लेखक परिचय

विपिन किशोर सिन्हा

विपिन किशोर सिन्हा

जन्मस्थान - ग्राम-बाल बंगरा, पो.-महाराज गंज, जिला-सिवान,बिहार. वर्तमान पता - लेन नं. ८सी, प्लाट नं. ७८, महामनापुरी, वाराणसी. शिक्षा - बी.टेक इन मेकेनिकल इंजीनियरिंग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय. व्यवसाय - अधिशासी अभियन्ता, उ.प्र.पावर कारपोरेशन लि., वाराणसी. साहित्यिक कृतियां - कहो कौन्तेय, शेष कथित रामकथा, स्मृति, क्या खोया क्या पाया (सभी उपन्यास), फ़ैसला (कहानी संग्रह), राम ने सीता परित्याग कभी किया ही नहीं (शोध पत्र), संदर्भ, अमराई एवं अभिव्यक्ति (कविता संग्रह)

Posted On by &filed under महिला-जगत, विविधा, समाज.


raniकेरल के मशहूर सुन्नी मुस्लिम धर्मगुरु कांथापुरम एपी अबूबकर मुसलियार ने कल दिनांक २८, नवंबर, २०१५ को कोझिकोड में मुस्लिम स्टूडेंट फ़ेडेरेशन के एक कैंप को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाएं कभी पुरुषों के बराबर नहीं हो सकतीं, क्योंकि वे केवल बच्चों को पैदा करने के लिए बनी हैं। उन्होंने कहा कि लैंगिक समानता की अवधारणा गैर इस्लामिक है। आल इंडिया सुन्नी जमीयत उल उलेमा के प्रमुख मुसलियार ने कहा कि महिलायें मानसिक तौर पर मज़बूत नहीं होती हैं और दुनिया को नियंत्रित करने की ताकत सिर्फ मर्दों में है। लैंगिक समानता कभी हकीकत नहीं बन सकता। यह इस्लाम और मानवता के खिलाफ होने के साथ ही बौद्धिक रूप से भी गलत है।
इसके उलट सनातन धर्म की अवधारणा है कि “यत्र नारी पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता।” जहाँ नारी की पूजा होती है, वहाँ देवताओं का वास होता है। अगर ऐसा बयान किसी हिन्दू धर्म गुरु ने दिया होता तो कल्पना कीजिए हिन्दुस्तान के न्यूज चैनल और धर्मनिरपेक्ष क्या कर रहे होते? टीवी पर कितने डिबेट चल रहे होते, कितने फिल्म सितारे भारत छोड़ने का बयान दे रहे होते और कितने प्रगतिशील गंगा-जमुनी तहज़ीब को बचाने के लिए सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे होते? यह गंगा-जमुनी कौन सी तहज़ीब है, मेरी समझ में आज तक नहीं आया। मेरी जो छोटी समझ है उसके अनुसार गंगा की पहचान देवाधिदेव महादेव से है और जमुना की पहचान योगीराज श्रीकृष्ण से है। भारत की पूरी संस्कृति ही गंगा और जमुना के किनारे विकसित हुई है और इस संस्कृति ने औरत को कभी हीन नहीं माना। गार्गी ने वेद की ऋचाएं रची, दुर्गा ने असुरों का संहार किया, सरस्वती ने विद्या दी और लक्ष्मी ने विश्व को धन-संपदा। आज के युग में भी अहिल्या बाई ने आदर्श राज्य-व्यवस्था की नींव रखी, तो लक्ष्मी बाई ने पराक्रम और शौर्य का नया इतिहास रचा। नारी का दर्ज़ा पुरुषों के बराबर नहीं, उनसे कहीं ऊँचा है।

4 Responses to “बच्चा पैदा करने वाली मशीन”

  1. आर. सिंह

    आर.सिंह

    क्या आर.एस एस या अन्य कट्टर हिन्दू धर्मावलम्बियों की विचार धारा इससे अलग है?

    Reply
  2. आर. सिंह

    आर.सिंह

    क्या आर.एस.एस की विचार धारा भी इससे मिलती जुलती नहीं है? क्या वे नारी को पुरुष के बराबरी का दर्जा देने को तैयार हैं?क्या वे नहीं कहते कि नारी का अधिकार क्षेत्र घर की चारदीवारी के भीतर है?

    Reply
    • बिपिन किशोर सिन्हा

      आर.एस.एस. की विचारधारा लेख के द्वितीय पैरा में दी गई है. जो पढ़कर भी न समझे, उसको समझाना असंभव है. मुरख ह्रदय न चेत, जो गुरु मिलहि विरंचि सम.

      Reply
  3. mahendra gupta

    आज मुस्लिम समाज में जब जाग्रति की जरुरत है तब उनके धर्म गुरु का ऐसा बयान सोचनीय व चिंतनीय है आश्चर्य है कि किसी भी दल,धार्मिक नेता, महिला आयोग, मानवाधिकार आयोग द्वारा इसका विरोध नहीं किया गया असहिष्णुता पर बवाल मचाने वाले न जाने कहाँ मुहं दुबकाये हुए हैं वे भी शायद उन्ही महिलाओं के दामन में छुपे हैं जिनका वे विरोध करते हैं , हिन्दू धर्मगुरु द्वारा ऐसा बयान दे ने पर चैनल रोजाना किसी भी ऐसे मसले पर 5 -7लोगों को बैठा कर झकने वाले कहाँ चिप गए इस धर्म पर चर्चा करने से वे भी घबराते हैं , मनीष तिवारी,मायावती, लालू ,महिला नेता दिग्गी राजा भी शगयद् किसी दामन में छिपे हैं नहीं तो वे सबसे पहले बाहर निकल कर आते
    हमारे दोगले नेता समाज विखंडको को कोई भी बात अनुचित नहीं लग रही , इनकी मलामत ही की जा सकती है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *