जब मुस्लिम धर्म गुरूओं ने राहुल को दिखाया आईना

rahul-gandhi-at-nadvaसंजय सक्सेना

उत्तर प्रदेश में राहुल का रोड शो आजकल चर्चा में है। शो के दौरान राहुल आम जनता के सामने तो मोदी पर खूब गरज-बरस रहे हैं, लेकिन जब वह विद्वानों के बीच जाते हैं तो उनकी बेतुकी बातों का सही जबाव मिल जाता है। इस बात का अहसास लखनऊ के प्रमुख मुस्लिम धर्मगुरूओं ने राहुल को करा दिया। अपने संगी-साथियों के कहने पर राहुल गांधी लखनऊ में रोड शो के दौरान मुस्लिम धर्मगुरूओं से मिलने पहुंच गये। इस कड़ी में सबसे पहले वह विश्व प्रसिद्ध शैक्षिक संस्थान नदवा कालेज पहुंचे। यहां राहुल ने विद्वान मौलाना और आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड के अध्यक्ष राबे हसनी नदवी से मुलाकात की और कहा हमारे लिए (देश के लिए नहीं) दुआ कीजिए।
मौलाना नदवी जो सामने वाले की मंशा भांपने की काबलियत रखते हैं ने राहुल को आइना दिखाते हुए दुआ करने का वादा तो किया, लेकिन हर उस शख्स के लिये जो मुल्क की खिदमत करेगा। मुल्क की खिदमत कौन कर रहा है, यह बात राहुल और उनकी टीम के अलावा हर कोई समझ सकता है। इसी तरह से राहुल गांधी ने प्रसिद्ध शिया धर्म गुरू और आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड के उपाध्यक्ष डा. कल्बे सादिक के पास जाकर उनसे पाकिस्तान और मुसलमानों के हालात पर चर्चा की। कहा, पाकिस्तान के खिलाफ सख्ती से निपटने की जरूरत है।
सादिक जिनकी काबलियत का लोहा पूरी दुनिया मानती है,उन्हें भी राहुल की मंशा भांपने मे जरा भी देरी नहंी लगी। सादिक ने जब यह कहा कि वह पाकिस्तान या मुसलमान की नहीं, देश और भ्रष्टाचार की बात करें, जब भ्रष्टाचार मिटायेंगे तभी देश बचा पाएंगे। तो राहुल बगले झांकने लगे। अब राहुल भ्रष्टाचार पर क्या बोल सकते थे, यूपीए सरकार का भ्रष्टाचार और घोटाला जगजाहिर है। इस तरह से राहुल यहां से भी मुंह की खाकर चले आये ।

राहुल की नादानी का आलम यह है कि वह 2017 में 2019 का अश्क देख रहे हैं। 2017 के विधान सभा चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी किसको मिलेगी, इसके लिये भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच कड़ी टक्कर चल रही है, लेकिन राहुल गांधी अपनी सीएम प्रत्याशी शीला दीक्षित के लिये नही 2019 में स्वयं पीएम बनने का रास्ता साफ करने में लगे हैं। इसी लिये वह सीएम अखिलेश यादव, पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की बजाये प्रधानमंत्री मोदी पर हमलावर हैं। उधर, भाजपा नेता राहुल के हमलावार रूख पर चुटकी लेते हुए कर रहे हैं कि जो स्वयं कुछ नहीं कर पाया, वह मोदी पर तंज कस रहा है। मोदी को किसे से सार्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है।

2 thoughts on “जब मुस्लिम धर्म गुरूओं ने राहुल को दिखाया आईना

  1. कांग्रेस जनों का यह प्लान है कि राहुल को पूर्ण रूप से असफल साबित कर प्रियंका को पार्टी की महारानी बनाए . राहुल अपने मूर्खतापूर्ण बयान एवं क्रियाकलापो से कांग्रेसजन की इच्छा पूर्ण होने की राह को सहज ही बना रहे है. इस बीच प्रियंका भी अपनी दारु की लत से छुटकारा पाने की कोशिश में है. जो भी हो इस प्लान को 2019 से पहले पूरा करने की पूरी तैयारी है.

  2. मैं पूछता हूँ कि आज भारत में भ्रष्टाचार और अराजकता से बुरी तरह प्रभावित राजनीति में चुनावों को ले कर गांधी परिवार अथवा कोई और व्यक्ति विशेष सदैव विषय क्यों बना हुआ है? ऐसा क्यों है कि हम भारतीयों को कबूतरों की नाइ कोई कबूतरबाज़ आकाश में उड़ाता अंत में इन राष्ट्र-द्रोहियों के चबूतरे पर ले आता है। क्यों?

    हमें अपना व राष्ट्र का ध्यान रखते राष्ट्रवादी नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी को अपना समर्थन देते कांग्रेस-मुक्त भारत के पुनर्निर्माण में लग जाना चाहिये।

Leave a Reply

%d bloggers like this: