लेखक परिचय

डा. राधेश्याम द्विवेदी

डा. राधेश्याम द्विवेदी

Library & Information Officer A.S.I. Agra

Posted On by &filed under राजनीति.


?

?

डा. राधेश्याम द्विवेदी
उत्तर प्रदेश के बस्ती जिला के तेलियाजोत (कटया) निवासी श्री हरीश द्विवेदी का जन्म 22 अक्टूबर 1973 को एक मध्यम वर्गीय ब्राह्मण परिवार में हुआ है। उनके पिता श्री साधुशरण दुबे जनता इंटर कालेज में शिक्षक रहे है। 1991 से 1994 तक वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला प्रमुख रहे है। वह 1996 तक प्रदेश सहमंत्री रहे है। बाद में वह अभाविप के विभाग संगठन मंत्री बने।1999 से 2003 तक प्रयाग में संभाग संगठन मंत्री रहे है । 2004 से 2007 तक भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशरीनाथ त्रिपाठी के राजनीतिक सलाहकार रहे है। इस दौरान वह 2005 से 2007 तक भाजयुमो के प्रदेश महामंत्री भी रहे। 2007 से 2010 तक भाजयुमो के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे। वह 2010 से 2013 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश इकाई के भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष का दायित्व संभाला। उन्होंने भाजयुमो द्वारा सक्रिय रूप से तिरंगे यात्रा में भाग लिया था अनुराग ठाकुर और उन्हें अन्य वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ पठानकोट में हिरासत में लिया गया था । 2012 के विधानसभा चुनाव में उन्हें बस्ती सदर विधान सभा क्षेत्र से टिकट मिला। 2013 से अब तक वह भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य के रूप में काम कर रहे हैं। 15 मार्च की देर रात लोकसभा प्रत्याशी के रूप में उनके नाम की घोषणा की गई।श्री हरीश द्विवेदी 43 वर्ष में सांसद का चुनाव लड़ा था। उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के एक सदस्य के रूप में श्री हरीश द्विवेदी जुझारू तेवर के चलते भारत की सोलहवीं लोकसभा के सांसद हैं। 2014 के चुनावों में वे उत्तर प्रदेश की बस्ती सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़कर निर्वाचित हुए।लोकसभा क्षेत्र बस्ती से भाजपा प्रत्याशी के रूप में घोषित हरीश द्विवेदी के जुझारू तेवर ही उनको हर किसी से अलग करते हैं। आरएसएस की शाखा में 1990-91 में मुख्य शिक्षक के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन करने वाले हरीश ने उसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षा दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय से की है। वह 16 मई 2014 से संसद सदस्य का दायित्व संभाल रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में अमोढ़ा ग्राम पंचायत संसद आदर्श ग्राम योजना में चयन हुआ है। एक ही छतरी के नीचे सभी राजनीतिक दलों के संसद सदस्य, गांवों में विकासशील शारीरिक और संस्थागत बुनियादी ढांचे की जिम्मेदारी ले रही है और उन्हें आदर्श गांवों में बारी करने के लिए शुरू की है। इस योजना के तहत संसद के प्रत्येक सदस्य अपने गांव या उनके ससुराल गांव छोड़कर विधानसभा क्षेत्र से एक गांव प्रत्येक चयन करने के लिए , प्रतिनिधित्व करते हैं, और मानकों को ठीक करने और 2016 तक यह एक आदर्श गांव बनाने की जरूरत है। संसद आदर्श ग्राम अमोढ़ा खास 2016 तक आदर्श गांव होगा।
लोकसभा में आगजनी का मुद्दा उठा:-
संसद में भीषण गर्मी से उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में लग रही आग का मुद्दा उठा। शून्यकाल में यह मुद्दा उठाते हुए बस्ती के सांसद हरीश द्विवेदी ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में आग बुझाने की पर्याप्त व्यवस्था न होने से हर दिन करोड़ों रुपये का नुकसान हो रहा है। उन्होंने सांसद निधि से आग बुझाने के उपकरण खरीदने की अनुमति देने की मांग की, जिसका समर्थन सदन में कांग्रेस दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी किया। सदन में मौजूद मुलायम सिंह यादव ने भरोसा दिया कि राज्य की सपा सरकार इस संबंध में हर संभव मदद के लिए तैयार है। श्री द्विवेदी का कहना था कि सिद्धार्थनगर, संत कबीर नगर, फैजाबाद और गोरखपुर समेत राज्य के ग्रामीण इलाकों में भीषण गर्मी के कारण हर दिन आगजनी की घटनाएं हो रही हैं। इनमें गरीब परिवारों की संपत्ति और पशुधन का नुकसान हो रहा है। उनके अनुसार, जिला प्रशासन आग बुझाने के उपकरणों के न होने से मदद में असमर्थता जता रहा है। सांसद निधि से उपकरण खरीदने की पेशकश को भी यह कहते हुए ठुकरा दिया कि इसके देखरेख का खर्च कहां से वहन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सांसद निधि से आग से निपटने के उपकरणों के खरीद और रखरखाव के लिए खर्च की अनुमति दी जाए। सदन में मौजूद सपा प्रमुख मुलायम सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार सूखे और ओलावृष्टि से हुए नुकसान का मुआवजा किसानों को दे रही है। जरूरत पड़ने पर राज्य सरकार हरसंभव सहायता करने के लिए तैयार है।
भाजपा कार्यकर्ताओं ने ऊर्जा दिवस मनाया:-
केंद्र की भाजपा सरकार के दो साल पूरा होने के उपलक्ष्य में मनाए जा रहे विकास पर्व अभियान का तीसरा दिन ऊर्जा दिवस के रूप में समारोह पूर्वक मनाया गया ।इसी क्रम में 25.05.2016 को हर्रैया विधानसभा में सांसद श्री हरीश द्विवेदी ने बिछिया, रामपुर, गोडियाजोत, मुरादीपुर आदि स्थानों पर ऊर्जा दिवस के कार्यक्रम को संबोधित किया। सांसद ने कहा कि लोगों की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार निरंतर प्रयत्नशील है। दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत तीन साल में हर घर को विद्युत ऊर्जा से आच्छादित करने का लक्ष्य मोदी सरकार ने रखा है। उन्होंने कहा कि विद्युत ऊर्जा के विकल्प के रूप में सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा तथा परमाणु ऊर्जा के माध्यम से लोगों की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई महत्वाकांक्षी फैसले लिए हैं । पूर्व जिलाध्यक्ष दयाशंकर मिश्र ने कहा कि ऊर्जा हमारे जीवन का आधार है ऐसे में हमें ऊर्जा संरक्षण की दिशा में हर संभव प्रयास करना चाहिए। भाजपा नेता देवेन्द्र सिंह ने कहा कि हमारे देश में ऊर्जा संसाधनों का प्रचुर भण्डार है इसको जन जन तक पहुंचाने की आवश्यकता है।
दो वर्ष पूरा होने का व्यौरा:-
26.05.2016 को सांसद श्री हरीश द्विवेदी ने संसदीय क्षेत्र में किये गये विकास कार्यों का व्यौरा देते हुये कार्यक्रम को संबोधित किया। केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ‘सबका साथ सबका विकास’ के संकल्पों के तहत जनता के विश्वास पर खरा उतर रही है। बस्ती संसदीय क्षेत्र में जनता से सीधा संवाद बनाने के साथ ही विकास के नये विश्वसनीय चरण की शुरूआत हुई है। यह विचार सांसद हरीश द्विवेदी ने व्यक्त किया। वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार के दो वर्ष पूरा होने पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। संसदीय क्षेत्र में किये गये विकास कार्यों का व्यौरा देते हुये बताया कि दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के तहत 4200 गांवों और पुरवों का विद्युतीकरण तेजी से कराया जा रहा है। बस्ती, नगर, बभनान और हर्रैया नगर में विद्य़ुत व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिये आई.पी.डी.एस. योजना के तहत 26 करोड के धन की स्वीकृति की गई है जिससे किसी हर गांव, घर तक रोशनी हो। वाल्टरगंज चीनी मिल को चलाने के लिये प्रबंधतंत्र तैयार नहीं था किन्तु निरन्तर प्रयास से सफलता मिली और किसानों को गन्ना मूल्य भुगतान दिलाने की दिशा में प्रयास जारी है। बताया कि केन्द्र सरकार ने प्रदेश की सपा सरकार को आपदा राहत वितरण के लिये पर्याप्त धनराशि उपलब्ध कराया किन्तु प्रदेश सरकार अभी तक उसका वितरण सुनिश्चित नहीं करा सकी है, यह स्थिति चिन्ताजनक और दुर्भाग्यपूर्ण है। श्री हरीश द्विवेदी ने कहा कि प्रदेश की सपा सरकार चाहती ही नहीं कि विकास कार्य में तेजी आये, उसके अनेक मंत्री, जन प्रतिनिधि केवल धन जुटाने की होड़ में है और केन्द्र सरकार के कल्याणकारी योजनाओं के धन का खुला बंदरबाट किया जा रहा है। कहा कि यदि योजनाओं का धन पात्रों तक पहुंचा होता तो विकास की गति और तेज होती।
उन्होंने कहा कि दो वर्ष का समय बहुत लम्बा नहीं होता, अनेक बड़ी योजनाओं की नींव रखी जा चुकी है और वे शीघ्र आकार लेंगी। मेरा प्रयास रहा है कि जनता से सीधा संवाद बना रहे और जनता के सुझावों को प्राथमिकता दी जा रही है। निश्चित रूप से बस्ती का तेजी के साथ विकास हो रहा है और बस्ती में मेडिकल कालेज, इंजीनियरिग कालेज खुलने के साथ ही गोरखपुर में एम्स की स्थापना हो जाने पर क्षेत्र के नागरिकों के सुविधाओं में काफी बृद्धि होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *