लेखक परिचय

तेजवानी गिरधर

तेजवानी गिरधर

अजमेर निवासी लेखक तेजवानी गिरधर दैनिक भास्कर में सिटी चीफ सहित अनेक दैनिक समाचार पत्रों में संपादकीय प्रभारी व संपादक रहे हैं। राजस्थान श्रमजीवी पत्रकार संघ के प्रदेश सचिव व जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ राजस्थान के अजमेर जिला अध्यक्ष रह चुके हैं। हाल ही अजमेर के इतिहास पर उनका एक ग्रंथ प्रकाशित हो चुका है। वर्तमान में अपना स्थानीय न्यूज वेब पोर्टल संचालित करने के अतिरिक्त नियमित ब्लॉग लेखन भी कर रहे हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


तेजवानी गिरधर

अब तक तो माना जाता था कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भाजपा की घोर प्रतिक्रियावादी संगठन हैं और उन्हें अपने प्रतिकूल कोई प्रतिक्रिया बर्दाश्त नहीं होती, मगर टीम अन्ना उनसे एक कदम आगे निकल गई प्रतीत होती है। मीडिया और खासकर इलैक्ट्रॉनिक मीडिया पर उसकी तारीफ की जाए अथवा उसकी गतिविधियों को पूरा कवरेज दिया जाए तो वह खुश रहती है और जैसे ही कवरेज में संयोगवश अथवा घटना के अनुरूप कवरेज में कमी हो अथवा कवरेज में उनके प्रतिकूल दृश्य उभर कर आए तो उसे कत्तई बर्दाश्त नहीं होता।

विभिन्न विवादों की वजह से दिन-ब-दिन घट रही लोकप्रियता के चलते जब इन दिनों दिल्ली में चल रहे टीम अन्ना के धरने व अनशन में भीड़ कम आई और उसे इलैक्ट्रॉनिक मीडिया ने दिखाया तो अन्ना समर्थक बौखला गए। उन्हें तब मिर्ची और ज्यादा लगी, जब यह दिखाया गया कि बाबा रामदेव के आने पर भीड़ जुटी और उनके जाते ही भीड़ भी गायब हो गई। शनिवार को हालात ये थी कि जब खुद अन्ना संबोधित कर रहे थे तो मात्र तीस सौ लोग ही मौजूद थे। इतनी कम भीड़ को जब टीवी पर दिखाए जाने लगा तो अन्ना समर्थकों ने मीडिया वालों को कवरेज करने से रोकने की कोशिश तक की।

टीम अन्ना की सदस्य किरण बेदी तो इतनी बौखलाई कि उन्होंने यह आरोप लगाने में जरा भी देरी नहीं की कि यूपीए सरकार ने मीडिया को आंदोलन को अंडरप्ले करने को कहा है। उन्होंने कहा कि इसके लिए केंद्र सरकार ने बाकायदा चि_ी लिखी है। उसे आंदोलन से खतरा महसूस हो रहा है। ऐसा कह कर उन्होंने यह साबित कर दिया कि टीम अन्ना आंदोलन धरातल पर कम, जबकि टीवी और सोशल मीडिया पर ही ज्यादा चल रहा है। यह कहना ज्यादा उपयुक्त होगा कि टीवी और सोशल मीडिया के सहारे ही आंदोलन को बड़ा करके दिखाया जा रहा है। इससे भी गंभीर बात ये कि जैसे ही खुद के विवादों व कमजोरियों के चलते आंदोलन का बुखार कम होने लगा तो उसके लिए आत्मविश्लेषण करने की बजाया पूरा दोष ही मीडिया पर जड़ दिया। ऐसा कह कर उन्होंने सरकार को घेरा या नहीं, पर मीडिया को गाली जरूर दे दी। उसी मीडिया को, जिसकी बदौलत आंदोलन शिखर पर पहुंचा। यह दीगर बात है कि खुद अपनी घटिया हरकतों के चलते आंदोलन की हवा निकलती जा रही है। ऐसे में एक सवाल ये उठता है कि क्या वाकई मीडिया सरकार के कहने पर चलता है? यदि यह सही है तो क्या वजह थी कि अन्ना आंदोलन के पहले चरण में तमाम मीडिया अन्ना हजारे को दूसरा गांधी बताने को तुला था और सरकार की जम की बखिया उधेड़ रहा था? हकीकत तो ये है कि मीडिया पर तब ये आरोप तक लगने लगा था कि वह सुनियोजित तरीके से अन्ना आंदोलन को सौ गुणा बढ़ा-चढ़ा कर दिखा रहा है।

मीडिया ने जब अन्ना समर्थकों को उनका आइना दिखाया तो सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बौखलाते हुए मीडिया को जम कर गालियां दी गईं। एक कार्टून में कुत्तों की शक्ल में तमाम न्यूज चैनलों के लोगो लगा कर दर्शाया गया कि उनको कटोरों में सोनिया गांधी टुकड़े डाल रही है। मीडिया को इससे बड़ी कोई गाली नहीं हो सकती।

एक बानगी और देखिए। एक अन्ना समर्थक ने एक न्यूज पोर्टल पर इस तरह की प्रतिक्रिया दी है:-

क्या इसलिए हो प्रेस की आजादी? अरे ऐसी आजादी से तो प्रेस की आजादी पर प्रतिबन्ध ही सही होगा । ऐसी मीडिया से सडऩे की बू आने लगी है। सड़ चुकी है ये मीडिया। ये वही मीडिया थी, जब पिछली बार अन्ना के आन्दोलन को दिन-रात एक कर कवर किया था। आज ये वही मीडिया जिसे सांप सूंघ गया है। ये इस देश का दुर्भाग्य ही कहा जायेगा की कुछ लोग इस देश की भलाई के लिए अपना सब कुछ छोड़ कर लगे है, वही हमारी मीडिया पता नहीं क्यों सच्चाई को नजरंदाज कर रही है। इससे लोगों का भ्रम विश्वास में बदलने लगा है। कहीं हमारी मीडिया मैनेज तो नहीं हो गई है? अगर मीडिया आम लोगों से जुडी सच्चाई, इस देश की भलाई से जुड़ी खबरों को छापने के बजाय छुपाने लगे तो ऐसी मीडिया का कोई औचित्य नहीं। आज की मीडिया सिर्फ पैसे के ही बारे में ज्यादा सोचने लगी है। देश और देश के लोगों से इनका कोई लेना-देना नहीं। आज की मीडिया प्रायोजित समाचार को ज्यादा प्राथमिकता देने लगी है।

रविवार को जब छुट्टी के कारण भीड़ बढ़ी और उसे भी दिखाया तो एक महिला ने खुशी जाहिर करते हुए तमाम टीवी चैनलों से शिकायत की वह आंदोलन का लगातार लाइट प्रसारण क्यों नहीं करता? गनीमत है कि मीडिया ने संयम बरतते हुए दूसरे दिन भीड़ बढऩे पर उसे भी उल्लेखित किया। यदि वह भी प्रतिक्रिया में कवरेज दिखाना बंद कर देता तो आंदोलन का क्या हश्र होता, इसकी कल्पना की जा सकती है।

कुल मिला कर ऐसा प्रतीत होता है कि टीम अन्ना व उनके समर्थक घोर प्रतिक्रियावादी हैं। उन्हें अपनी बुराई सुनना कत्तई बर्दाश्त नहीं है। यदि यकीन न हो तो सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर जरा टीम अन्ना की थोड़ी सी वास्तविक बुराई करके देखिए, पूरे दिन इसी काम के लिए लगे उनके समर्थक आपको फाड़ कर खा जाने तो उतारु हो जाएंगे।

वस्तुत: टीम अन्ना व उनके समर्थक हताश हैं। उन्हें समझ नहीं आ रहा कि जिस आंदोलन ने पूरे देश को एक साथ खड़ा कर दिया था, आज उसी आंदोलन में लोगों की भागीदारी कम क्यों हो रही है।

Leave a Reply

15 Comments on "मीडिया हकीकत दिखाए तो टीम अन्ना को बर्दाश्त नहीं"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
श्रीराम तिवारी
Guest
बढ़िया आलेख बधाई! हालाँकि अन्ना ,केजरीवाल और कुछ और एन जी ओ चलाने वालों को निठल्ले लोगों की भीड़ ने बौरा दिया था. ये लोग मिश्र,सीरिया,लीबिया और यमन की दिग्भ्रमित सत्ता की छीना झपटी को क्रांति समझ बैठे और भारत की जनता को भी उसी चश्में से देखने का शौक पाल बैठे ,एस एम् एस और जंतर-मंतर के चुनिन्दा फोटो शूट आउट पर क्षणिक जोश पर विशाल भारत की जनता को एकजुट नहीं किया जा सकता . भले ही भृष्टाचार और कदाचार अपनी सीमाओं को तोड़ डाले. देश को चलाना आसान काम नहीं.वेशक यूपीए सरकार पर कई आरोप हैं किन्तु… Read more »
तेजवानी गिरधर
Guest

आपका शुक्रिया

तेजवानी गिरधर
Guest

तंज उ sir

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी
Guest
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी
आदरणीय तापस जी आपने सच कहा मुख्य बात भीड़ नहीं भ्रष्टाचार है।और एक बात-गलत कार्य करने के लिए के किसी शुभ दिन की जरुरत नहीं है,जबकि सही कार्य के लिए पञ्चाङ्ग देखना पड़ता है।भारत भ्रष्टाचार से जूझ रहा है,यह स्थिति सिर्फ और सिर्फ नेताओं की वजह से है (कुछ हदतक और हम लोगों की बजह से भी है)।फिर भी अन्ना जी उन्हीं से लोकपाल पास कराने की जिद में अड़ें है।कौन सा नेता भ्रष्ट नहीं,कौन सी पार्टी भ्रष्ट नहीं और कौन सी सरकार भ्रष्ट नहीं है?इतना ही नहीं यह भ्रष्टाचार कमोबेश हर मन में मौजूद है।जाहिर है इसे समाप्त करना… Read more »
आर. सिंह
Guest
अनिल गुप्ता जी आप अभी भी आधी अधूरी बात पर बहस कर रहेहैं.पहले जन लोकपाल के ड्राफ्ट को पढ़िए.उसमें सबसे महत्त्व पूर्ण बात है सी.बी.आई को सरकार के मंत्रियों के पंजों से मुक्त होना.जाँच एगेंसी के रूप में सी.बी.आई. के असफलता का मुख्या कारण है,उस का गृह मंत्री और प्रधान मंत्री के प्रति उत्तरदायी होना.आप सी बी आई को जब तक स्वायतता नहीं देंगे या जबतक उसे जन लोकपाल जैसी संस्था के अधीन नहीं करेंगे,तब तक वह निष्पक्ष जांच कर ही नहीं सकती. अदालतों में भी सुधार की आवश्यकता है.जन लोकपाल बिल के प्रारूप में इसका भी प्रावधान किया गया… Read more »
dr dhanakar thakur
Guest

मीडिया का कम जो सही है उसे दिखाना है
संघ से परहेज के कारन लोग घाट गए
अन्ना को कोई भी जो ब्रस्ताचार विरोधी हो की मदद लेनी चाहिए अपने पूर्वाग्रहों को छोड़

तेजवानी गिरधर
Guest

आप सही कह रहे है

Anil Gupta
Guest
श्री आर सिंह जी, आपने जो कहा है वो हमारे अदालती सिस्टम के बारे में बिलकुल सही है. लेकिन जनलोकपाल कानून बनने पर भी सजा देने का काम तो अदालतें ही करेंगी या या काम भी जन अदालत बनाकर किया जायेगा? जन अदालतें लोकतान्त्रिक समाजों में प्रचलित नहीं हैं और केवल कम्युनिस्ट व्यवस्थाओं में या तानाशाही में ही हो सकती हैं.ये तो ऐसे ही होगा की कहीं पर भी एक भीड़ इकट्ठी होकर किसी को भी अपराधी घोषित करदे और सजा सुना दे. लेकिन भारत मेरे विचार में सेंकडों साल पहले ही इस प्रकार की अराजक अदालतों से आगे बढ़… Read more »
wpDiscuz