लेखक परिचय

डॉ. सी. पी. राय

डॉ. सी. पी. राय

एम् ए [राजनीति शास्त्र], एल एल बी ,पी जी डिप [समूह संचार]। एम एड, पी एच डी [शिक्षा शास्त्र] पी एच डी [राजनीति शास्त्र]। संसदीय पुस्तक पुरस्कार से सम्मानित। पूर्व राज्य मंत्री उत्तर प्रदेश। अध्यापक ,गाँधी अध्ययन। डॉ बी आर आंबेडकर विश्व विधालय आगरा। १- "संसद और विपक्ष " नामक मेरी प्रकाशित शोध पुस्तक को संसदीय पुस्तक पुरस्कार मिल चुका है। २-यादो के आईने में डॉ. लोहिया भी एक प्रयास था। ३-अनुसन्धान परिचय में मेरा बहुत थोडा योगदान है। ४-कविताओ कि पहली पुस्तक प्रकाशित हो रही है। ५-छात्र जीवन से ही लगातार तमाम पत्र और पत्रिकाओ में लगातार लेख और कवितायेँ प्रकाशित होती रही है। कविता के मंचो पर भी एक समय तक दखल था, जो व्यस्तता के कारण फ़िलहाल छूटा है। मेरी बात - कविताएं लिखना और सुनना तथा सुनाना और तात्कालिक विषयों पर कलम चलाना, सामाजिक विसंगतियों पर कलम और कर्म से जूझते रहना ही मेरा काम है। किसी को पत्थर कि तरह लगे या फूल कि तरह पर मै तों कलम को हथियार बना कर लड़ता ही रहूँगा और जो देश और समाज के हित में लगेगा वो सब करता रहूँगा। किसी को खुश करना ?नही मुझे नही लगता है कि यह जरूरी है कि सब आप से खुश ही रहे। हां मै गन्दगी साफ करने निकला हूँ तों मुझे अपने हाथ तों गंदे करने ही होंगे और हाथ क्या कभी कभी सफाई के दौरान गन्दगी चेहरे पर भी आ जाती है और सर पर भी। पर इससे क्या डरना। रास्ता कंटकपूर्ण है लेकिन चलना तों पड़ेगा और मै चल रहा हूँ धीरे धीरे। लोग जुड़ते जायेंगे, काफिला बनता जायेगा और एक दिन जीत सफाई चाहने वालो कि ही होगी।

Posted On by &filed under राजनीति.


ये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को क्या हो गया है।  ये ज्ञान, शील, संस्कार और शुचिता कि बात करता था। ये बार इसके लोगो कि सरकार क्या बनी, सब धुल गया। कोई ऐसी बुराई नही थी जिसमे इसके प्रमुख लोग लिप्त नही पाये गए हो। देश को सब याद है। अपने आदर्शो कि ओ हालत देख कर जो कार्यकर्ता मचल कर उस पाले में गिर सकता था, ओ भी जा गिरा और जो नही गिर पाया उसने शाखाओ से किनारा कर लिया। पहले बहुत जगहों पर शाखाये दिख ती थी चाहे सुबह घूमने के शौकीन लोग ही क्यों ना उसमे भी खड़े हो जाते हो, लेकिन उन्होंने भी जब असलियत देखा कि सत्ता से दूर बैठ कर आलोचना करना और तरह के नारे देना एक बात होती है, सत्ता से दूर बैठ कर चेहरा साफ रखना एक बात होती है पर ये लोग उन लोगो से लाख गुना बुरे साबित हुए जो ५० साल से सत्ता में है और ओ भी सत्ता चंद दिन देखते ही, तों उन लोगो ने भी किनारा कर लिया और आज शाखाओ कि कि संख्या १/१० भी न ही रह गयी है। शायद जो तिलस्मी था संघ का ओ कही दरक रहा है। बहुत कोशिश कर के भी पुनः जोड़ नही पा रहे है लोगो को। उधर अयोध्या के फैसले ने दंगा फ़ैलाने और उस बहाने खुद को पुनः फ़ैलाने का एक अवसर भी हाथ से छीन लिया।

दो बयान दोनों संघ का नया चेहरा दिखाते हुए। जैसे संघ अन्य संगठनो कि तरह जगह जगह धरने पर बैठा, ये अलग बात है कि भा ज पा, बजरंग दल इत्यादि सारे संगठनो के शामिल होने के बावजूद धरना पूरी तरह फ्लॉप रहा, कही भी सैकड़ो से आगे संख्या नही बढ़ पाई। बंद मुट्ठी थी संघ कि खुल गयी। कही ना कही विश्वास, विश्वसनीयता, लक्ष्य के प्रति भ्रम, रास्ते के प्रति भ्रम, जैसे तमाम कारणों ने संघ को गिरफ्त में ले लिया है। बहुत से लोगो कि तरह एक बार बनी सरकार ने जो भटकाव पैदा किया, जो चेहरे पर रंग पोता उसे छुड़ाने का कोई रास्ता नही दिख रहा है। एक खास मराठा कौम को सर्व्श्रेस्थ मान कर और हिटलर को आदर्श मान कर उसी के लक्ष्य और रास्ते को स्वीकार कर बना संगठन कुछ ही वर्षो में नीति, नीयत और नेतृत्व सभी दृष्टीयो से भटकाव का शिकार दिख रहा है। वहा चूँकि बहस और तर्क कि कोई गुंजाईश ही नही है इसीलिए कभी किसी और नहीं ये पूछा ही नही कि संघ का सारा असली नेतृत्व केवल एक खास मराठा जाती के पास क्यों ? रज्जू भैया का चेहरा कुछ दिन सामने रखा गया कि कोई ये सवाल ना कर दे परन्तु ताकत उनके पास नही थी।

मै दो बयानों का जिक्र कर रहा था। एक बयान सर संघचालक का कि संघ तों आतंकवादी नही है कुछ संघ से जुड़े लोग हो सकते है पर अब ओ संघ के साथ नही है। इसमें उन आरोपों को अपने आप स्वीकार कर लिया है संघचालक ने कि सघ आतंकवाद के रास्ते पर चल पड़ा है। इस बयान को किसी खास चश्मे से नही बल्कि स्वतंत्र तरीके से जो भी देखेगा और चिंतन करेगा ओ समझ जायेगा कि शुचिता कि बात करने वाले, बार बार दंगे कराने वाले और एक बार भारत का दिल तोड़ने वाले, आजादी कि लड़ाई में मुखबिरी करने वाले और जिस आपातकाल कि सबसे ज्यादा चर्चा करते है, उसमे अपनों को दगा देकर एक लाख से ज्यादा कि संख्या में माफ़ी मांग कर और सत्ता का समर्थन कर जेल से निकाल आने वाले, और जिस महात्मा गाँधी को दुनिया दरश मान रही है, उस आजादी के नायक कि हत्या करने वाले अब भारत को उन देशो में शुमार कर देने का प्रयास कर रहे है जो हर वक्त मौत, दंगे और अ निश्चितता के मुहाने पर खड़े रहते है। ये अलग बात है कि यह बात खुल जाने के बाद इनका शक्ल दिखाना भी मुश्किल हो जायेगा। अभी आये अदालती फैसले के समय इनके देश को दंगे कि आग में झोकने तमाम प्रयासों को जिस तरह भारत ने ठुकराया और ये बता दिया कि भारत बदल रहा है।इसका लोकतंत्र मजबूत होकर उभर रहा है। भारत कि नयी पीढ़ी ने लक्ष्य तय कर लिया है और उस लक्ष्य में किसी भी भटकाव और दंगे कि कोई गुंजाईश नही है। अगर उसके बाद भी ये संगठन अभी अपने तरीको से ही चलना चाहता है तों भारत में उन लक्ष्यों और तरीको के लिए कोई जगह नही है।

दूसरा बयान दिया पूर्व संघचालक ने कि सोनिया गाँधी जिन्होंने अपने परिवार और सिन्दूर कि क़ुरबानी देखी ओ गद्दार है, उन्होंने हत्याओ कि साजिश कि और ओ सोनिया गाँधी जिन्होंने भारत जैसे बड़े देश को का प्रधानमंत्री का पद दो बार ठुकरा दिया ओ और पता नही क्या क्या है। भारत कि जनता सब जानती है, सब देखती है। उसने देखा है कि जिसे भगवान कहा उसी राम को सत्ता के लिए धोखा किसने दिया। भारत कि जनता ने सुना है ओ बयान कि एक मंदिर के लिए सत्ता को नही गवा सकते। भारत कि जनता ने देखा है कि जब तक सरकार थी संघ से लेकर तथा कथित साधू संत और सभी हिंदूवादी संगठन कही खो गए थे या मिट्टी के मोल अपने तथा कथित आश्रम के लिए जमीने कब्ज़ा रहे थे या वो सब कर रहे थे जो भारत कि जनता ने सी डी में देखा। संघ पहले सत्ता में घुसा और अब बहुत ही फूहड़ तरीके से सड़क के किनारे ही नही आ गया बल्कि फूहड़ भाषा और विचार के साथ आ गया। संघ कि सदस्यता कि सूची अगर जारी कर दी जाये तों भारत में सामने कुछ और सत्य अ जायेंगे। एक अभियान चला कर देखना चाहिए कि इस देश में जमा खोरी कौन लोग करते है जिससे समान कम पड़ जाता है, और फिर मुनाफाखोरी कौन लोग करते है। मिलावट कर जनता के जीवन से खिलवाड़ कौन करते है। जरा गौर से देखिये और फिर पहचानिए कि ये किस संगठन से जुड़े है। वह रे ज्ञान, शील, शुचिता, संस्कार और पता नही क्या क्या। आप धन्य भी है और धान्य भी है पर दुनिया के साथ दौड़ाने वाले भारत को आप मंजूर नही है, आप के षड़यंत्र मंजूर नही है, किसी और गाँधी या आप के ही दीन दयाल उपाध्याय कि हत्या मंजूर नही है, दंगे मंजूर नही है, ये शुचिता मंजूर नही हैऊ ये भाषा मंजूर नही है, ये अनर्गल आरोप मंजूर नही है, हिटलर के सिद्धांत मंजूर नही है। बौखालने के बजाय चिंतन करने और भारत कि मुख्य धारा में रहने के बारे में सोचे तों शायद ….और प्रारंभ सोनिया गाँधी से माफ़ी मांग कर और इतना घिनौना आरोप लगाने के लिए भारत से माफ़ी मांग कर करना चाहिए।

Leave a Reply

29 Comments on "ये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को क्या हो गया है?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
vaibhav vishal
Guest
राय जी क्या यह सच नहीं की यु.पि.का इक प्रचारक इस देश का प्रधानमंत्री बनता है क्या यह सच नहीं है की पाकिस्तान से आया इक साधारण आदमी इस देश का गृह मंत्री बनता है या फिर यह सच्ची बात नहीं है की बहुत से राज्य के मुख्यमंत्री संघ के प्रचारक है?क्या ये सभी लोग मराठी है? की क्या यह सच नहीं है की इसी सोनिया जी के परससुर ने संघ के लोगो को लालकिला बुलाकर सलामी ठोका था?या फिर यह सच नहीं है की बिहार में कोशी नदी के प्रकोप से पीड़ित लोगो को बिना जाती धर्म पूछे शिविर… Read more »
डॉ. सी. पी. राय
Guest

केवल एक बात और की लोकतंत्र में कोई भी जनता के चुनाव से नेता होता है | पर आप सब ये नहीं मानेंगे क्योकि लोकतंत्र में आप का तभी तक विश्वास करने का दिखावा है जब तक कोई नारा उछल कर पूर्ण बहुमत नहीं मिल जाता ,बिलकुल हिटलर की ही तरह | अच्छा मेरे भारत के भटके हुए दोस्तों आज के लिए बस इतना ही |

डॉ. सी. पी. राय
Guest
डॉ ए पी जे कलाम सरकारी आवास में ही रहते है ,और उन्होंने जैसा माँगा था की उन्हें पुस्तकालय के लिए बड़ा चाहिए वैसा ही दिया है सरकार ने ,आप लोगो के साथ दिक्कत यही है की आप बार बार झूठ बोल कर सच बनाना चाहते है ,जैसे गणेश को दूध पिला दिया ,तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ शंकर दयाल शर्मा को पूरे देश में मरा प्रचारित कर दिया | सभी पाठक एक यही नमूना देख ले जो इन्होने पूर्व राष्ट्रपति डॉ कलाम के बारे में कहा है ,बाकि जवाब और झूठ और गालिया सुनाने के बाद ,हा इतना जरूर की मई… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest

लेखक:
“और हां मेरे दोस्त मै ज्यादा नहीं जनता बस लिखने की कोशिश ही कर रहा हूँ और आभारी हूँ प्रवक्ता की वह मुझ जैसे साधारण लोगो को भी जगह देता है | ”
लगता है, कि, लेखक इतना तो सही, सही कह रहे हैं।

Harish K. Patel
Guest
राय जी, आप ने वेहतरीन लिखा बस थोडा ज्यादा तीखा लिख दिया इसलिए संघियो को बुरा लग रहा है. विदेशी काली टोपी और खाकी नेकर बाले संघी हो या कांग्रेस दोने ने ही देश का बेडा गर्क किया है. आप कांग्रेस पर कुछ ज्यादा ही फ़िदा है. जो लेख में बर्तमान भ्रष्ट सरकार और सोनिया के कही न कही बचाव में उतरते हुए लगे है. कांग्रेस हो या संघी कुनबा दोनों ही एक जैसे है. कांग्रेस भी जरुरत होने पर साम्प्रदायिकता का सहारा लेती है . 1984 को लोग भूले नहीं है बाकि संघ परिवार के तो क्या कहने गुजरात… Read more »
wpDiscuz