जलवायु परिवर्तन ने अत्यधिक वर्षा की संभावना को 9 गुना तक बढ़ा दिया है – अध्ययन

0
304

जलवायु वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा एक रैपिड एट्रिब्यूशन अध्ययन में पाया गया है कि जलवायु परिवर्तन ने अत्यधिक वर्षा की घटनाओं की संभावना को 1.2 से 9 गुना अधिक बढ़ा दिया है। हाल ही में जर्मनी, बेल्जियम और पड़ोसी देशों में पिछले महीने आयी विनाशकारी बाढ़ इसी का नतीजा है। रैपिड एट्रिब्यूशन अध्ययन में यह भी पाया गया कि इस क्षेत्र में इस तरह की वर्षा अब मानव जनित वार्मिंग के कारण 3-19% ज़्यादा भारी है।

12-15 जुलाई के दौरान पश्चिमी यूरोप के कुछ हिस्सों में अत्यधिक वर्षा हुई, जर्मनी में अहर और एरफ़्ट नदियों के आसपास एक ही दिन में 90mm से अधिक जो पिछले रिकॉर्ड की तुलना में कहीं अधिक है। बेल्जियम और जर्मनी में बाढ़ से कम से कम 220 लोगों की मौत हो गई।

अपनी प्रतिक्रिया देते हुए न्यूकैसल विश्वविद्यालय में जलवायु परिवर्तन प्रभावों के प्रोफेसर, हेली फाउलर, ने कहा, “हमारे अत्याधुनिक जलवायु मॉडल भविष्य की और ज़्यादा गर्म दुनिया में धीमी गति से चलने वाली अत्यधिक वर्षा की घटनाओं में वृद्धि का संकेत देते हैं। यह घटना स्पष्ट रूप से दिखाती है कि कैसे समाज वर्तमान मौसम की चरम सीमाओं के प्रति लचीला नहीं है। हमें जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करना चाहिए, साथ ही आपातकालीन चेतावनी और प्रबंधन प्रणालियों में सुधार करना चाहिए और अपने बुनियादी ढांचे को क्लाइमेट रेसिलिएंट बनाना चाहिए – हताहतों की संख्या और लागत को कम करने और उन्हें इन चरम बाढ़ की घटनाओं का सामना करने में सक्षम बनाने के लिए।”

जलवायु वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम के अनुसार जर्मनी, बेल्जियम, नीदरलैंड और लक्जमबर्ग में पिछले महीने जिस वजह से बाढ़ आयी थी, जलवायु परिवर्तन ने अत्यधिक वर्षा की घटनाओं को उन घटनाओं के समान बना दिया है और इनकी 1.2 से 9 गुना अधिक होने की संभावना है। अध्ययन में यह भी पाया गया कि मानव जनित वार्मिंग के कारण इस क्षेत्र में इस तरह की वर्षा अब 3-19% ज़्यादा भारी है।
आगे, डॉ. फ्रैंक क्रिएनकैंप, क्षेत्रीय जलवायु कार्यालय पॉट्सडैम के प्रमुख, ड्यूशर वेटरडाइनस्ट [जर्मन मौसम सेवा] ने कहा, “यह घटना एक बार फिर प्रदर्शित करती है कि अब तक देखे गई रिकॉर्ड को क़तई तोड़ने वाली चरम सीमाएं, जो जलवायु परिवर्तन से बदतर होती हैं, कहीं भी हावी हो सकती है, भारी नुकसान पहुंचा सकती है और घातक हो सकती है। पश्चिमी यूरोप के स्थानीय और राष्ट्रीय अधिकारियों को संभावित भविष्य की घटनाओं के लिए बेहतर तरीक़े से तैयार होने के लिए अत्यधिक वर्षा से बढ़ते जोखिमों के बारे में पता होना चाहिए। नतीजे इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (IPCC) की इस महीने की प्रमुख रिपोर्ट के निष्कर्षों को पुष्ट करते हैं, जिनमें कहा गया है कि अब इस बात का स्पष्ट सबूत हैं कि ग्रह की जलवायु को मनुष्य गर्म कर रहे हैं और मानव-जनित जलवायु परिवर्तन चरम मौसम में बदलाव का मुख्य चालक है। रिपोर्ट में पाया गया कि, जैसे-जैसे तापमान बढ़ेगा, पश्चिमी और मध्य यूरोप में अत्यधिक वर्षा और बाढ़ बढ़ेगी।
12-15 जुलाई के दौरान पश्चिमी यूरोप के कुछ हिस्सों में अत्यधिक वर्षा हुई, उदाहरण के लिए, जर्मनी में अहर और एरफ़्ट नदियों के आसपास एक ही दिन में 90mm से अधिक वर्षा गिरी, जो पिछले रिकॉर्ड की तुलना में कहीं अधिक है। परिणामस्वरूप बाढ़ों ने बेल्जियम और जर्मनी में कम से कम 220 लोगों की जान ले ली।
IPCC रिपोर्ट के कुछ प्रमुख निष्कर्षों को रेखांकित करने वाले सहकर्मी-समीक्षा विधियों के बाद, बाढ़ का कारण बनने वाली तीव्र वर्षा पर जलवायु परिवर्तन की भूमिका की गणना करने के लिए, वैज्ञानिकों ने जैसा जलवायु आज है उस की तुलना, 1800 के दशक से लगभग 1.2°C ग्लोबल वार्मिंग (वैश्विक तापमान में वृद्धि) के बाद, अतीत की जलवायु के साथ करने के लिए मौसम के रिकॉर्ड और कंप्यूटर सिमुलेशन का विश्लेषण किया।
प्रो. मार्टीन वैन आल्स्ट, निदेशक, रेड क्रॉस रेड क्रिसेंट क्लाइमेट सेंटर और प्रोफेसर क्लाइमेट एंड डिज़ास्टर रेज़िलिएंन, यूनिवर्सिटी ऑफ ट्वेंटी ने कहा कि “इन बाढ़ों की भारी मानवीय और आर्थिक लागत एक स्पष्ट अनुस्मारक है कि दुनिया भर के देशों को अधिक चरम मौसम की घटनाओं के लिए तैयार होने की आवश्यकता है, और इस तरह के जोखिमों को और भी क़ाबू से बाहर होने से बचने के लिए हमें तत्काल ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने की आवश्यकता है।”
अध्ययन में विशेष रूप से प्रभावित दो क्षेत्रों में बाढ़ का कारण बनने वाली अत्यधिक वर्षा पर ध्यान केंद्रित किया गया: जर्मनी का अहर और एरफ़्ट क्षेत्र, जहां, औसतन, एक दिन में 93 mm बारिश एक दिन में गिरी, और बेल्जियम मीयूज क्षेत्र, जहां दो दिनों में 106mm बारिश गिरी। वैज्ञानिकों ने नदी के स्तर के बजाय वर्षा का विश्लेषण किया किसी हद तक इस वजह से कि कुछ माप स्टेशन बाढ़ से नष्ट हो गए थे।
वैज्ञानिकों ने इन स्थानीय वर्षा पैटर्नों में साल-दर-साल बड़ी मात्रा में परिवर्तनशीलता पाई, इसलिए जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का मूल्यांकन करने के लिए, वैज्ञानिकों ने एक व्यापक क्षेत्र के आंकड़ों को देखा। उन्होंने विश्लेषण किया कि पूर्वी फ्रांस, पश्चिमी जर्मनी, पूर्वी बेल्जियम, नीदरलैंड, लक्जमबर्ग और उत्तरी स्विट्जरलैंड सहित पश्चिमी यूरोप के एक बड़े क्षेत्र में कहीं भी इसी तरह की अत्यधिक वर्षा होने की कितनी संभावना है, और यह कैसे ग्लोबल वार्मिंग से प्रभावित हुआ है।
इस बड़े क्षेत्र के लिए, वैज्ञानिकों ने पाया कि मानव-जनित जलवायु परिवर्तन ने एक दिन में गिरने वाली बारिश की मात्रा में 3-19% की वृद्धि की। जलवायु परिवर्तन ने भारी वर्षा की घटनाओं को उन घटनाओं के समान भी बना दिया है जो बाढ़ को 1.2 और 9 के बीच के कारक से होने की अधिक संभावना रखते हैं।
वर्तमान जलवायु में, लगभग हर 400 वर्षों में एक बार इसी तरह की घटनाओं से पश्चिमी यूरोप के किसी भी विशेष क्षेत्र के प्रभावित होने की अपेक्षा की जा सकती है, जिसका मतलब है कि इस तरह की कई घटनाएं उस समय-सीमा में व्यापक क्षेत्र में होने की संभावना है। आगे और ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन और निरंतर तापमान में वृद्धि के साथ ऐसी भारी वर्षा अधिक सामान्य हो जाएगी।
अध्ययन वर्ल्ड वेदर एट्रिब्यूशन ग्रुप (विश्व मौसम एट्रिब्यूशन समूह) के हिस्से के रूप में 39 शोधकर्ताओं द्वारा आयोजित किया गया था, जिसमें बेल्जियम, फ्रांस, जर्मनी, लक्ज़मबर्ग, नीदरलैंड, अमेरिका और यूके में विश्वविद्यालयों और मौसम विज्ञान और जल विज्ञान एजेंसियों के वैज्ञानिक शामिल थे।
इसी क्रम में डॉ सारा क्यू , जलवायु शोधकर्ता, रॉयल डच मौसम विज्ञान संस्थान (KNMI) ने कहा, “जबकि हम सहकर्मी-समीक्षित एट्रिब्यूशन विधियों का उपयोग करते हैं, यह पहली बार है जब हमने उन्हें गर्मियों में अत्यधिक वर्षा का विश्लेषण करने के लिए लागू किया है जहां कन्वेक्शन (संवहन) एक भूमिका निभाता है, जिसमें कन्वेक्शन अनुमति मॉडल के उपयोग की आवश्यकता होती है। इस तरह के विश्लेषण अधिक और लंबे कन्वेक्शन अनुमति मॉडल सिमुलेशन की उपलब्धता के साथ और आम और नियमित हो जायेंगे।”
डॉ फ्रेडरिक ओटो, एसोसिएट निदेशक पर्यावरण परिवर्तन संस्थान, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय। के अनुसार, “इन बाढ़ों ने हमें दिखाया है कि विकसित देश भी उन चरम मौसम के उन गंभीर प्रभावों से सुरक्षित नहीं हैं जिन्हें हमने देखा है और जो हम जानते है कि जलवायु परिवर्तन के साथ बदतर होते हैं। यह एक गंभीर वैश्विक चुनौती है और हमें इस पर कदम बढ़ाने की जरूरत है। विज्ञान स्पष्ट है और वर्षों से स्पष्ट रहा है।”
डॉ सोजूकी फिलिप, जलवायु शोधकर्ता, रॉयल डच मौसम विज्ञान संस्थान (KNMI) का कहना है कि, “हमने पिछले महीने की भयानक बाढ़ पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को समझने के लिए, और यह स्पष्ट करने के लिए कि हम इस घटना में क्या विश्लेषण कर सकते हैं और क्या नहीं कर सकते हैं, अध्ययन के कई क्षेत्रों के विशेषज्ञों के ज्ञान को जोड़ा। बहुत स्थानीय स्तर पर, भारी वर्षा पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का विश्लेषण करना मुश्किल है, लेकिन हम यह दिखाने में सक्षम थे कि, पश्चिमी यूरोप में, ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन ने इस तरह की घटनाओं को और अधिक संभावित बना दिया है।”
वर्ल्ड वेदर एट्रिब्यूशन (WWA) -वर्ल्ड वेदर एट्रिब्यूशन (WWA) एक अंतरराष्ट्रीय सहयोग है जो चरम मौसम की घटनाओं, जैसे तूफान, अत्यधिक वर्षा, हीटवेव, ठंड के दौर और सूखे पर जलवायु परिवर्तन के संभावित प्रभाव का विश्लेषण और संचार करता है। 400 से अधिक अध्ययनों ने जांच की है कि क्या जलवायु परिवर्तन ने विशेष मौसम की घटनाओं को और अधिक संभावना बनाया। उसी समूह द्वारा किए गए एक अध्ययन ने आज के विश्लेषण में पाया कि जलवायु परिवर्तन ने साइबेरिया में पिछले साल की हीटवेव और 2019/20 ऑस्ट्रेलिया की जंगल की आग लगने की संभावना को बढ़ाया, और यह कि उत्तरी अमेरिका में हालिया हीटवेव जलवायु परिवर्तन के बिना लगभग असंभव होती। यह भी हाल ही में पाया गया कि ठंढ के बाद फ्रांसीसी अंगूर की फसल के नुकसान की संभावना जलवायु परिवर्तन से अधिक हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

* Copy This Password *

* Type Or Paste Password Here *

15,450 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress