बस थोड़ी सी समझदारी-प्रभुदयाल श्रीवास्तव

धरमपुरा के राजा शिवपाल सिंह परोपकारी दयालु और अपनी प्रजा के बड़े हितैषी थे|आम जनता के कष्ट और दुख दर्द जानने के लिये वे सप्ताह में एक बार जनता दरवार लगाया करते थे|किंतु उनके दरवार का तरीका बिल्कुल अलग था|वह लोगों को राज महल बुलाने के बदले स्वयं जनता के घर उनसे मिलने जाते थे|ऐसे उदार और दानी राजा के प्रति लोगों में अपार श्रद्धा थी|राजा का रथ सुबह ग्यारह बजे राज पथ से होता हुआ नगर भ्रमण करता था|हर चौराहे पर रथ रुकता और आम जन अपनी फरिहाद लेकर राजा से सीधे ही संवाद करते|लोगों के कष्टों के त्वरित निवारण के लिये राजा शिवपालसिंह अपने मातहतों को आदेश देते और समस्या का निदान तुरंत हो जाता|इसी तरह ग्रामीण क्षेत्रों का भी उनका नियमित दौरा होता| ऐसे ही एक दिन राजा साहब नगर भ्रमण पर थे|रथ राजपथ से चला आ रहा था कि अचानक गोबर युक्त कीचड़ के कुछ छीटे राजा साहब और उनके मातहतों के ऊपर गिरे|राजा ने इधर उधर देखा पर यह समझ में नहीं आया कि कीचड़ कहां से आया|सुरक्षा सैनिक भी सतर्क होकर देखने लगे कि यह गुस्ताखी किसने की|राजा ने ऊपर देखा शायद रथ किसी पेड़ के नीचे से गुज़र रहा हो और किसी पक्षी ने बीट कर दी हो किंतु न तो वहां कोई वृक्ष था न ही पक्षी|राज पथ के दोनों तरफ ऐसी कोई संदिग्ध वस्तु भी नज़र नहीं आई जिस पर शंका की जा सके|

काफिला रोककर सैनिकों ने जन समूह की खाना तलाशी ले डाली किंतु कुछ भी हाथ नहीं लगा|न ही किसी के हाथ कीचड़ में सने थे न ही किसी की जेब अथवा थैले या गठरी इत्यादि में कीचड़ युक्त वस्तु पाई गई|राजा ने सोचा जरूर उनकी प्रजा का कोई व्यक्ति दुख में रहने के कारण असंतुष्ट है और कीचड़ उछालकर उसने अपनी नाराजी व्यक्त की है|राजा ने आदेश दिया कि उस दुखी व्यक्ति को मेरे सामने हाज़िर किया जाये जिसने उन पर कीछड़ उछाला है| सैनिक घर घर जाकर जनता से पूंछतांछ करने लगे|किंतु कोई दुखी अथवा परेशान व्यक्ति हो तो मिले| राज्य में तो सभी खुशहाल थे|जिनको थोड़ी बहुत परेशानी थी राजा पहले ही दूर कर चुके थे|कीचड़ उछालने की बात भी किसी ने नहीं स्वीकारी|राजा चिंता दुबले हुये जा रहे रहे थे ,कीचड़ आया कहां से यही सोचकर वे परेशान थे|जनता दरवार भी बंद हो गया|

राजा की हालत देखकर राज्य के संकट मोचन लाला पीतांबर लाल भी परेशान हो गये|आखिर उन्होंने छुपे रूप से तहकीकात प्रारंभ कर दी|जिस समय पर राजा साहब के ऊपर कीचड़ उछल कर गिरा था ठीक उतने ही समय पर वे घर से निकलते और एक एक वस्तु का बारीकी से निरीक्षण करते||आखिर पांचवें दिन उन्हें सफलता मिल ही गई| उनके चेहरे पर मुस्कान आ गई चोर पकड़ा जा चुका था बस सबके सामने लाकर कहानी का पटाक्षेप होना शेष था|

लालाजी ने राजा साहब से निवेदन किया कि कल सुबह हमेशा की तरह राजा साहब जनता दरवार के लिये निकलें|थोड़ी सी न नुकर के बाद राजा साहब तैयार हो गये|रथ सजाया गया और काफिला धीरे धीरे राजपथ से होकर आगे बढ़ने लगा|बहुत से सैनिक और मातहत, कर्मचारी साथ में थे,बस लाला पीतांबरलाल नादारद थे|लालाजी पर राजा साहब की विशेष कृपा होनें के कारण बहुत से दरवारी उनसे ईर्ष्या रखते थे|कानाफूसी होने लगी कि कहीं यह लालाजी की ही कोई कारिस्तानी तो नहीं है| अचानक एक तरफ से कीचड़ की बौछार आई जिसके छीटे राजा साहब और मातहतों के ऊपर पड़े| लोगों ने घबराकर इधर उधर देखा तो पाया कि राजपथ से करीब चालीस पचास फुट दूर एक ऊंचे टीले पर लालाजी रमतूला बजा रहे थे|

लोगों ने देखा की कीचड़ से लथपथ एक भैंस लालाजी की बगल में खड़ी है और जोरों से पूंछ हिला रही है जिसमें लगा कीचड़ चारों तरफ फैल रहा है| राजा साहब के चेहरे पर हँसी फूट पड़ी|सारा माज़रा समझ में आ गया|उन्होंने जोर से नारा लगाया ‘दीवान लाला पीतांबर लाल की जय’ और चारों ओर लालाजी कि जय जयकार होने लगी|लोग मजे से चटकारे ले लेकर हँस रहे थे| कीचड़ का रहस्य उजागर हो चुका था|

Leave a Reply

%d bloggers like this: