सलामती की दुआ मै करती रहूँगी

raksha-bandhan

तुम्हारी कलाइयों में रक्षा की राखी,
बरस दर बरस मैं बाँधती रहूँगी,
दिल में उमंगे और चेहरे पर खुँशियाँ,
हर एक पल मै सजाती रहूँगी,
कभी तुम न तन्हा स्वयं को समझना,
कदम से कदम मैं मिलाती रहूँगी,
तुम हर इक दिन आगे बढ़ते ही रहना,
सलामती की दुआ मै करती रहूँगी ।

खुदा ने हम दोनों का ये रिस्ता बनाया,
शुक्रिया उसको अदा करती रहूँगी,
लम्बी उमर दे और रण में विजय दे,
हमेशा ये कामना करती रहूँगी,
जन्म दर जन्म हम मिले साथ साथ,
भइया मै बहना बनती रहूँगी,
जीवन में नेंकी हरदम करते रहो तुम,
सलामती की दुआ मै करती रहूँगी ।

हर एक दिन इतिहास रचते ही जाना,
प्रेम की स्याही से मै लिखती रहूँगी,
समय भी गवाही ये देगा सदा ही,
रिस्ते की मिशाल मै बुनती रहूँगी,
अपनों के संग रक्षाबन्धन की खुँशियाँ,
राखी बाँधकर मनाती रहूँगी,
भइया अपना प्यार हमेशा देते ही रहना,
सलामती की दुआ मै करती रहूँगी ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: