लेखक परिचय

शंकर शरण

शंकर शरण

मूलत: जमालपुर, बिहार के रहनेवाले। डॉक्टरेट तक की शिक्षा। राष्‍ट्रीय समाचार पत्रों में समसामयिक मुद्दों पर अग्रलेख प्रकाशित होते रहते हैं। 'मार्क्सवाद और भारतीय इतिहास लेखन' जैसी गंभीर पुस्‍तक लिखकर बौद्धिक जगत में हलचल मचाने वाले शंकर जी की लगभग दर्जन भर पुस्‍तकें प्रकाशित हो चुकी हैं।

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख, लेख.


हाल में कर्नाटक में स्कूलों में गीता पढ़ाने का एक प्रस्ताव आया। यह बच्चों को नैतिक शिक्षा देने हेतु एक मठ का अनुरोध था, जिसमें सरकार ने केवल स्कूलों को इसके लिए एक घंटा समय देने भर का निर्देश दिया था। इसमें सरकार को कुछ खर्च नहीं करना था। पर इस प्रस्ताव को अदालत में चुनौती दी गई। वामपंथी संगठनों ने प्रस्ताव के विरुद्ध राजनीतिक आंदोलन भी शुरू कर दिया। 

किन्तु ध्यान दें कि ‘अल्पसंख्यक’ शिक्षा संस्थानों में मजहबी, मध्ययुगीन किताबें पढ़ाने का कभी विरोध नहीं होता। वे संस्थान हमारी शिक्षा-प्रणाली से बाहर नहीं हैं। हमारे देश के लाखों बच्चे और युवा अपनी संपूर्ण शिक्षा के लिए उन्हीं संस्थानों पर निर्भर हैं। उन संस्थानों को सरकारी अनुदान भी मिलता है। उन संस्थानों के प्रमाण-पत्रों को सामान्य शिक्षा संस्थानों के समकक्ष मानने की प्रवृत्ति बढ़ रही है। यहाँ तक कि उन्हें केंद्रीय विश्वविद्यालयों तक से जोड़ा जा रहा है।

इस प्रकार, गैर-हिन्दू मजहबी पुस्तकों की रटाई-पढ़ाई को औपचारिक शिक्षा में मान्यता मिल रही है। उन पुस्तकों में ऐसी बातें भी हैं जो दूसरे धर्मावलंबियों के प्रति घृणा और क्रूरता तक सिखाती हैं। समाज, प्रकृति, कला आदि के बारे में भी उसमें अनेक नकारात्मक बातें हैं, जिनसे बच्चों के विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। मगर ऐसी पुस्तकें हजारों संस्थानों में मुख्य पाठ्य-क्रम के रूप में पढ़ाई जाती हैं। जबकि हिन्दू कहलाने वाली एक महान, विश्व-विख्यात दार्शनिक पुस्तक को भी शिक्षा से जोड़ना अवैध कहा जाता है! यह विचित्र दोहरापन सेक्यूलरिज्म के नाम पर चलता है।

यह कैसा सेक्यूलरिज्म है?

भारतीय संविधान इस अर्थ में अटपटा बना दिया गया है, कि इस का एक आधारभूत सिद्धांत ‘सेक्यूलरिज्म’ नितांत अस्पष्ट है। प्रथम पृष्ठ पर यह शब्द लिख कर संविधान में जोड़ दिया गया, किन्तु कहीं परिभाषित नहीं किया गया। न अलग से कोई कानून बनाकर, न सुप्रीम कोर्ट के किसी निर्णय में इसका कोई स्पष्ट अर्थ दिया गया है। सबसे लाक्षणिक बात तो यह कि इसे पारिभाषित करने के प्रयास को भी बाधित किया जाता है। नेतागण, सुप्रीम कोर्ट और प्रभावी बुद्धिजीवी वर्ग सब ने इसे अस्पष्ट रहने देने की सिफारिश की है। यह सामान्य बात नहीं, क्योंकि इसी के सहारे भारत में एक विशेष प्रकार ही राजनीति का दबदबा बना, जिसकी धार हिन्दू-विरोधी है। और इसी को कवच बनाकर देश-विदेश की भारत-विरोधी शक्तियाँ भी अपने कारोबार करती हैं।

ध्यान देने पर यह किसी को भी दिख सकता है। कुछ पहले मधु किश्वर ने तवलीन सिंह (दोनों प्रसिद्ध पत्रकार) का ध्यान इस बात पर आकृष्ट कराया कि विचार-विमर्श में हिंदू शब्द केवल गाली के रूप में इस्तेमाल हो रहा है। तवलीन जी ने ध्यान देना शुरू किया और पाया कि बात सच है। उन्हें स्थिति ऐसी गंभीर लगी कि सेक्यूलरिज्म ‘हिंदू सभ्यता के विरुद्ध चुनौती’ बन गया है। भारतीय सभ्यता अपने उत्कर्ष पर हिंदू सभ्यता ही थी। जिसने संपूर्ण विश्व को गणित से लेकर दर्शन, धर्म, साहित्य और विज्ञान तक हर क्षेत्र में अनमोल उपहार दिए। किंतु आज भारत में यह बात कहना हिंदू सांप्रदायिकता है। इसीलिए किसी पाठ्य-पुस्तक में ऐसी बातों का संकेत भी अवांछित है। विश्व-प्रसिद्ध समाजशास्त्री मैक्स वेबर भगवतगीता को नैतिक राजनीति का विश्व में एकमात्र ग्रंथ कह सकते थे। किंतु कोई भारतीय आज यह लिखे तो वह ‘भगवा लेखक’ बताकर अपमानित किया जाता है। अतः सेक्यूलरिज्म को हिंदू-विरोध का दूसरा नाम कहकर तवलीन जी ने कड़वी सच्चाई बयान की थी।

सच पूछें तो ऐसे प्रसंग हमारे देश के बौद्धिक वातावरण पर एक टिप्पणी है। कि किस तरह एक विकृत मतवाद ने लोगों को इतना दिग्भ्रमित कर दिया है कि वे देखकर भी नहीं देख पाते। अन्यथा तवलीन सिंह को यह समझने में इतने दशक न लगे होते। प्रसिद्ध इतिहासकार रमेश चंद्र मजूमदार ने 1965 में ही स्पष्ट देखा था कि, “इस देश में मुस्लिम संस्कृति और भारतीय संस्कृति की चर्चा की जा सकती है। मगर हिंदू संस्कृति की नहीं। हिंदू शब्द केवल नकारात्मक अर्थों में प्रयोग किया जाता है”। याद रहे, यह तब की बात है जब न राम-जन्मभूमि आंदोलन था, न विश्व-हिंदू परिषद थी। मगर तब भी ‘हिंदू’ शब्द का प्रयोग पोंगापांथी, सांप्रदायिक, फासिस्ट संदर्भ में ही होता था। चार दशक में आज वह ‘विष’ भी बन गया! जिससे विवध पुस्तकों, पदों, संस्थानों को मुक्त करने का ‘डि-टॉक्सिफिकेशन’ चलाना पड़ता है।

दुनिया के सबसे बड़े हिन्दू देश में हिन्दू-विरोध ही बौद्धिकता की कसौटी कैसे बन गया? यह सोचने की बात है। आरंभ यह जैसे भी हुआ, किन्तु दिनों-दिन इसकी बढ़त अपरिभाषित सेक्यूलरिज्म के कारण ही हुई। इसी से संभव होता है कि एक समुदाय के मजहबी शिक्षा-संस्थानों को भी अनुदान, सम्मान, पहचान मिले, जबकि दूसरे को अपनी औपचारिक शिक्षा में महान दार्शनिक ग्रंथों को भी पढ़ने की अनुमति न दी जाए। अपरिभाषित सेक्यूलरिज्म के डंडे से ही हिंदू मंदिरों पर सरकारी कब्जा कर लिया जाता है जब कि मस्जिदों, गिरजाघरों को संबंधित समुदाय को मनमर्जी से चलाने के लिए छोड़ दिया जाता है। इतना ही नहीं, कई बड़े हिन्दू मंदिरों की आमदनी से दूसरे समुदाय की हज यात्रा को करोड़ों का अनुदान दिया जाता है (कर्नाटक, आंध्र)।

यहाँ अवैध धर्मांतरण कराने वाले विदेशी ईसाई को राष्ट्रीय सम्मान दिया जाता है, जब कि अपने धर्म में रहने या वापस आने की अपील करने वाले हिंदू समाजसेवी को सांप्रदायिक कहकर लांछित किया जाता है। अप्रमाणित आरोप पर भी एक शंकराचार्य दीवाली के दिन गिरफ्तार कर अपमानित किए जाते हैं। जब कि मौलवियों-इमामों को देश-द्रोही बयान देने, संरक्षित पशुओं को अवैध रूप से अपने घर में लाकर बंद रखने, न्यायालयों की उपेक्षा करने पर भी छुआ तक नहीं जाता। उल्टे राजनीतिक निर्णयों में उन्हें विश्वास में लेकर उन की शक्ति बढ़ा दी जाती है। भयंकर आतंकवादी तक ‘लादेन जी’ का सम्मानित संबोधन पाता है, जबकि लब्ध प्रतिष्ठित योगाचार्य को ‘रामदेव ठग’ कहा जाता है।

यदि सेक्यूलरिज्म वैधानिक रूप से परिभाषित हो गया, तो यह सभी राजनीतिक मनमानियाँ और वैचारिक गुंडागर्दी नहीं हो सकेगी। इस सेक्यूलरिज्म की अस्पष्टता का ही करिश्मा है कि शिक्षा, संस्कृति और राजनीति – हर क्षेत्र में भारत में अन्य समुदायों को हिंदुओं से अधिक अधिकार मिले हुए हैं। इस अत्याचार पर जानकार हिंदू कसमसाते हैं, पर कुछ कर नहीं पाते। क्योंकि उन पर यह जुल्म हिंदू कुल में जन्मे, किंतु सेक्यूलरिज्म में दीक्षित हो गए नेता व बुद्धिजीवी ही करते रहे हैं, कोई और नहीं।

कहने को अभी देश में सेक्यूलरिज्म की कम से कम चार परिभाषाएं हैं, यद्यपि कोई वास्तविक नहीं। विभिन्न लोग इच्छानुसार इनका उपयोग करते हैं। एक परिभाषा 1973 में न्यायाधीश एच. आर. खन्ना ने दी कि “राज्य मजहब के आधार पर किसी नागरिक के विरुद्ध पक्षपात नहीं करेगा”। कुछ बाद दूसरी परिभाषा कांग्रेस पार्टी ने दी, “सर्व-धर्म, सम-भाव”। तीसरी परिभाषा भाजपा की, “न्याय सबको, पक्षपात किसी के साथ नहीं”। चौथी एक टिप्पणी है। किंतु सुप्रीम कोर्ट के पूर्व-मुख्य न्यायाधीश एम. एन. वेंकटचलैया की होने के कारण इस का महत्व है। इन के अनुसार “सेक्यूलरिज्म का अर्थ बहुसंख्यक समुदाय के विरुद्ध नहीं हो सकता”। यह टिप्पणी प्रकारांतर स्वीकारती है कि व्यवहार में इस का यही अर्थ हो गया है। यहाँ याद करें कि स्वयं संविधान निर्माता डॉ. अंबेदकर ने भारतीय संविधान को सेक्यूलर नहीं माना था क्योंकि “यह विभिन्न समुदायों के बीच भेद-भाव करती है”।

उपर्युक्त परिभाषाओं में सबसे विचित्र बात यही है कि इन में से किसी को वैधानिक रूप नहीं दिया गया। कांग्रेस ने 1976 में इमरजेंसी के दौरान 42वाँ संशोधन करके, संविधान की प्रस्तावना में ‘सेक्यूलर’ शब्द जबरन जोड़ दिया। किंतु बिना कोई अर्थ दिए। जबरन इस रूप में, कि तब विपक्ष जेल में डाला हुआ था, और प्रेस पर अंकुश था। बाद आई जनता सरकार ने 1978 में 45वें संशोधन द्वारा कांग्रेस वाली परिभाषा को ही वैधानिक रूप देने की कोशिश की। लोक सभा में यह पारित भी हो गया। पर राज्य सभा में कांगेस ने ही इसे पारित नहीं होने दिया!

यह इस का पक्का प्रमाण था कि संविधान की प्रस्तावना में ‘सेक्यूलर’ शब्द गर्हित उद्देश्य से जोड़ा गया था। इसीलिए उसे जान-बूझ कर अपरिभाषित रखा गया। ताकि जब जैसे चाहे, दुरुपयोग किया जाए। यह अन्याय सुप्रीम कोर्ट ने भी दूर नहीं किया। उलटे 1992 में ‘एस. आर. बोम्मई बनाम भारत सरकार’ वाले निर्णय में इसने लिख डाला कि सेक्यूलरिज्म लचीला शब्द है, जिस का अपरिभाषित रहना ही ठीक है। जबकि ऐसा कहना कानून की धारणा के ही विरुद्ध है। कानून का अर्थ ही निश्चित रूप से लागू होने वाला आदेश होता है। पर जो स्पष्ट ही नहीं, वह मनमानी के सिवा और लागू कैसे होता? [विस्तार से जानने के लिए देखें, इस लेखक की पुस्तक ‘भारत में प्रचलित सेक्यूलरवाद’, अक्षय प्रकाशन, दिल्ली]

दुर्भाग्य से राष्ट्रीय चेतना वाले लोगों ने न तो 1978, न बाद में कभी इस गड़बड़ी के विरुद्ध कोई आंदोलन चलाना आवश्यक समझा। वे अपरिभाषित सेक्यूलरिज्म के दूरगामी घातक परिणामों को समझने में विफल रहे। जिस भाजपा को ‘स्यूडो-सेक्यूलरिज्म’ के विरुद्ध लंबे समय से शिकायत थी, उसने भी अपने शासन काल (1998-2004) में सेक्यूलरिज्म को परिभाषित करने पर कोई विचार तक नहीं किया। उल्टे वह ‘हम भी सेक्यूलर’ की होड़ में लग गई। अन्यथा उसने इसे कानूनी रूप से परिभाषित करना-करवाना अपना प्रधान कर्तव्य समझा होता। पर हिंदू समुदाय के गले में फंदे की तरह पड़े इस अस्पष्ट सेक्यूलरिज्म को परिभाषित करने की जरूरत पर उनके हाथ-पैर भी ठंढे हो गए।

यह चिर-परिचित हिंदू भीरुता थी। इसी कारण स्यूडो-सेक्यूलरिज्म के खिलाफ रोने-धोने वाले नेताओं को इस ‘स्यूडो’ को ‘रीयल’ रूप देने का साहस न हुआ। इसी का प्रमाण था कि संविधान कार्यचालन की समीक्षा का आयोग तो बनाया गया, किंतु उस ने भी इस पर कोई अनुशंसा नहीं दी। यह भी हिंदू महानुभावों पर लाक्षणिक टिप्पणी ही है कि इस आयोग के अध्यक्ष वही न्यायमूर्ति एम. एन. वेंकटचलैया थे। स्पष्टतः उन्होंने भी सेक्यूलरिज्म को ‘बहुसंख्या के विरुद्ध प्रयोग किए जाने’ के चलन को रोकने के लिए कुछ करना आवश्यक नहीं समझा!

यह मानना गलत है कि सेक्यूलरिज्म को परिभाषित करने का विधेयक संसद से पास नहीं होता या नहीं होगा। ऐसा विधेयक आने पर, उस का विरोध करने पर भी जो राष्ट्र-व्यापी बहस होगी, उसी में उस की बड़ी सफलता निश्चित है। भारतीय जनता – हिंदू, मुस्लिम दोनों – ही यह देखेगी कि अपरिभाषित सेक्यूलरिज्म राजनीतिक दुष्टताओं की जड़ है। जिस चीज को संविधान और शासन का आधारभूत सिद्धांत कहा जाता है, उसे परिभाषित होने से किस आधार पर रोका जाएगा? एक अर्थ पसंद नहीं तो दूसरा सही, पर कोई पक्का, वैधानिक अर्थ तो होना ही चाहिए। इस से हीला-हवाला करने पर लोगों को समझने में कठिनाई नहीं होगी, कि सेक्यूलरिज्म को अपरिभाषित रखना विभिन्न समुदायों के बीच दूरी को बनाए रखने का औजार है। इसलिए यदि सेक्यूलरिज्म को परिभाषित करने का गंभीर प्रयास हो, तो इस का कोई न कोई कानूनी अर्थ तय करवाना बिलकुल संभव है। यदि प्रयास शुरू में विफल भी हो तब भी उस पर राष्ट्रीय बहस भारतीय समाज को जागृत करेगा।

Leave a Reply

6 Comments on "अपरिभाषित सेक्यूलरिज्म के जलवे : शंकर शरण"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Jeet Bhargava
Guest

सेकुलरिज्म का यह बौद्धिक भ्रष्टाचार कोंग्रेस ने ही पोषित किया है. लेकिन अब जनता धीरे-धीरे समझ रही है. सेकुलरिज्म की पोल खुल रही है. और जरूरत है सेकुलरिज्म की आड़ में हो रहे हिन्दू दमन के प्रति लोगो को जागरुक करने की.

vimlesh
Guest
अतहर खान जी लेखक ने ये बात कही नहीं कही राजनेता इस्लाम के हमदर्द है . (हमदर्द होने का नाटक अवश्य करते है मुस्लमान इनकी नौटंकी को पहचान नहीं पते इसी लिए मुसीबत झेल रहे है ) हा ये बात सच अवश्य है की राजनेता इश्लाम नाम के वोटबैंक को सपने खूब दिखाते है किन्तु जब सुधर की बात आती है तो इस्लाम धर्म के चन्द दलाल धर्म के ठेकेदार मुल्ला मौलवियों का ही विकाश करते है . ( राजनीती में जातिवाद धर्मवाद का मतलब है है इन्शानो के रूप में भेड़ बकरी जिनकी एक खास आदत होती है जिधर… Read more »
Mohammad Athar Khan Faizabad Bharat
Guest
Mohammad Athar Khan Faizabad Bharat

आप के अनुसार राजनेता मुसलमानों के हमदर्द हैं और उनका भला कर रहे है, अगर ऐसा होता तो आज मुसलमानों की हालत दलितों से भी बदतर न होती. नेता मुसलमानों का भला नहीं करते सिर्फ बयानबाजी करते हैं.

मुकेश चन्‍द्र मिश्र
Guest

अब हिन्दुवों को एक नयी क्रांति की जरुरत है इसके बिना इस गाँधी और नेहरु के सेकुलर भारत में सनातन धर्म इतिहास बन जायेगा

SARKARI VYAPAR BHRASHTACHAR
Guest
SARKARI VYAPAR BHRASHTACHAR

यह शक्ति है भ्रष्टाचार की…………जब एक पुलिस अधिकारी(कानून) की ये दुर्गति है तो आम जनता का क्या हाल हो रहा होगा उत्तर प्रदेश में ……..भाई ये तो उ .पी की जनता को सोचना है की हाथी के नजदीक जाना चाहिए या नहीं ….और इस पागल हाथी का क्या करना है…… वह दूर नहीं जब यह पुरे उत्तर प्रदेश को कुचलकर रख देगा……

wpDiscuz