लेखक परिचय

रोहित श्रीवास्तव

रोहित श्रीवास्तव

रोहित श्रीवास्तव एक कवि, लेखक, व्यंगकार के साथ मे अध्यापक भी है। पूर्व मे वह वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के निजी सहायक के तौर पर कार्य कर चुके है। वह बहुराष्ट्रीय कंपनी मे पूर्व प्रबंधकारिणी सहायक के पद पर भी कार्यरत थे। वर्तमान के ज्वलंत एवं अहम मुद्दो पर लिखना पसंद करते है। राजनीति के विषयों मे अपनी ख़ासी रूचि के साथ वह व्यंगकार और टिपण्णीकार भी है।

Posted On by &filed under कविता.


जब जब मेरा चंचलरूपीमन भवरें की भांति ……

सपनों की पुष्प-नागरीमे मँडराता

खुद को कभी इधर…… कभी उधर…..

बदनामतन्हा गलियो मे बिलकुल अकेला पाता

 

मन-मंदिर मे बसी अनदेखी-अनजानीवो

सपनों के संसार की स्वपन-सुंदरी

जिसमे सौंदर्यताऔर कोमार्यता

कूट-कूटके भरी…..

 

सच कहता हूँ मे…. सच कहता हूँ मे…..

वो ही है मेरी…. वो ही है मेरी…..

स्वपन-परी

 

चाँद की चमक”……. सूरज की दमक”…..

टिमटिमाते तारों की रौनक से जिसका आकाशरूपीमनमोहक रूप

लिखताआकर्षणकी नयी परिभाषा।

थोड़ी सी अलबेली सी……

लगती एक पहेली सी…..

मेरी स्वपन-परी”… मेरी जिज्ञासा

 

खुली जब आँख मेरी……

हो गया वास्तविकता से वास्ता

झट से पलट गयी बाजी ऐसे…..

जैसे शतरंज का पासा

 

फिर से हुआ मेरा निराशासे सामना…….

करता हु आजकल ईश्वर से ये ही कामना

हो जाए बस एक बार मेरी स्वपन परीके साथ

भौतिक-संसारमे आमना-सामना

 

ना जाने कब होंगे मेरे सपने साकार….

मिलेगा मेरी उमंगभरी चाहतोको स्वपनरुपि आकार

आएगी मेरे जीवन मे भी खुशियो की बहार

इंतज़ार है मेरी स्वपन-परीका आज भी

कहता हु मे बारंबार”………. कहता हु मे बारंबार

 

ना जाने ऐसा क्यू लगता है हरदम …

मिलेगी मेरी स्वपन-परी वही……

जो कहलाता है विस्मयकारीस्वपन-संसार

इंतज़ार है मेरी स्वपन-परीका आज भी

कहता हु मे बारंबार”………. कहता हु मे बारंबार

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz