अब उजालों से कोई आता नहीं है

0
128

अब उजालों से कोई आता नहीं है

भीड़ में भी कोई चिल्लाता नहीं है

मैं कभी डरता नहीं हूँ भीगने से

सर पे कोई छत नहीं, छाता नहीं है 

जिन किताबों में ग़रीबी मिट गई है

उन किताबों से मेरा नाता नहीं है

बिल्लियों के संग वो पाला गया है

शेर होकर भी वो गुर्राता नहीं है

डाँटते हैं सब नदी को ही हमेशा

बादलों को कोई समझाता नहीं है

इस जगह तुम ज़िंदगी को ख़त्म समझो

इससे आगे रास्ता जाता नहीं है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here