लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under गजल.


-बदरे आलम खां-   poem
मेरे क़ातिल कोई और नहीं मेरे साथी निकले
मेरे जनाजे के साथ बनकर वो बाराती  निकले
रिश्तेदारों ने भी रिस्ता तोड़ दिया उस वक़्त
जब दौलत  कि तिजोरी से मेरे हाथ खली निकले
मेरे किस्मत ने ऐसे मुकाम पर लाकर छोड़ दिया
ग़ैर तो गैर मेरे अपने साये भी सवाली निकले
मोहबात का गुलासनं वीरान हो गया गुल के बगैर
सैयाद कोई और नहीं खुद माली निकले
जो लूट  लेते  थे  कभी  गरीबों के  कफ़न
आज वो जामने के नज़र में बड़े दानी निकले
इन पापियों के काफिला कहां निकला “आलम”
कुछ लोग क़ाबा तो कुछ लोग कासी निकले

One Response to “मेरे क़ातिल कोई और नहीं मेरे साथी निकले”

  1. mahendra gupta

    जो लूट लेते थे कभी गरीबों के कफ़न
    आज वो जमाने के नज़र में बड़े दानी निकले
    सुन्दर ग़ज़ल.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *