिखाई देने लगा है।क्योंकि जिस फ्रांस के पत्रकारों को पैगम्बर मोहम्मद के कार्टून छापने के ऐबज मारा गया है,उसी फ्रांस की धरती पर चार सौ साल पहले अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सहिष्णुता का संदेश देते हुए प्रसिद्ध चिंतक व क्रांतिकारी वाल्टेयर ने कहा था कि ‘मै आप के विचारों से भले ही सहमत न हो पाउं,लेकिन आपके विचार प्रगट करने की स्वतंत्रता के अधिकारों की मैं रक्षा करूंगा।‘ फ्रांस में लोकतंत्र का रास्ता इसी विचार-स्वातंत्र्य से निकला और इसी विचार ने फ्रांस की शासन व्यवस्था को धर्म के अनुशासन से अलग किया। फलस्वरूप फ्रांस के प्रजातांत्रिक संविधान में धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को महत्व दिया गया। नतीजतन वहां मुस्लिमों को भी मूल नागरिकों की तरह समानता के अधिकार मिलते रहे। गोया कि यहां अन्य पश्चिमी देशों की तुलना में मुस्लिम आबादी धार्मिक स्वतंत्रता के चलते निर्बाध बढ़ती रही। फ्रांस की कुल आबादी में करीब 35 लाख जनसंख्या मुसलमानों की है,जिसका प्रतिशत 7.5 है। बावजूद विडंबना यह रही कि सांस्कृतिक बहुलता वाले देश फ्रांस में मुस्लिम स्वयं को समावेशी जीवन शैली में ढालने में कमोबेष नाकाम रहे। वे अपने विशिष्ट,धर्म,भाषा,नस्ल और यहां तक की पहनावे की पहचान भी भिन्न बनाए रखे। जबकि उनसे अपेक्षा थी कि वे देश के नागरिक होने के नाते मुख्यधारा में शामिल हो जाएंगे। लेकिन दुर्भाग्य यह रहा कि अपने कट्टर जन्मजात जातिवादी संस्कारों के कारण फ्रांस में ही पैदा हुई तीसरी व चौथी पीढ़ी के युवा भी मुख्यधारा से अलग-थलग ही रहे। अलबत्ता वे अपने धार्मिक व सांस्कृतिक मूल्यों के प्रति ज्यादा कट्टर दिखाई देने के आडंबरों में लिप्त होते चले गए। हैरानी है कि सांस्कृतिक जड़ता को तोड़ने के लिए शिक्षित मुस्लिम युवाओं ने भी तर्क व बुद्धि से काम नहीं लिया।

नतीजतन फ्रांस में दक्षिण चरमपंथ भी मजबूत होने लगा। फ्रांसीसी लेखक माइकेल होलबेक ने ‘सबमिशन‘शीर्षक से एक ऐसा उपन्यास लिखा,जिसमें यह आशंका भरी कल्पना की गई है कि 2022 तक फ्रांस इस्लामी कठमुल्लाओं के अधीन हो जाएगा। मध्ययुगीन शासन-व्यवस्था फ्रांस पर थोप दी जाएगी। और धार्मिक उन्माद धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक अवधारणा को नेस्तनाबूद कर देगा। ऐसा इसलिए संभव होगा,क्योंकि इस्लाम धर्मावलंबियों के मूल चरित्र में समावेशी लक्षणों का अभाव है। उपन्यास में दर्ज इस विचार को मारे गए वामपंथी रुझान के पत्रकार स्टीफन शोबोनियर ने कोरी कल्पना माना और गणतांत्रिक फ्रांस के इस्लामिक राज्य में बदल जाने की गल्प को एक भ्रम मााना। गोया, स्टीफन माइकेल होलबेक को दक्षिणपंथी लेखक कहकर उसका मजाक भी अपनी पत्रिका में उड़ाते रहे। वे ऐसा इसलिए करते रहे,जिससे फ्रांस के जन-मानस में यह धारणा बनी रहे कि मुस्लिम समाज भी फ्रांस की सांस्कृतिक बहुलता का सम्मान करता है। अपने इसी समावेशी नजरिए के चलते स्टीफन उन हर विसंगतियों पर कुठाराघात करते रहे,जो व्यक्ति समूहों का सांप्रदायिक चरित्र गढ़ती हैं।

व्यंग्य पत्रिका चार्ली एब्दो पिछले 45 साल से पेरिस से स्टीफन शोबेनियर के संपादकत्व में निकल रही है।  पत्रिका अपनी वामपंथी वैचारिक प्रतिबद्धता के लिए जानी जाती है। धार्मिक,सांस्कृतिक,विसंगतियों और सामाजिक रुढ़ियों एवं कुरीतियों पर व्यंग्यात्मक कटाक्ष करना इस पत्रिका का मुख्य ध्येय रहा है। ऐसा इसलिए रहा,जिससे भिन्न धर्मावलंबियों की सोच सांस्कृतिक बहुलता के प्रति उदार बनी रहे। इसी लिहाज से स्टीफन ने ‘सबमिशन‘ उपन्यास की धज्जियां उड़ाईं थीं। इस उपन्यास को फ्रंास के धर्मनिरपेक्ष संवैधानिक अवधारणा के विरुद्ध बताया था। यही नहीं पत्रिका के निशाने पर ईसाई धर्म और उसके पांखड भी खूब रहे हैं। यहां तक कि स्टीफन ने फ्रेंच गाणज्य के संस्थापक चाल्र्स द गाॅल की कार्यशैली पर कटाक्ष करने वाले भी कई काटूर्न छापे थे। अपने ही इन्हीं वामपंथी रुझानों और समावेशी विचारों के चलते स्टीफन ने इस्लाम की कुछ परंपराओं को निशाने पर लिया और पैगंबर मोहम्मद के कार्टून छापे। जबकि इस्लाम में पैगंबर मोहम्मद की किसी भी रूप में तस्वीर छापना निषेध है। यह पत्रिका अपने व्यंग्यात्मक चरित्रों व चित्रों को लेकर ही अभिव्यक्ति से जुड़ी आजादी की दुनिया में अपनी धाक व साख जमाए हुए थी।

इस्लाम चरमपंथियों के निशाने पर यह तब आई,जब फरवरी 2006 के अंक में पैगंबर मोहम्मद का कार्टून छपा था। इसके बाद 2007 में पत्रिका में डेनमार्क के एक अखबार में छपे पैगंबर के उन विवादापस्द कार्टूनों को छापा,जिनका जबरदस्त विरोध हो चुका था।  कार्टूनिस्ट का सर कलम कर देने का फरमान भी धार्मिक उन्मादियों ने जारी किया था। और स्टीफन को जान से मार देने की धमकियां मिलने लगी थीं। उन्हें नस्ल-विरोधी मानते हुए कुछ मुस्लिम कार्टून मामलों को अदालत में भी ले गए। लेकिन अदालत ने स्टीफन को निर्दोष साबित करते हुए दलील दी थी कि ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का सम्मान रखते हुए फ्रांसीसी कानून के मुताबिक छपे कार्टूनों पर न तो प्रतिबंध लगाया जा सकता है और न ही यह माना जा सकता है कि कार्टून इस्लाम विरोधी हैं। स्टीफन का इस फैसले से हौसला बुलंद हुआ और उन्होंने 2011 में एक बार फिर ‘शरीआ एब्दों‘नाम से एक कार्टून छापा था। इसे चरमपंथियों ने पैगंबर  का अपमान माना और पत्रिका के दफ्तर पर गोली बारी की तथा बम फेंके। अलकायदा के मुखपत्र में पत्रिका ‘चार्ली एब्दों‘ को इस्लाम के लिए खतरा बताया गया। बावजूद स्टीफन की कलम थमी नहीं,उनकी अभिव्यक्ति की उदात्त भावना उन्हें चरमपंथियों के विरुद्ध उकसाती रही। अखिरकार संकीर्ण मानसिक सोच के लोग इस निर्भीक पत्रकार की कलम को तब रोक पाए,जब उन्होंने निर्ममता पूर्वक कलमकार की हत्या कर दी।

इस हत्या ने पश्चिमी देशों में रह रहे मुस्लिमों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। घटना के बाद फ्रांस में दो मजिस्दों पर हमला हुआ। स्वीडन में एक मस्जिद जला दी गई। जर्मनी में ‘पश्चिम को इस्लाम में बदलने की साजिश‘ नारे लगाती हुई भीड़ सड़कों पर उतर आई । जिस जर्मनी के तानाशाह हिटलर ने नस्ल आधारित जातीय श्रेश्ठता को नकार दिया था,वहां मुस्लिमों के विरोध में लोग लामबंद हो रहे हैं। जाहिर है,यूरोपीय देशों में प्रतिक्रियास्वरूप आक्रमकता बढ़ रही है। भारत समेत अनेक एशियाई देश तो इस्लामिक कट्टरपंथ के दशकों से लहु-लुहान हैं। इसीलिए जाॅन कैरी का यह कहना तर्कसंगत लगता है कि मौजूदा हमले व्यापक टकराव का सबब बन सकते हैं। क्या यह अंतरराष्ट्रिय समुदाय को जाॅन कैरी की अपील है कि वह आंतकवाद के खिलाफ एकजुट हो जाएं ? क्योंकि अब इस्लामिक आतंकवाद वैश्विक चुनौती बन चुका है और इस चुनौती से विश्व समुदाय एकजुट होकर ही निपटने में कामयाब हो सकता है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz