लेखक परिचय

अश्वनी कुमार

अश्वनी कुमार

स्वतंत्र लेखक, कहानीकार व् टिप्पणीकार

Posted On by &filed under जन-जागरण.


mission mangalअश्वनी कुमार

 

अगर विकास कि बात करें तो कागज़ी तौर पर भारत निरंतर विकास की ओर अग्रसर है। और हाल ही में भारत ने विकास के नए आयाम को छू लिया, मिशन मंगल (मंगलयान) के प्रक्षेपण के साथ ही मंगल लॉन्च करने के मामले में भारत का अंतरिक्ष संगठन (ISRO) दुनिया का चौथा संगठन बन गया। इसे साफ़ तौर पर एक बड़ी उपलब्धि कहा जा सकता है।

जहाँ एक ओर मंगलयान की सफलता को लेकर खुशियां मनाई जा रही हैं वहीँ इस मिशन पर किये गए 450 से 500 करोड़ के खर्च को लेकर इसकी आलोचनाएं भी की जा रही हैं। क्या भारत जैसा विकासशील देश जहाँ लगभग 23 करोड़ लोग रोजाना भूखे पेट ही सो जाते हों, करोड़ों लोगों तक मौलिक सुविधाएं न पहुंची हों। उस देश के लिए मंगल मिशन पर इतना खर्च करना, इन भूखे पेट सोने वाले गरीबों के लिए उनके हृदयों पर ठेस लगाने वाली बात नहीं है? साथ ही इससे सरकार की नीयत भी साफ़ पता चलती है कि वह किस तरह गरीब लोगों कि जरूरतों को नज़रअंदाज कर रही है। कहने को विभिन्न सरकारी योजनाएं हैं गरीबी उन्मूलन के लिए, परन्तु ज़मीनी हक़ीक़त तो कुछ और ही बयां करती है। केवल कागज़ों में हुआ विकास और गरीबी का उन्मूलन किसी रूप में असल नहीं कहा जा सकता। इसके अलावा अगर नासा की एक रिपोर्ट पर नज़र दौड़ाएं तो पता चलता है कि मंगल पर किसी भी प्रकार के जीवन के नाममात्र भी संकेत नहीं हैं।

 

हालांकि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने कहा है कि मंगल ग्रह पर हुआ 450 करोड़ रुपये का खर्च अभियान गलत नहीं था। देश का अंतरिक्ष कार्यक्रम लोगों पर केंद्रित है तथा एक एक रुपये को हिसाब से खर्च किया गया है। सवाल यहाँ फिजूलखच खर्च का नहीं है। वैसे भी सरकार द्वारा विभिन्न घोटालों में इससे ज्यादा रकम फ़िज़ूल ही इनकी जेबों में जा चुकी है। सवाल यहाँ इस तरह के अभियान पर खर्च का है। जब पहले ही दुनिया का सबसे बड़ा अंतरिक्ष संगठन ‘नासा’  मंगल पर जीवन होने से मना कर चुका है। तो भारत का अंतरिक्ष संगठन इसरो वहाँ क्या खोजना चाहता है? (क्या भारत में भू-माफियाओं ने सारी ज़मीनों पर कब्ज़ा कर लिया जो भारत वहाँ जाकर बसना चाहता है।) और अगर वहाँ कुछ मिल भी जाता है तो भारत के गरीब तबके को क्या मिलेगा, इस तबके को इससे क्या लाभ होगा? और जब कुछ होना ही नहीं है तो इतने बड़े खर्च का क्या लाभ? क्या यह रकम गरीबों के लिए, उनके विकास के लिए नहीं लगाई जा सकती थी? जवाब होगा ‘हां’ बिलकुल लगाई जा सकती थी, परन्तु सरकार शायद देश की आतंरिक स्थिति सुधारने की बजाये बाह्य उपलब्धियां जुटा लेना चाहती है। लेकिन शायद सरकार यह नहीं जानती कि पहले देश के आतंरिक हालत में सुधार की जरुरत है, देश से भुखमरी हटनी जरुरी है, गरीबों को बुनियादी सुविधाएं देना जरुरी है। न कि बाहरी दिखावा करना।

 

कई बार पहले भी ये सवाल उठाया जा चुका है, इसी को लेकर कई बड़े आंदोलन भी हो चुके हैं। पर हालात हैं कि सुधरने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। क्या बढ़ती जनसँख्या, साधनों का अभाव और बेरोज़गारी के साथ-साथ राजनैतिक कारण नही हैं जो गरीबी को बढ़ावा दे रहे हैं? आखिर विभिन्न योजनाओं के अस्तित्त्व में आने के बाद भी, क्यों आज तक गरीबी ख़त्म नही हुई? साफ़ है बनाई गयी योजनाएं कारगर नहीं थी, या फिर यहाँ भी भ्रष्टाचार ने उन लोगों तक योजनाओं को पहुँचने ही नहीं दिया, जिनके लिए ये परियोजनाएं बनाई जाती हैं। भ्रष्टाचारी है कौन, ये प्रक्रिया कहाँ से आरम्भ हुई? सब जानते हैं। पर आवाज़ को उठाने के लिए कोई तैयार नहीं। बस चोर और महाचोर की लड़ाई में हमेशा चोर का साथ देकर उसे महाचोर बनाने में जरुर सहयोग कर देते हैं।

 

भारत ने इससे पहले कई बार अंतरिक्ष का रुख किया है, जिसमें आर्यभट्ट 1975, भास्कर-1 1979, एप्पल 1981, भास्कर-2 1981, इनसेट-1बी 1983 और चंद्रयान-1 2008 मुख्य रूप से शामिल हैं। पर इससे हुआ क्या है, क्या वाकई हम कुछ हासिल कर सके हैं? इसे बड़ा कारनामा तो किसी भी रूप में नहीं कह सकते, क्योंकि अमेरिका यह सब 60 के दशक में ही कर चुका था, जो भारत आज 50 सालों बाद कर रहा है. क्या ऐसा कुछ प्रावधान नहीं हो सकता जिसके माध्यम से हम ‘नासा’ के साथ सीधे तौर पर काम कर पाएं। और महत्त्वपूर्ण खोजों में सबसे पहले शामिल हो सकें, न कि पहले ही कि जा चुकी खोजों को फिर से करें? और अगर खुद खोज करनी ही है तो इतने सेटेलाइट होने के बाद भी प्राकृतिक आपदाओं का पता लगाने में आज भी हम सक्षम क्यों नहीं हो पाएं हैं? केवल ओड़िशा में आने वाले “फैलिन” तक ही तो सीमित नहीं रहा जा सकता। और यह पर्याप्त भी नहीं है।

 

मंगलयान का सफल प्रक्षेपण तो कर दिया गया। पर यह अपने पीछे कई सवाल खड़े कर गया। क्या मंगलयान अपने तीनों चरण पूरे कर पायेगा, क्या एक साल की लम्बी अवधि पूरी हो सकेगी? इतने बड़े खर्च का हमें कुछ लाभ मिल सकेगा? या केवल एक उपलब्धि के तौर पर ही इसे देखा जायेगा? क्या आने वाले समय में मंगल पर जीवन को देखा जा सकता है? इत्यादि कई बड़े सवाल हैं जिनके उत्तर आज जनता जानना चाहती है।

 

इसी के साथ जनता यह भी जानना चाहती है कि अगर इन करोड़ों रुपयों को जनता के विकास के लिए खर्च किया जाता तो किस हद तक भुखमरी ख़त्म होती? अगर इसका दूसरा पहलु देखें तो साफ़ है कि स्थिति में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं आता बल्कि भुखमरी और बढ़ जाती। योजनाओं का लाभ गरीबों तक जाते जाते तो वह मरने की कगार पर पहुँच जाते हैं। और बचा-खुचा  कुछ मिलता भी है तो वह पर्याप्त नहीं होता। मुझे याद है एक बार ‘राजीव गांधी’ ने अपने भाषण में कहा था कि हम विकास के  लिए देते तो सौ रुपये हैं पर वहाँ तक पहुँचते-पहुँचते केवल दस रुपये ही बचते हैं। और अगर इसे आज के सन्दर्भ में देखें तो एक रुपया भी नही बचता, पूरे पैसे का बंटवारा समानता से कर लिया जाता है। जिनके लिए ये पैसा वास्तव में है उन्हें मिलता है ठेंगा। अब देखना यह है कि कितना कारगर साबित होता है ये मिशन मंगल? या यह भी ठन्डे बस्ते में जा गिरेगा।

 

5 Responses to “मिशन मंगल:- बड़ी प्रौद्योगिक उपलब्धि या फ़िज़ूलखर्ची”

  1. बीनू भटनागर

    असफलता का डर हो तो कोशिश ही न करें, तब तो दुनिया पाषाण युग मे ही रहती। कब कौन सा अनुसंधान क्या जानकारी दे दे कहा नहीं जा सकता।यदि मंगलयान न भी भेजा जाता तो क्या भूखे पेट सोने वालों की संख्या कम हो जाती? भूखे लोगों की संख्या कभी नहीं घटेगी जब तक जनसंख्या की वृद्धि को रोकने के लियें कुछ न किया गया।

    Reply
  2. शिवेंद्र मोहन सिंह

    लेख से पहले अश्विनी जी का परिचय भी कराया जाता (संपादक जी लेखक परिचय को और उसकी पृष्ठभूमि को जरूर सम्मिलित करें).

    ये लेख उसी तरह का है जैसे बिजली कि क्या जरूरत थी? क्या लोग बिजली आने से पहले धरती पर रहते ही नहीं थे ?बिना बिजली के मरे जा रहे थे ? मोटर गाड़ी की क्या जरूरत थी, इत्यादि इत्यादि …..

    चंद्रयान १ भेजने से पहले भी अमेरिका कहता था चंद्रमा पर कुछ नहीं है लेकिन जब भारत के अन्वेषण ने चन्द्रमा पर पानी कि पुष्टि कि तब अमेरिका को सांप सूंघ गया था. और बाद में स्वयं उसने भी इसकी पुष्टि की. हर चीज क्या अमेरिका सर्टिफाई करेगा?

    लेखक या तो पूंजीवादी (अमेरिका परास्त) या साम्य वादी (जैसा की चीन का स्टेटमेंट आया था, गरीबी का मजाक उड़ाते हुए) मानसिकता से ग्रस्त है. जिसे भारत की इस महान वैज्ञानिक उपलब्धि से चिढ़ या यूँ कहें कुढ़न हो रही है. इसकी सबसे बड़ी उपलब्धि तो भारत ने अपनी उपग्रह प्रक्षेपण की क्षमता को दर्शाया है. ये अपने आप में एक बड़ा बाजार है अंतर्राष्ट्रीय पटल पर.

    ४५० करोड़ से भारत की गरीबी मिट रही थी? ये फिजूल खर्च नहीं भविष्य का इन्वेस्टमेंट है महोदय.

    राजसत्ता चलने वाले लूटखसोट कर रहे हैं इसलिए भारत में गरीबी है लेखक महोदय, इस आसान बात को समझिये. विज्ञान के या किसी और ज्ञान के अभियान पर हुए अन्वेषण को फिजूल खर्च नहीं कहा जाता है.

    सादर

    Reply
    • Ashwani Kumar

      शिवेंद्र मोहन सिंह जी नमस्कार,

      आप मुझे किसी भी मानसिकता से ग्रस्त नहीं लगे और आपकी प्रतिक्रया पाकर भी मुझे बहुत ख़ुशी हुई. परन्तु मैं आपसे एक बात जानना चाहता हूँ कि कुछ बूंद पानी से आप क्या वहाँ पर समुद्र कि कल्पना कर रहे हैं. और अगर हाँ तो क्या आप मंगल पर जाकर रहेंगे उस समुद्र को देखने के लिया, नहीं हो सकता शायद। और ऐसा भी नहीं है कि सारी चीज़ें हम अमेरिका के कहने पर ही कर, तो ये बात और ये सवाल उठाइये न येही तो मैं चाहता हूँ. कि सब लोग जवाब मांगे कि कितनी चीज़ें अमेरिका के कहने पर कि जाती है और कितनी नहीं। आप ही बताइये आपने ये सवाल कितनी बार उठाया है. ↚

      आप सोचकर बताइये, क्यूंकि आपकी बापकी बातों से आप मुझे विवेकी और बुद्धिजीवी लगे, भारत में विकास का पैमाना क्या है और कहाँ तक भारत ने विकास किया है?

      Reply
      • शिवेंद्र मोहन सिंह

        अश्विनी जी, नमस्कार, भारत में विकास का पैमाना और भारत ने कहाँ तक विकास किया है, ये सवाल सत्तारूढ़ दल, राजनीति, राज्यनीति और स्वयं लोगों का है इसका विज्ञान से क्या लेना देना?
        ६६ साल बाद भी लोग देश का हाल देखने के बाद भी अगर एक ही दल को वोट दे रहे हैं, इसका विज्ञान से क्या लेना देना? भारत के लोग गरीब अपनी बेवकूफी कि वजह से हैं ना कि वैज्ञानिक अनुसन्धान कि वजह से.

        अरबों क्या खरबों रूपए लगा कर लार्ज हाइड्रोजन कोलाइडर मशीन का निर्माण किया गया और उस पर प्रयोग चल रहे हैं. इससे होने वाले फायदे का पता तो आने वाले समय में चलेगा, हम आपकी सोच तो एक सीमित दायरे में ही हो सकती है, कितना पैसा लगेगा और क्या रिजल्ट आएगा. लेकिन वैज्ञानिकों कि सोच हमसे कहीं आगे कि होती है. उनको अपना काम करने दीजिये. ये वैज्ञानिक अनुसन्धान का नतीजा है कि हम आप बातचीत कर प् रहे हैं, टीका टिप्पणी कर रहे हैं. अगर आपके नजरिये से देखा जाए तो चिट्ठी पत्री ज्यादा बेहतर थी?

        Reply
  3. Binu Bhatnagar

    यह सवाल भारत जैसे देश मे पहली बार नहीं उठाया गया है, 1982 मे भारतमे रंगीन टी.वी.लाया जाये या न लाया जाये पर काफ़ी चर्चा हुई थी, पर समय के साथ चलना ज़रूरी होता है इसलियें देर मे ही सही भारत मे रंगीन टी.वी. लाया गया, यदि न भी लाया जाता तो ग़रीबों की हालत मे कोई सुधार होता ऐसी कोई संभावना नहीं थी।मंगलयान की सफलता से देश की छवि अवश्य बहतर बनेगी, उससे कितना लाभ मिलेगा यह तो आनेवाला मय ही बतायेगा।
    ग़रीबी दूर करनी है तो जनसंख्या पर सख़्ती से अंकुश लगाना होगा, जिसके लियें राजनैतिक इच्छा शक्ति का अभाव है।भ्रष्टाचार और काले धन पर रोक लगानी होगी। मंगलयान न भी भेजा जाता तो ग़रीबों की दशा मे कोई सुधार होता, ऐसी कोई उम्मीद नहीं की जा सकती।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *