लोकसभा

यह कैसा ‘बड़ों का सदन’?

सरकार की इस प्रवृत्ति पर राज्यसभा में काफी रोष प्रकट किया गया है। कांग्रेस के वीरप्पा मोइली ने तो यहां तक कह दिया कि राज्यसभा का होना न होना एक बराबर है। यदि राज्यसभा के साथ मोदी सरकार ऐसा ही बर्ताव करती रहे तो राज्यसभा के सभी सदस्यों को इस्तीफा दे देना चाहिए।

इससे लोकतंत्र का बागवां महकेगा

विमुद्रीकरण के ऐतिहासिक फैसले के बाद अब मोदी सरकार चुनाव सुधार की दिशा में भी बड़ा निर्णय लेने की तैयारी में है। संभव है सारे राष्ट्र में एक ही समय चुनाव हो- वे चाहे #लोकसभा हो या #विधानसभा। इन चुनाव सुधारों में दागदार नेताओं पर तो चुनाव लड़ने की पाबंदी लग ही सकती है, वहीं शायद एक व्यक्ति एक साथ दो सीटों पर भी चुनाव नहीं लड़ पाएगा?

ये लोकसभा तो अपराधियों और करोड़पतियों की है – हिमांशु शेखर

लोकसभा चुनाव 2009 के नतीजों की व्याख्या अलग-अलग तरह से की जा रही है। हर तरफ यह बात कही जा रही है कि यह चुनाव राष्ट्रिय दलों के दौर की वापसी वाला रहा।

लोकसभा तथा विधानसभा के कार्यकाल स्थायी हों: आडवाणी

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार लालकृष्ण आडवाणी ने बृहस्पतिवार को लोकसभा तथा विधानसभाओं का

लोकसभा तथा विधानसभा के कार्यकाल स्थायी हों: आडवाणी

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार लालकृष्ण आडवाणी ने बृहस्पतिवार को लोकसभा तथा विधानसभाओं का