लेखक परिचय

विपिन किशोर सिन्हा

विपिन किशोर सिन्हा

जन्मस्थान - ग्राम-बाल बंगरा, पो.-महाराज गंज, जिला-सिवान,बिहार. वर्तमान पता - लेन नं. ८सी, प्लाट नं. ७८, महामनापुरी, वाराणसी. शिक्षा - बी.टेक इन मेकेनिकल इंजीनियरिंग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय. व्यवसाय - अधिशासी अभियन्ता, उ.प्र.पावर कारपोरेशन लि., वाराणसी. साहित्यिक कृतियां - कहो कौन्तेय, शेष कथित रामकथा, स्मृति, क्या खोया क्या पाया (सभी उपन्यास), फ़ैसला (कहानी संग्रह), राम ने सीता परित्याग कभी किया ही नहीं (शोध पत्र), संदर्भ, अमराई एवं अभिव्यक्ति (कविता संग्रह)

Posted On by &filed under साहित्‍य.


विपिन किशोर सिन्हा

श्रीकृष्ण को अच्छी तरह समझे बिना गीता तक नहीं पहुंचा जा सकता।

शरीर और आत्मा जैसी दो चीजें नहीं हैं। आत्मा का जो छोर दिखाई देता है, वह शरीर है और शरीर का जो छोर दिखाई नहीं पड़ता, वह आत्मा है। परमात्मा और संसार जैसी दो चीजें नहीं हैं। परमात्मा और प्रकृति जैसा द्वन्द्व नहीं है कहीं। परमात्मा का जो हिस्सा दृश्य हो गया है, वह प्रकृति है और जो अब भी अदृश्य है, वह परमात्मा है। कहीं भी ऐसी कोई जगह नहीं है, जहां प्रकृति समाप्त होती है और परमात्मा शुरु होता है। बस, प्रकृति ही लीन होते-होते परमात्मा बन जाती है और परमात्मा ही प्रकट होते-होते प्रकृति बन जाता है। अद्वैत का यही अर्थ है। इस अद्वैत की धारणा हमें स्पष्ट हो जाय, तो कृष्ण को समझा जा सकता है।

कृष्ण हैं एक बहती धारा, एक नदी, जो बरसात में सारे तटों को तोड़ देती है और गर्मी में सिमट जाती है। उसे तटों को डुबो लेने से न अहंकार होता है और सिमट जाने से न कोई क्षोभ। बुद्ध, महावीर, क्राइस्ट, मुहम्मद – सभी विशाल झील हैं। सबकी सीमाएं हैं, नियम हैं, मर्यादाएं हैं। कृष्ण असीम हैं। उन्हें किसी नियम में नहीं बांधा जा सकता, उनके लिए कोई मर्यादा निर्धारित नहीं की जा सकती। परमात्मा को भी बांधा जा सकता है क्या? कृष्ण सारे बंधनों को तोड़ते हैं। माया का बंधन, मोह का बंधन, अहंकार का बंधन, आसक्ति का बंधन, वचन का बंधन – कोई भी बंधन उन्हें स्वीकार नहीं। सारे बंधन अज्ञान और अहंकार जनित हैं। कृष्ण अकेले ही ऐसे पूर्ण व्यक्ति हैं जो धर्म की परम गहराइयों और ऊँचाइयों पर होकर भी गंभीर नहीं हैं, उदास नहीं हैं, रोते हुए नहीं हैं। साधारणतः सन्त का लक्षण ही गंभीर, उदास और रोता हुआ होना है। जिन्दगी से उदास, हारा हुआ, भागा हुआ। कृष्ण अकेले नाचते हुए व्यक्ति हैं – हँसते हुए, गाते हुए, बाँसुरी बजाते हुए। समस्त धर्मों ने जीवन के दो हिस्से कर रखे हैं – एक वह जो स्वीकार योग्य है और दूसरा वह जो इंकार योग्य है। अकेले कृष्ण ही समग्र जीवन को पूरा स्वीकार करते हैं। जीवन की समग्रता में स्वीकृति उनके व्यक्तित्व और जीवन में फलित हुई है। इसलिए इस देश ने बाकी अवतारों को अंशावतार कहा है और कृष्ण को कहा है – पूर्ण अवतार। जिसने कृष्ण को समझ लिया, वह मुक्त हो गया। निरहंकार, निर्लिप्त, अकर्ता और साक्षी भाव की अनुभूति के बिना क्या कोई कृष्ण को समझ सकता है?

श्रीकृष्ण ने गीता में अर्जुन से कहा था कि ऐसा समय न कभी था और न कभी होगा, जब तुम नहीं थे और मैं नहीं था। यह बात कृष्ण ने सिर्फ अर्जुन से नहीं कही थी। हर सजीव, हर स्त्री-पुरुष से कही थी और वह भी सदा के लिए। तत्त्व रूप से, विचार रूप से, आज भी प्रत्येक चराचर में वे विद्यमान हैं और उनके साथ विद्यमान है उनकी अमृत वाणी – गीता। महर्षि व्यास ने आज से पांच हजार वर्ष पूर्व ही गीता को मानव मात्र का धर्मशास्त्र घोषित किया थ। महाभारत के भीष्म पर्व में वे कहते हैं –

गीता सुगीता कर्त्तव्या किमन्यैः शास्त्रविस्तरैः।

या स्वयं पद्मनाभस्य मुखपद्माद्विनिः सृताः ॥

गीता भली प्रकार मनन करके हृदय में धारण करने योग्य है, जो पद्मनाभ भगवान के श्रीमुख निःसृत वाणी है, फिर अन्य शास्त्रों के संग्रह की क्या आवश्यकता?

गीता सार्वभौम है। धर्म के नाम पर प्रचलित विश्व के समस्त धर्मग्रंथओं में गीता का स्थान अद्वितीय है। यह स्वयं में धर्मशास्त्र ही नहीं, बल्कि अन्य धर्मग्रंथो में निहित सत्य का मानदण्ड भी है। गीता वह कसौटी है, जिसमें प्रत्येक धर्मग्रंथ में छिपा सत्य प्रकट हो जाता है, परस्पर विरोधी कथनों का समाधान निकल आता है। प्रत्येक धर्मग्रंथ में, संसार में जीने-खाने की कला और कर्मकाण्डों का बाहुल्य है। जीवन को आकर्षक बनाने के लिए उन्हें करने के या न करने के रोचक भयानक वर्णनों से धर्मग्रंथ भरे पड़े हैं। कर्मकाण्डों की इस परंपरा को जनता धर्म समझने लगी है। जीवन-निर्वाह की कला के लिए निर्मित पूजा पद्धतियों मे देश-काल और परिस्थिति के अनुसार विभिन्नता स्वाभाविक है। धर्म के नाम पर पूरे विश्व में कलह का यही एकमात्र कारण है। गीता इन क्षणिक व्यवस्थाओं से उपर उठकर आत्मिक पूर्णता में प्रतिष्ठित करने का क्रियात्मक अनुशीलन है। इसका एक भी श्लोक किसी कर्मकाण्ड या पूजा-पद्धति के विषय में नहीं है। तथाकथित धर्मग्रंथों की भांति यह किसी को जन्नत या जहन्नुम के द्वन्द्व में फंसाकर नहीं छोड़ता, बल्कि उस अमरत्व की उपलब्धि कराता है, जिसके पीछे जन्म-मृत्यु का बंधन रह ही नहीं जाता।

गीता में श्रीकृष्ण के संदेश के मर्म में जाकर आत्मसात करके तदनुसार आचरण करते हुए मनुष्य आध्यात्मिकता की पराकाष्ठा पर जा सकता है। लेकिन भगवान ने सामान्य जनों की जीवन-दृष्टि और व्यक्तित्व के विकास पर भी समाधान के साथ विस्तार से चर्चा की है। व्यक्तित्व के विकास में बुद्धि का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। जैसी श्रद्धा रहेगी, बुद्धि भी वैसी ही होगी। गीता कहती है –

श्रद्धामयोऽयं पुरुषो यो यच्छृद्धः स एव सः

अर्थात यह पुरुष श्रद्धामय है। जैसी उसकी श्रद्धा होती है, वैसा वह बन जाता है।

तत्परता एवं एकीकृत इन्द्रियों से ही उद्देश्य के प्रति समर्पण एवं समर्पण से श्रद्धा उत्पन्न होती है। श्रद्धा के गर्भ से बुद्धि तीक्ष्ण होती है और उत्तरोत्तर ज्ञान की वृद्धि होती है। भौतिक और आध्यात्मिक, दोनों प्रकार के विकास के लिए यही सूत्र काम आता है। एक विकसित व्यक्तित्व के २६ लक्षण गीता में बताए गए हैं। अभय, सत्त्व संशुद्धि (अन्तःकरण की निर्मलता), ज्ञान की प्राप्ति, भौतिक संपदा को दान करने की प्रवृत्ति, इन्द्रिय-संयम, स्वार्थरहित कर्म,, स्वाध्याय, श्रमसाध्य तप, सह्जता, सहअस्तित्व, सत्य, अक्रोध, त्याग शान्ति, दूसरों की निन्दा नहीं करना, प्राणियों के प्रति दया, निश्छल मन, तेज, क्षमाशीलता, लोभ नहीं करना, मधुरता, गलती करने पर संकोच, धैर्य, पवित्रता, द्वेष नहीं करना, निरहंकारिता, निष्ठा। ये समस्त गुण किसी एक धर्म से नहीं बंधे हैं। एक पूर्ण व्यक्ति के लिए उसके व्यक्तित्व में इन गुणों का होना आवश्यक माना गया है।

छद्म धर्मनिरपेक्षवादियों से प्रश्न है कि इनमें से कौन से गुण मानवता विरोधी और सांप्रदायिक हैं जिसके आधार पर वे गीता का विरोध कर रहे हैं।

क्रमशः

 

5 Responses to “श्रीमद्भगवद्गीता और छद्म धर्मनिरपेक्षवादी – चर्चा-२”

  1. B K Sinha

    यह सीरीज कुछ संतुलित किस्म का लगा . वैसे इसमें भी मिलावट का संदेह हे ओशो की एक किताब है -कृष्ण मेरी दृष्टि में .कुछ पाराग्राफ सीधे वही से टीप लिए गए है .वैसे यह कोई बुरी बात भी नहीं है जब किसी को अपना कोई कथन समझाना होता है तो दूसरे के विचारों का उपयोग भी गलत नहीं है
    हमारे देश में आत्मा की बात करने वाले बहुत लोग मिलते है उसमे पंडित पुरोहित और तथाकथित धार्मिक ठेकेदार सम्मिलित है मै उनसे पूछना चाहता हूँ कि उन्हें आत्मा के दर्शन हुए है या फिर उसका कोई अनुभव है तो बतलाइए कृष्ण ने जब गीता कही थी तो वह कृष्ण और अर्जुन के बीच एक सत्य का उदघाटन था उस समय वह आग थी आज किताबों मेसिमत जाने से वह शास्त्र हो गई और शास्त्र क्या है वह राख़ के सिवा कुछ नहीं .शास्त्र जीवंत तभी होते है जब उसका पुनर-उदघाटन किया जाए और जब तक ऐसा नहीं होता सरे शास्त्र चाहे वह गीता हो कुरान हो या बाइबिल. इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता कि वह कितनी पुरानी है धर्म तो सदा जीवंत है उसकी तुलना नदी से की जा सकती है जो सदैव जीवंत होती है एक पल के भी लिए भी पुरानी नहीं होती.हेराक्लितास ने खा था कि तुम एक ही नदी में दुबारा पैर नहीं रख़ सकते
    क्यों कि दुबारा जब भी पैर डालोगे तो वह वही नदी नहीं होगी वह पुरानी नदी तो आगे बढ़ गई है .ओशो तो उससे भी आगे ये बात कहते है कि तुम एक बार भी नदी में पैर नहीं डाल
    सकते क्यों कि ज्यों ही तुम्हारा पैर पानी क़ी सतह से नीचे गया तब तक ऊपर क़ी सतह का पानी आगे बढ़ गया फिर वह नदी बदल चुकी होती है इसी प्रकार धर्म को भी इसी न्याय से समझना चाहिए हम अपने को धार्मिक समझते है पर धार्मिकता पर जोर नहीं है जीवन में बस शास्त्र रटे जा रहे है कि फलां शास्त्र में ये लिखा है वो लिखा है आचरण पर जोर देते है धार्मिकता पर नहीं एक अछे आचरण वाला व्यक्ति अधार्मिक हो सकता है पर एक धार्मिकता से युक्ता व्यक्ति बुरे आचरण का नहीं हो सकता धार्मिकता हमारा स्वाभाव है यहाँ मेरा मतलब तथाकथित हिन्दू या मुस्लिम या फिर ईसाई धरम से नहीं है धर्म वही है जिसे वेदों में रित खा गया है जिसे ताओ नाम से भी अभिव्यक्त किया गया है वही हमारा स्वाभाव है वही धार्मिकता भी है
    बिपिन कुमार सिन्हा

    Reply
    • विपिन किशोर सिन्हा

      मेरा नाम विपिन किशोर सिन्हा है और आपका बिपिन कुमार सिन्हा. नाम में मिडिल नेम में ही थोड़ी भिन्नता है। आपके और मेरे विचारों में भिन्नता कुछ ज्यादा है। लेकिन मुझे प्रसन्नता है कि इसके बावजूद भी आप मेरे लेख पढ़ते हैं और बेबाक टिप्पणी भी लिखते हैं। गीता पर जितने भी भाष्य उपलब्ध हैं, उन सबमें आचार्य रजनीश द्वारा रचित गीता दर्शन, मेरी दृष्टि में सर्वोत्तम है। आप एक बार धैर्यपूर्वक उस पुस्तक को पढ़ लें। आत्मा-परमात्मा के विषय में आपको अपने सारे पश्नों के उत्तर मिल जाएंगे, यदि आप पुर्वाग्रह से मुक्त हैं तो। आप ने मेरे उपर ओशो की पुस्तक से कुछ पंक्तियां टीपने का आरोप लगाया है। कुछ जल्दीबाजी कर दी है आपने। गीता पर मेरे लेख का ७वां और अन्तिम भाग आपने पढ़ा होता तो शायद ऐसी टिप्पणी नहीं करते। मैंने ओशो (आचार्य रजनीश) ही नहीं और भी अनेक विद्वानों के विचारों और पुस्तकों का सहारा लिया है। बिना अच्छे गुरु के गीता नहीं समझी जा सकती। मेरा गुरु ये पुस्तकें ही हैं। मैंने समापन किश्त में उन सारी पुस्तकों और लेखकों का नाम आभार सहित दिया है। उसमें ओशो द्वारा लिखित पुस्तक कृष्ण-स्मृति का भी उल्लेख है। पूरी लेख-शृंखला में मेरे विचार कम और अन्य विद्वानों के विचार अधिक हैं। राष्ट्रवादी बेईमानी नहीं करता। वह अपनी बात साफ-साफ कहता है। टिप्पणी के लिए धन्यवाद।

      Reply
  2. दिवस दिनेश गौड़

    Er. Diwas Dinesh Gaur

    “श्री कृष्ण असीम हैं। उन्हें किसी नियम में नहीं बांधा जा सकता, उनके लिए कोई मर्यादा निर्धारित नहीं की जा सकती। परमात्मा को भी बांधा जा सकता है क्या? कृष्ण सारे बंधनों को तोड़ते हैं। माया का बंधन, मोह का बंधन, अहंकार का बंधन, आसक्ति का बंधन, वचन का बंधन – कोई भी बंधन उन्हें स्वीकार नहीं। सारे बंधन अज्ञान और अहंकार जनित हैं। कृष्ण अकेले ही ऐसे पूर्ण व्यक्ति हैं जो धर्म की परम गहराइयों और ऊँचाइयों पर होकर भी गंभीर नहीं हैं, उदास नहीं हैं, रोते हुए नहीं हैं। साधारणतः सन्त का लक्षण ही गंभीर, उदास और रोता हुआ होना है। जिन्दगी से उदास, हारा हुआ, भागा हुआ। कृष्ण अकेले नाचते हुए व्यक्ति हैं – हँसते हुए, गाते हुए, बाँसुरी बजाते हुए। समस्त धर्मों ने जीवन के दो हिस्से कर रखे हैं – एक वह जो स्वीकार योग्य है और दूसरा वह जो इंकार योग्य है। अकेले कृष्ण ही समग्र जीवन को पूरा स्वीकार करते हैं। जीवन की समग्रता में स्वीकृति उनके व्यक्तित्व और जीवन में फलित हुई है|”

    आदरणीय सिन्हा जी, बहुत सुन्दर वचन…श्री कृष्ण को पढना बहुत सुखदायी लग रहा है| आने वाले भागों की प्रतीक्षा रहेगी…
    आभार…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *