लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under राजनीति.


अजमेर दरगाह विस्फोट मामले में राजस्थान के गृहमंत्री शांति धारीवाल को संघ के प्रचारक इन्द्रेश कुमार ने कानूनी नोटिस देकर अनर्गल बयानबाजी पर कोर्ट में घसीटने की चेतावनी दी है। राजस्थान पत्रिका के अनुसार, छह पेज के नोटिस में कहा गया है कि धारीवाल द्वारा दिया गया बयान जांच को प्रभावित करने तथा राजनीतिक हित साधने की नीयत को दर्शाता है। इन्द्रेश के वकील सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अमन लेखी ने पत्रिका से बातचीत में कहा कि मंत्री संवैधानिक मर्यादा से बंधे होते हैं। वह ऐसी कोई भी बात नहीं कर सकते जिससे कानून व्यवस्था बिगड़ने के साथ किसी की गरिमा को ठेस पहुंचे। लेखी ने कहा कि धारीवाल ने इन्द्रेश कुमार पर जो भी आरोप लगाए, वे न चार्जशीट से मेल खाते हैं और न ही उनका कोई दस्तावेजी साक्ष्य है। नोटिस में धारीवाल को आगाह किया गया है कि वे अनर्गल बयानबाजी से बाज आएं अन्यथा हाईकोर्ट में पुनर्याचिका दायर करने सहित उनके खिलाफ दूसरे कानूनी कदम उठाए जा सकते हैं।
यह समाचार इस बात का द्योतक है कि अब संघ के कार्यकर्ता भी वीर सावरकर द्वारा बताए गए मंत्र शठे शाठयाम समाचरेत के अनुसार कांग्रेसी कुचालों से निपटने के लिए कमर कसने लगे है। भारत के कोटिधिक हिन्दु समाज को उनसे ऐसी ही आशा थी। कांग्रेस के सिपहसालारों जिनमें मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी (उर्फ रॉल घान्दी), राजस्थान के गृहमंत्री शांति धारीवाल आदि ने तो संघ को बदनाम करने के लिए अनर्गल और निराधार बयानों की झड़ी लगा दी थी आशा है कि न्यायिक प्रक्रिया अगर प्रारंभ होती है तो ऐसे बयानों पर अंकुश लगेगा।
हाल की कुछ घटनाएं इस ओर संकेत करती हैं कि हिंदू आतंकवाद के रूप में भय का भूत खड़ा किया जा रहा है। यह आपित्तजनक है कि पहले हिंदू आतंकवाद का हौवा खड़ा किया गया और फिर उसे भगवा आतंकवाद के रूप में रेखाकित किया गया। इसके बाद अजमेर बम धमाके को लेकर जिस तरह संघ के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार को कठघरे में खड़ा करने की असफल कोशिश की गई उससे यह आशका सत्य साबित हो गई कि संघ को बदनाम करने की कोशिश हो रही है। यह सामान्य सी जिज्ञासा सारे देश को है कि बगैर किसी सबूत के किसी का नाम आरोपपत्र में क्यों दर्ज किया गया?
यदि राजस्थान पुलिस को इस बारे में कोई शका है कि अजमेर बम ब्लास्ट में उनका हाथ था तो फिर पूरी जाचपड़ताल क्यों नहीं की गई? आखिर ऐसी क्या जल्दी थी कि जाचपड़ताल हुए बगैर उनका नाम आरोपपत्र में दर्ज कर दिया गया? यह एक ऐसा मामला है जिससे आम जनता इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए विवश है कि इंद्रेश कुमार और उनके बहाने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। यह भी कम विचित्र नहीं कि इंद्रेश कुमार का नाम आरोपपत्र में शामिल करने के एक माह बाद भी राजस्थान पुलिस कुछ स्पष्ट करने की स्थिति में क्यों नहीं है? यह भी समझ से परे है कि राजस्थान पुलिस की कार्रवाई को वहा की सरकार और साथ ही काग्रेस पार्टी किस आधार पर उचित करार दे रही है?
यह संभवतः अपने किस्म का पहला मामला है जिसमें एक आधेअधूरे आरोपपत्र के आधार पर न केवल संबंधित व्यक्ति, बल्कि एक पूरे संगठन को कठघरे में खड़ा किए जाने का प्रयास किया गया। विडंबना यह है कि इसी को पंथनिरपेक्ष राजनीति के प्रमाण के रूप में पेश करने की कोशिश की जा रही है। यह कहना बिल्कुल सही है कि प्रत्येक हिंदू इस संगठन का सदस्य नहीं, लेकिन इसके बावजूद काग्रेस एवं अन्य कथित पंथनिरपेक्ष राजनीतिक दल हिंदू आतंकवाद का जुमला उछालने में लगे हुए हैं। इस संदर्भ में इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती कि जिन गुमनाम से हिंदू संगठनों के कुछ लोगों को आतंकी गतिविधयों में लिप्त होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है उनमें से किसी के भी खिलाफ लगे आरोप सिद्ध नहीं हो सके हैं।

4 Responses to “इंद्रेशजी ने भेजा शांति धारीवाल को नोटिस : देरी से उठाया गया एक सही कदम”

  1. om prakash shukla

    सोनिया गाँधी और उनकी कांग्रेस को इन्द्रेश जी से सबक लेना चजिए अगेर सुदर्शन जी ने कुछ अनर्गल कहा तो तो इसे न्यायलय में जाना चझिए न की गुंडागर्दी इससे तो यही लगता है कि चोर की दाढ़ी में तिनका.मेरा मतलब यह बिलकुल नहीं है कि सुदर्शन जी की सभी बाते सही है लेकिन चुत्भयो से जो कांग्रेस के बड़े नेताओ ने भड़का केर कराया वह निहायत भद्दा और अश्लील था और लग रहा था जज़िसे किसी नेद रंगे हाथ पकड़ लिया हो.और सबका सब कुछ बेपर्दा हो गया हो.कुल मिला केर एक राष्ट्रिय दल की घ्रिदित प्रतिक्रिया थी जो लोगो को बिलावजह की सोनिया गाँधी के बारे में जो नहीं लानत उसे भी इन शुभचिंतको ने भ्रम में दल दिया कि कही सुदर्शन जी वाली बात में कुछ सच्चाई हो.

    Reply
  2. दिवस दिनेश गौड़

    Er. Diwas Dinesh Gaur

    अभी देर नहीं हुई है, अब भी जाग जाएं तो राष्ट्र निर्माण संभव है|
    इन्द्रेश जी ने तो जन्म ही इसलिए लिया है की वे भारत को मज़बूत व अखंड बना सकें|
    आदरणीय सम्पादक जी व प्रवक्ता को धन्यवाद व बधाई जो वे इन्द्रेश जी पर लगाए झूठे आरोपों को गलत सिद्ध करने का पुनीत कार्य कर रहे हैं|

    Reply
  3. दिवस दिनेश गौड़

    Er. Diwas Dinesh Gaur

    अभी देर नहीं हुई है, अब भी यदि जाग जाएं तो राष्ट्र निर्माण संभव है|
    इन्द्रेश जी ने जन्म ही इसलिए लिया है की वे भारत को अखंड व मज़बूत बना सकें|
    सम्पादक जी व प्रवक्ता को धन्यवाद व बधाई जो वे इन्द्रेश जी पर लगाए झूठे आरोपों को गलत साबित करने का पुनीत काम कर रहे हैं|

    Reply
  4. Anil Sehgal

    इंद्रेशजी ने भेजा शांति धारीवाल को नोटिस : देरी से उठाया गया एक सही कदम”

    “नोटिस में धारीवाल को आगाह किया गया है कि वे अनर्गल बयानबाजी से बाज आएं अन्यथा हाईकोर्ट में पुनर्याचिका दायर करने सहित उनके खिलाफ दूसरे कानूनी कदम उठाए जा सकते हैं।”

    मेरा प्रश्न
    (१) यदि राजस्थान के गृहमंत्री शांति धारीवाल आने वाले १ महीने में माननीय इन्द्रेश कुमार जी को ले लेकर कोई अनर्गल बयानबाजी नहीं करते तो क्या उनको कोर्ट में नहीं घसीटने का निर्णय है ?

    (२) जो गुनाह धारीवाल कर चुक्के उनको माफ कर देंगे ?

    —————————-एक कदम और उठाएं ———————————-

    Come what may

    धारीवाल को कोर्ट में अवश्य घसीटना चाहिए.

    – अनिल सहगल –

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *