लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under आंकडे.


atalji115 वें लोकसभा चुनाव में देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजयेपी भले ही चुनाव नहीं लड रहे हैं परंतु उनके नाम कई रिकार्ड हैं। भाजपा के पहले प्रधानमंत्री श्री वाजपेयी अकेले सांसद थे जिन्हें चार राज्यों से चुनाव लडकर सांसद बनने का रिकार्ड बनाया था। वे अलग-अलग छह लोकसभा क्षेत्रों से चुनाव लडकर सांसद बन चुके हैं।अटल बिहारी वाजपेयी एक मात्र एक ऐसे सांसद रहे हैं जिन्होंने उत्तरप्रदेश, गुजरात, मध्यप्रदेश एवं दिल्ली राज्यों से सांसद चुने जा चुके हैं। 1957 एवं 67 में वे बलरामपुर से, 1971 में ग्वालियर से, 1977 एवं 80 में नई दिल्ली से, 1991 में विदिशा से , 1996 में गांधीनगर से तथा लखनऊ से वे 1991 ,1996 और 1998 में चुनाव जीतकर वे सांसद बन बन चुके हैं। ऐसा प्रदर्शन करने वाले वे देश के एक मात्र राजनीतिज्ञ हैं।

भाजपा ने सबसे पहली बार पश्चिम बंगाल एवं तमिलनाडू में 1998 में लोकसभा की सीटें जीती थी। पहली लोकसभा में मात्र 4.4 फीसदी महिलाएं ही लोकसभा में पहुंची थी जबकि 13 वीं लोकसभा में 9.02 प्रतिशत महिलाएं पहुंची। लोकसभा के कई और भी रोचक तथ्य हैं। मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी और अमेरिका में जॉज बुश रिपब्लिकन पार्टी का चुनाव चिन्ह एक ही था। दोनों ही पार्टी का चुनाव चिन्ह हाथी था।

1950 में हुए चुनाव में हर उम्मीदवार के लिए अलग मतदाता बॉक्स था , जो अलग-अलग रंग के थे और अलग-अलग पार्टियों के थे। भारत का लक्षदीप संसदीय क्षेत्र ऐसा क्षेत्र हैं जिसमें सबसे ज्यादा मुस्लिम मतदाता हैं। यहां इनकी जनसंख्या जम्मूकश्मीर से भी अधिक है। मध्यप्रदेश का छिंदवाडा लोकसभा क्षेत्र हमेशा से कांग्रेस का गढ रहा है। यहां कांग्रेस कभी भी चुनाव नहीं हारी है। छत्तीसगढ का राजनांदगांव एक ऐसा संसदीय क्षेत्र रहा जहां से एक ही परिवार के मां,पिता और बेटा सांसद रहे हैं। 1957 के लोकसभा चुनाव में सबसे अधिक 62.2 फीसदी मत डाले गये थे, जबकि 1967 में यह प्रतिशत मात्र 33 था। देश में पांच बडे और पांच सबसे छोटे लोकसभा क्षेत्र हैं। लद्दाख सबसे बडा क्षेत्रफल वाला संसदीय क्षेत्र है। इसके बाद राजस्थान का बाडमेर , गुजरात का कच्छ, अरूणाचल पश्चिम उसके बाद अरूणाचल पूर्व संसदीय क्षेत्र आता है। देश का सबसे छोटा संसदीय क्षेत्र दिल्ली का चांदनी चौक है। इसके बाद कलकत्ता उत्तरपश्चिम फिर मुंबई दक्षिण और फिर मुंबई दक्षिणपूर्व संसदीय क्षेत्र है।(हि.स.)

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz