ग़ज़ल-जावेद उस्मानी

1
158

संस्कृति धरोहर की सारी पूंजी लूटाएंगे
बनारस को अपने अब हम क्योटो बनाएंगे
गंगा को बचाने भी को विदेशी को लाएंगे
अपने देशवासियों को ये करिश्मा दिखाएंगे
नीलामी में है गोशा गोशा वतन का
जर्रा जर्रा बिकने को रखा है तैयार चमन का
हुकूमत में आते ही मिजाज़ ऐसे बदल गए
स्वदेशी के नारे वाले भी विदेशी सांचे में ढल गए
सारे जहां में घूम घूम रोते है अपने हाल को
खुद ही फंसे है फंद में काटेंगे क्या उस जाल को
‘‘अहम् अहमामि’’ बस न लोक है न तंत्र है
विकास का न जाने कैसा अनोखा ये मन्त्र है
डूबे हुए है कर्ज में , जमीं पे है न बाम पर
पहले क़र्ज़ के नाम पे अब हैं फ़र्ज़ के नाम पर
जबसे पैसा वाले हमारे मालिकान हो गए
अपने ही घर में खुद हम मेहमान हो गए

1 COMMENT

  1. वैसे इतने मुसलमानों को हज के लिए सिब्सिडी देते देते भारत की हालत ख़राब हो गई है | विदेश से सहयोग लेना पड रहा है | सही है इस्लाम के पञ्च मार्गी जागरूक हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here