लेखक परिचय

एल. आर गान्धी

एल. आर गान्धी

अर्से से पत्रकारिता से स्वतंत्र पत्रकार के रूप में जुड़ा रहा हूँ … हिंदी व् पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है । सरकारी सेवा से अवकाश के बाद अनेक वेबसाईट्स के लिए विभिन्न विषयों पर ब्लॉग लेखन … मुख्यत व्यंग ,राजनीतिक ,समाजिक , धार्मिक व् पौराणिक . बेबाक ! … जो है सो है … सत्य -तथ्य से इतर कुछ भी नहीं .... अंतर्मन की आवाज़ को निर्भीक अभिव्यक्ति सत्य पर निजी विचारों और पारम्परिक सामाजिक कुंठाओं के लिए कोई स्थान नहीं .... उस सुदूर आकाश में उड़ रहे … बाज़ … की मानिंद जो एक निश्चित ऊंचाई पर बिना पंख हिलाए … उस बुलंदी पर है …स्थितप्रज्ञ … उतिष्ठकौन्तेय

Posted On by &filed under आलोचना.


एल. आर. गाँधी

पूरे का पूरा बापू बिक गया और बापू के नाम पर सत्ता सुख भोग रहे ‘गांधियों ‘को पता भी नहीं चला ?….. बापू के एक कतरा खून की बोली ११,७०० ब्रिटिश पौंड अर्थात ९६०२२५.५५२ गाँधी छाप रुपैय्या लगाई गयी ! ब्रिटेन में बापू के चरखे और ऐनक के साथ साथ बापू के खून से सनी मिटटी युक्त घास की बोली लगाई गई .चरखा जो की चालू अवस्था में था ३९,७८० पौंड अर्थात ३२६४७६६.८७ रूपए का बिका जबकि ऐनक जिसे बापू ने १८९० में खरीदा था ,की बोली २६००० पौंड अर्थात २१३३८३४.५६ रूपए पर टूटी. खून की कीमत सबसे कम आंकी गयी…..महज़ ११,७०० पौंड . कहते हैं इसे एक शख्स पी पी नाम्बियार ने ३० जनवरी १९४८ को बापू के वध स्थल से इक्कठा कर ६४ वर्ष संजो कर रक्खा . बापू की धरोहर को किसी अज्ञात भारतीय ने खरीदा है. ज़ाहिर है वह कोई भारत सरकार का नुमानिन्दा या गाँधीवादी नहीं होगा. इससे पहले भी जब बापू की धरोहर की बोली लगी तो एक शराब के व्यापारी ने भारी भरकम बोली दे कर उन्हें खरीदा और बापू के मद्द निषेध के सिद्धांत इस नए गाँधी वादी का मुंह ताकते रह गए.

गाँधी के नाम पर सियासत करने वाले गाँधी परिवार ने तो इस घटना का नोटिस भी लेना मुनासिब नहीं समझा . खुछ सेकुलर बुद्धिजीवी चंद टी वी चेनलों पर अपना गला साफ़ करते ज़रूर देखे गए. टी वी एंकर भी खूब आक्रोश का दिखावा कर रहे थे , मगर गाँधी की विरासत पर काबिज़ गांधियों से प्रशन करने की हिम्मत वह भी न कर पाए. करे भी कैसे ? सरकार से विज्ञापन की सुपारी जो ले रखी है ! . राष्ट्रपिता की विरासत आम सामान की माफिक बिक रही है और अब तो बापू का खून भी एक बिकाऊ माल हो कर रह गया . सरकार का काम तो कानून बनाना है, सो बना दिया की कोई भी राष्ट्रपिता की विरासत को नहीं बेच सकता ! रही बात आदर्शों की ,उन्हें तो ये कभी के बेच-खा गए हैं.

अब तो बापू की मुस्कान युक्त ५००-१००० के नोट ही गांधीजी की विरासत हैं इन्हें खूब संभाल कर रखा है . जब देश की तिज़ोरिओं में ज़गह नहीं बची तो स्विस बैंको में पहुचा दिए … बापू बिकता है खरीदने वाला चाहिए !!!!!

3 Responses to “बापू बिकता है ..खरीदने वाला चाहिए.”

  1. rtyagi

    अति उत्तम कहा एल आर गांधीजी एवं बिपिनजी ने … यह बिलकुल सच है..

    Reply
  2. एल. आर गान्धी

    L R Gandhi

    बापू तो उस din ही बिक गए थे जब उन्होंने नेहरु की प्रियदर्शनी – इंदिराजी के फ़िरोज़ खान से निकाह को ढकने के लिए उन्हें अपना नाम दे कर फ़िरोज़ गाँधी और इंदिरा गाँधी बना दिया… नेताजी सुभाष को कांग्रेस प्रधान के पद से इस्तीफा देने को मजबूर किया .. पटेल के स्थान पर नेहरु को चुना जब की लगभग सभी राज्य पटेल के पक्ष में थे..पाक को ५५ करोड़ देने की जिद की और यही उनके वध का कारन भी बना.

    Reply
  3. Bipin Kumar Sinha

    बापू तो उसी दिन बिक गए जिस दिन उनके विचारों को हमने तिलांजलि दे दी. उनसे जुड़े भौतिक पदार्थों की क्या अहमियत है. उनका एक भी अजेंडा आजाद भारत में ईमानदारी से लागू नहीं किया गया. गाँधी तिथिबाह्य हो गए. हमें आजादी मिल गयी नेताओं को सत्ता सुख मिल गया. भाड़ में जाये गाँधी और उनका गांधीवाद. हिंदुस्तान पाखंडियों का देश बन कर रह गया है हर क्षेत्र में यह दृष्टि गोचर होता है
    बिपिन कुमार सिन्हा

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *