लेखक परिचय

अवनीश सिंह भदौरिया

अवनीश सिंह भदौरिया

लेखक दैनिक न्यू ब्राइट स्टार में उप संपादक हैं।

Posted On by &filed under विविधा.


आज पूरी दुनिया जानती है कि भारत और पाकिस्तान के बीच जो चल रहा है वह खुद पाकिस्तान की देन है। हम सब यह जानते हैं कि पाकिस्तान आतंकियों को बनाता है आतंक बाद को बनाना पाकिस्तान का पेशा बन गया है। पाकिस्तान ने आतंकियों द्वारा भारत के हिस्से उरी के आर्मी बेस पर हमला करवाकर यह साबित कर दिया है कि आतंकवाद पाकिस्तान की पैदाइशी बीमारी है। भारत ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को पूरी दुनिया के सामने उसे आतंकी देश घोषित करने की मांग की है और इस पर सारे देश भारत के समर्थन में हैं पर एक देश ऐसा भी है जो आतंकियों का आका पाकिस्तान को समर्थन करता है और वह देश है चीन . जी हां यह बात सच है? पाकिस्तान के खिलाफ भारत के रुख को देखकर चीन तिलमिला उठा है। हम सब यह जानते हैं कि चीन भारत की बढ़ती कामयाबी को देखकर हमेशा से जलता रहा है भारत किसी भी देश जवाब देने के लिए आज सक्षम है। वहीं भारत की कामयाबी चीन पचा नहीं पा रहा है। भारत ने पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए जो रुख अपनाया उस में अब चीन हमेशा की तरह रोड़ा बन रहा है। चीन ने पहले एनएसजी में रोड़ा बना और भारत और पाकिस्तान के बीच रोड़ा बन रहा है। लगता है कि चीन की भी रोड़ा बनने वाली आदत पैदाइशी है? वहीं भारत ने पाकिस्तान को करारा जवाब देने के लिए सिंधु नदी का पानी रोकने की पहल की वहीं, इस खबर को सुनते ही पाकिस्तान के पैरों तले जमीन खिसक गई और उसने कहा कि अगर भारत ने ऐसा किया तो यह पूरी दुनिया का अपमान होगा अब पाकिस्तान से कौन पूंछे कि तुम जो बुरे काम कर रहे हो उससे दुनिया का अपमान नहीं होगा? वहीं, भारत ने सिंधु नदी के पानी रोकने की पहल क्या की कि पाकिस्तान का दोस्त चीन को बुरी लग गई। चीन ने अपनी सबसे महंगी पनबिजली परियोजना के निर्माण के तहत तिब्बत में ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का प्रवाह रोक दिया है जिससे भारत में चिंता पैदा हो सकती है क्योंकि इससे नदी के निचले बहाव वाले देशों में जल का प्रवाह प्रभावित होने की आशंका है। चीन की सरकारी समाचार एजेंसी ने परियोजना के प्रशासनिक ब्यूरो के प्रमुख झांग युन्बो के हवाले से कहा कि तिब्बत के शिगाजे में यारलुंग झांग्बो (ब्रह्मपुत्र का तिब्बती नाम) की सहायक नदी शियाबुकू पर बन रही लाल्हो परियोजना में 4.95 अरब युआन (74 करोड़ डॉलर) का निवेश किया गया है। शिगाजे को शिगात्जे के नाम से भी जाना जाता है। यह सिक्किम से लगा हुआ है। ब्रह्मपुत्र शिगाजे से होकर अरुणाचल आती है। चीन ने ऐसे करके अपनी औकात पूरी दुनिया के सामने रख दी है चीन यह भूल गया है कि उनकी रोजी रोटी भारत के सहारे चलती है? भारत और भारतीय को अब चीन की असली औकात दिखानी होगी चीन ने ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का प्रवाह रोक सारे बुरे काम करने वाले आतंकी देश पाकिस्तान का साथ दिया है। वहीं चीन यह कैसे भूल जाता है कि आतंकी देश कभी किसी का भला नहीं कर सकते हैं। आतंकीयों का बस एक ही मनसूबा होता है और वो है आतंकवाद को फैलाना। चलो एक बार मान लेते हैं कि चीन आतंकवाद के मुद्दे पर चीन पाकिस्तान के साथ नहीं है? पर एक सवाल यह भी है कि चीन ने ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी रोकर आतंकवाद पर पाकिस्तान का साथ नहीं दिया है।? इस इससे तो सही साबित होता है कि चीन हमेशा से ही आतकियों के आका पाकिस्तान को समर्थन करता आ रहा है और यह कहना गलत भी नहीं होगा? भारत की जनता ही है जो चीन को सबक सिखा सकती है। वो ऐसे सबक सिखा सकती है कि चीन ने ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी रोका अब हम सब चीन की कोई भी प्रोडक्ट बाजार से न खरीदें अब हम सब भारतवासी हैं तो चीन को सबक सिखाने का इससे अच्छा मौका कभी नहीं मिलेगा। आज पुरी दुनिया में चाईनीज चीजों का बोल बाला है और यह हम सब जानते हैं। बाजारों में जहां नजर उठाकर देखो वहीं चाइनीज चीजें ही दिखाई देती हैं। अगर सारे हिन्दुस्तानी चीन का समान न लें तो चीन को उसकी औकात पता चल जाएगी। भारतवासियों से आशा है कि चीन को उसकी औकात जरूर दिखाएंगे?

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz