लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


भोपाल,8 फरवरी। प्रख्यात कबीर गायक स्वामी जीसीडी भारती (भारती बंधु) का कहना है कि देश के युवा अगर नई टेक्नालाजी के साथ अगर अपने आध्यात्मिक पक्ष को भी ठीक से समझ जाए तो भारत के विश्वगुरू बनने में देर नहीं लगेगी। समस्या यह है कि हम अपनी जड़ों को भूल गए हैं। वे यहां माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल में विद्यार्थियों से संवाद कर रहे थे। संवाद का विषय था कबीर की संचार दृष्टि। उनका कहना था कि कबीर एक जीवन दृष्टि देते हैं, इसलिए वे किताबों का विषय नहीं हैं। उन्हें समझने के लिए दिमाग नहीं, दिल की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि आज बाजारवाद के समय में जब आपसी प्रेम कम हो रहा है, तब कबीर बहुत प्रासंगिक हो गए हैं। उनका कहना था कि जब आज से 600 साल पहले कबीर निडर होकर अपनी बात कह सकते थे तो आज के पत्रकारों को उनसे क्यों नहीं सीखना चाहिए। समस्या यह है कि हम सच कहने से डरते हैं। कबीर इसीलिए हमें सच कहने का साहस देते हैं। उनका कहना था कि लालच और अहंकार से ही व्यक्ति लक्ष्य से भटक जाता है। युवाओं को इससे बचना होगा। उनका कहना था कि दुनिया में आज अशांति का वातावरण है, सुसंवाद नहीं हो रहा है क्योंकि शांति की तलाश हम बाहर कर रहे हैं जबकि वह हमारे भीतर है।

कार्यक्रम के अध्यक्ष कुलपति प्रो. बृजकिशोर कुठियाला ने कहा कि कबीर और रहीम जैसे कवियों की याद हमें इसलिए करनी चाहिए कि वे हमें संस्कार देते हैं। आध्यात्मिक संचार की शिक्षा और इस दिशा में अनुसंधान जरूरी है क्योंकि ये ही हमें जीने का रास्ता बताते हैं। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ पत्रकार शिवअनुराग पटैरया ने कहा कि भारती बंधु को सुनना एक विरल अनुभव है और वे सही मायने में कबीर को हमारे बीच में ले आते हैं। संवाद में भारती बंधु ने छात्रों के सवालों के जबाव भी दिए। कार्यक्रम का संचालन जनसंचार विभाग के अध्यक्ष संजय द्विवेदी ने किया।

 

2 Responses to “कबीर को समझने को दिमाग नहीं दिल चाहिएः भारती बंधु”

  1. आर. सिंह

    R.Singh

    साधारणतया न तो भ्रष्टाचार व्यापार की भाषा मेरे मेरे समझ में आती है न उनकी टिप्पणी, इस बार भी पता नहींउनकी यह टिप्पणी इस लेख से सम्बंधित है या नहीं,पर उनका यह कथन कि तम्बाकू से मुंह का कैंसर १%और टूथ पेस्ट के इस्तेमाल से९९% तम्बाकू उत्पादक कंपनियों का विज्ञापन मात्र है.पता नहीं वे किस तम्बाकू उत्पादक या विक्रेता से सम्बन्ध रखते हैं?.इसका कोई उदाहरण नहीं मिलता कि तम्बाकू नहीं इस्तेमाल करने वालों को केवल टूथ पेस्ट इस्तेमाल से मुंह का कैंसर होता है.ऐसे हो सकता है कि अपवाद स्वरुप किसी ऐसे आदमी को मुंह का कैंसर हुआ हो जो तम्बाकू या उससे बने पदार्थ का सेवन नहीं करता हो, पर उसका यह मतलब कदापि नहीं कि उसको टूथ पेस्ट के इस्तेमाल से वैसा हुआ हो.मुंह और फेफड़े के कैंसर से ज्यादातर वही लोग पीड़ित होते है,जो क्रमश: तम्बाकू खाते हैं या सिगरेट,बीडी पीते हैं.

    Reply
  2. SARKARI VYAPAR BHRASHTACHAR

    ||ॐ साईं ॐ|| सबका मालिक एक है,प्रकृति के नियम क़ानून सबके लिए एक है |

    देश में दांतों की बिमारी और मुह का केंसर तम्बाखू से कम १% और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के टूथ पेस्ट से ज्यादा ९९% तक हो रहा है |

    बहुराष्ट्रीय कंपनियों का क्वालिटी प्रोडक्ट

    –सौजन्य से hareshpatani

    1 . पेस्ट
    हमलोग ब्रश करते हैं तो पेस्ट का इस्तेमाल करते हैं, कोलगेट, पेप्सोडेंट, क्लोज-अप, सिबाका, फोरहंस आदि का, क्योंकि वो साँस की बदबू दूर करता है, दांतों की सडन को दूर करता है, ऐसा कहा जाता है प्रचारों में | आप सोचिये कि जब कोलगेट नहीं था, तब सब के दांत सड़ जाते थे क्या ? और सब के सांस से बदबू आती थी क्या ? अभी कुछ सालों से ट…ेलीविजन ने कहना शुरू कर दिया कि भाई कोलगेट रगडो तो हमने कोलगेट चालू कर दिया | अब जो नीम का दातुन करते हैं तो उनको तथाकथित पढ़े-लिखे लोग बेवकूफ मानते हैं और खुद कोलगेट इस्तेमाल करते हैं तो अपने को बुद्धिमान मानते हैं, जब कि है उल्टा | जो नीम का दातुन करते हैं वो सबसे बुद्धिमान हैं और जो कोलगेट का प्रयोग करते हैं वो सबसे बड़े मुर्ख हैं |
    जब यूरोप में घुमा करता था तो एक बात पता चली कि यूरोप के लोगों के दाँत सबसे ज्यादा ख़राब हैं, सबसे गंदे दाँत दुनिया में किसी के हैं तो यूरोप के लोगों के हैं और वहां क्या है कि हर दूसरा-तीसरा आदमी दाँतों का मरीज है और सबसे ज्यादा संख्या उनके यहाँ दाँतों के डाक्टरों की ही है, अमेरिका में भी यही हाल है | वहां एक डाक्टर मुझे मिले, नाम था डाक्टर जुकर्शन, मैंने पूछा कि “आपके यहाँ दाँतों के इतने मरीज क्यों हैं? और दाँतों के इतने ज्यादा डाक्टर क्यों हैं ?” तो उन्होंने बताया कि “हम दाँतों के मरीज इसलिए हैं कि हम पेस्ट रगड़ते हैं ” तो मैंने कहा कि “तो क्या रगड़ना चाहिए?”, तो उन्होंने कहा कि “वो हमारे यहाँ नहीं होती, तुम्हारे यहाँ होती है ” तो फिर मैंने कहा कि “वो क्या?”, तो उन्होंने बताया कि “नीम का दातुन” | तो मैंने कहा कि “आप क्या इस्तेमाल करते हैं?” तो उन्होंने कहा कि “नीम का दातुन और वो तुम्हारे यहाँ से आता है मेरे लिए ” | यूरोप में लोग नीम के दातुन का महत्व समझते हैं और हम प्रचार देख कर “कोलगेट का सुरक्षा चक्र” अपना रहे हैं, हमसे बड़ा मुर्ख कौन होगा |

    कोलगेट बनता कैसे हैं, आपको मालूम है? किसी को नहीं मालूम, क्योंकि कोलगेट कंपनी कभी बताती नहीं है कि उसने इस पेस्ट को बनाया कैसे ? कोलगेट का पेस्ट दुनिया का सबसे घटिया पेस्ट है, क्यों ? क्योंकि ये जानवरों के हड्डियों के चूरे से बनता है | जानवरों के हड्डियों के चूरे के साथ-साथ इसमें एक और खतरनाक चीज मिलाई जाती है, वो है फ्लोराइड | फ्लोराइड नाम उस जहर का है जो शरीर में फ्लोरोसिस नाम की बीमारी करता है और भारत के पानी में पहले से ही ज्यादा फ्लोराइड है | तीसरी एक और खतरनाक चीज होती है उसमे, ये है Sodium Lauryl Sulphate | मैं जब लोगों से पूछता हूँ कि “आप कोलगेट क्यों इस्तेमाल करते हैं” तो सभी लोगों का कहना होता है कि “इसमें क्वालिटी है” फिर मैं पूछता हूँ कि “क्या क्वालिटी है?” तो कहते हैं कि “इसमें झाग बहुत बनता है”, ये पढ़े-लिखे लोगों का उत्तर होता है | रसायन शास्त्र में एक रसायन होता है “Sodium Lauryl Sulphate ” और रसायन शास्त्र के शब्दकोष (dictionary) में जब आप देखेंगे तो इस “Sodium Lauryl Sulphate” के नाम के आगे लिखा होता है “जहर”/”poison “| और .05mg मात्रा शरीर में चली जाए तो कैंसर कर देता है और यही केमिकल कोलगेट में मिलाया जाता है क्योंकि “Sodium Lauryl Sulphate ” डाले बिना किसी टूथपेस्ट में झाग नहीं बन सकता | टूथपेस्ट और सेविंग क्रीम दोनों में ये “Sodium Lauryl Sulphate ” डाला जाता है, बस थोडा प्रोसेस में अंतर होता है | ये झाग इसी केमिकल से बनता है तकनीकी भाषा में जिसे सिंथेटिक डिटर्जेंट कहा जाता है वही इन पेस्टों में मिलाया जाता है | यही सिंथेटिक डिटर्जेंट “Sodium Lauryl Sulphate ” कपडा धोने वाले वाशिंग पावडर और डिटर्जेंट केक में, शैम्पू में और दाढ़ी बनाने वाले सेविंग क्रीम में भी मिलाया जाता है | दुनिया का सबसे रद्दी पेस्ट हम इस्तेमाल कर रहे हैं |

    धर्म के हिसाब से भी पेस्ट सबसे ख़राब है | सभी पेस्टों में मरे हुए जानवरों की हड्डियाँ मिलायी जाती है | ये कोई भी जानवर हो सकता है, मैं इशारों में आपको बता रहा हूँ और आप अगर शाकाहारी है या जैन धर्म को मानने वाले हैं तो क्यों अपना धर्म भ्रष्ट कर रहे हैं | मेरे पास हर कंपनी की लेबोरेटरी रिपोर्ट है कि कौन कंपनी कौन से जानवर की हड्डी मिलाती है और ये प्रयोगशाला में प्रयोग करने के बाद प्रमाणित होने के बाद आपको बता रहे हैं हम |

    और ये कोलगेट नाम का पेस्ट बिक रहा है Indian Dental Association के प्रमाण से | मुझे जरा बताइए कि कब इस संगठन ने कोई बैठक किया और कोलगेट के ऊपर प्रस्ताव पारित किया कि “हम कोलगेट को प्रमाणित करते हैं कि ये भारत में बिकना चाहिए” लेकिन कोलगेट भारत में बिक रहा है IDA का नाम बेच कर | “IDA” लिखा रहता है Upper Case में और मोटे अक्षरों में, और “Accepted” लिखा होता है छोटे अक्षर में | यहाँ भी धोखा है, ये “accepted” लिखते हैं ना कि “certified” | मुझे तो आश्चर्य होता है कि भारत में दाँतों के डॉक्टर इसका विरोध क्यों नहीं करते, कोई डेंटिस्ट खड़ा हो कर इस झूठ को झूठ क्यों नहीं कहता, क्यों नहीं वो कोर्ट में केस करता | मैं नहीं कर सकता क्योंकि मैं कोई डेंटिस्ट नहीं हूँ, लेकिन कोई डेंटिस्ट इस बात को सिद्ध कर सकता है, और वो ये भी बता सकता है कि “कोई भी टूथपेस्ट जिसमे 1000 PPM से ज्यादा फ्लोराइड होता है तो वो सारे के सारे टूथपेस्ट जहर हो जाते है, टूथपेस्ट नहीं रहते” मैं अगर ये बात कोर्ट में कहूं तो कोर्ट मेरी बात नहीं मानेगा, कहेगा कि “आपके पास कोई डिग्री है इससे सम्बंधित” | दुर्भाग्य से, जिनके पास डिग्री है वो कोर्ट में जा नहीं रहे हैं और मेरे जैसे लोग, जिनके पास डिग्री नहीं है तो कोर्ट में जा नहीं सकते और खिसिया (गुस्सा) के रह जाते हैं |

    आपको एक और जानकारी देता हूँ | अमेरिका और यूरोप में जब कोलगेट बेचा जाता है तो उसपर चेतावनी (Warning) लिखी होती है | लिखते अंग्रेजी में हैं, मैं आपको हिंदी में बताता हूँ, उसपर लिखते हैं “please keep out this Colgate from the reach of the children below 6 years” मतलब “छः साल से छोटे बच्चों के पहुँच से इसको दूर रखिये/उसको मत दीजिये”, क्यों? क्योंकि बच्चे उसको चाट लेते हैं, और उसमे कैंसर करने वाला केमिकल है, इसलिए कहते हैं कि बच्चों को मत देना ये पेस्ट | और आगे लिखते हैं ” In case of accidental ingestion , please contact nearest poison control center immediately , मतलब “अगर बच्चे ने गलती से चाट लिया तो जल्दी से डॉक्टर के पास ले के जाइए” इतना खतरनाक है, और तीसरी बात वो लिखते हैं “If you are an adult then take this paste on your brush in pea size ” मतलब क्या है कि ” अगर आप व्यस्क हैं /उम्र में बड़े हैं तो इस पेस्ट को अपने ब्रश पर मटर के दाने के बराबर की मात्रा में लीजिये” | और आपने देखा होगा कि हमारे यहाँ जो प्रचार टेलीविजन पर आता है उसमे ब्रश भर के इस्तेमाल करते दिखाते हैं | हमारे देश में बिकने वाले पेस्ट पर ये “warning” नहीं होती और उसके जगह “Directions for use” लिखा होता है, और वो बात, जो वो अमेरिका और यूरोप के पेस्ट पर लिखते हैं, वो यहाँ भारत के पेस्ट पर नहीं लिखते | और कोलगेट के डिब्बे पर ISI का निशान भी नहीं होता , इसको Agmark भी नहीं मिला है, क्योंकि ये सबसे रद्दी क्वालिटी का होता है | जो वो अमेरिका और यूरोप के पेस्ट पर लिखते हैं, वो यहाँ भारत के पेस्ट पर नहीं लिखते, अब क्यों होता है ऐसा ये आपके मंथन के लिए छोड़ता हूँ और निर्णय भी आप ही को करना है |
    यहाँ मैं भारत में कार्यरत कोलगेट कंपनी का एक पत्र भी डाल रहा हूँ जो भाई राकेश जी के इस प्रश्न के उत्तर में था कि “अमेरिका और यूरोप के पेस्ट पर जो चेतावनी आपकी कंपनी छापती है, वो भारत में उपलब्ध अपने पेस्ट के ऊपर क्यों नहीं छापती”| तो उनका (कंपनी का) उत्तर कितने छिछले स्तर का था ये देखिये……………….

    From:
    Date: Tue, May 31, 2011 at 6:04 PM
    Subject: In response to your Colgate communication #022844460A
    To: prakriti.pune@gmail.com

    May 31, 2011
    Ref: 022844460A

    Mr. Rakesh Chandra Rakesh
    B 13 Everest Heights Behind Joggers
    Near Khalsa Dairy
    Viman Nagar
    Pune 411014
    Maharashtra
    India

    Dear Mr. Rakesh,

    Thank you for contacting Colgate-Palmolive (India) Limited.

    “The labelling requirements of cosmetic preparations like toothpaste in India are governed by the drugs and cosmetics regulations. We are fully complying with those regulations.In addition, we have incorporated an additional direction (i.e. Dentists recommend parents supervise brushing with a pea-size amount of toothpaste, discourage swallowing and ensure children spit and rinse afterwards) with a view to guiding the parents of children under 6 years of age using toothpaste.”

    We greatly value your patronage of Colgate-Palmolive products.

    Regards,

    COLGATE PALMOLIVE (INDIA) LIMITED

    Abilio Dias
    Consumer Affairs
    Communications
    (http://www.natural-health/-information-centre.com/sodium-lauryl-sulfate.html) और http://
    http://www.fluoridealert.org/toothpaste.html इन दोनों लिंक को समय निकाल कर पढने का कष्ट करेंगे तो आपके लिए अच्छा होगा | आप जिस भी पेस्ट के INGREDIENT में इस केमिकल का नाम देखिये तो उसे कृपा कर के इस्तेमाल मत कीजिये, अपना नहीं तो अपने बीवी-बच्चो का तो ख्याल कीजिये, अगर शादी नहीं हुई है तो अपने माता-पिता का ख्याल तो कीजिये |
    सरकारी व्यापार भ्रष्टाचार

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *